Search

जानें 26 दिसम्बर को बॉक्सिंग डे क्यों कहा जाता है?

26-DEC-2016 15:28

    बॉक्सिंग डे इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैण्ड, कनाडा तथा कुछ अन्य राष्ट्रमंडल देशों में क्रिसमस के एक दिन बाद अर्थात 26 दिसम्बर को मनाया जाता है। इस दिन बैंकों में एवं आम लोगों के लिए छुट्टी रहती है| आयरलैंड में इस दिन को सेंट स्टीफन्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। दक्षिण अफ्रीका में इसे 1994 में सद्भावना दिवस का नाम दिया गया था। कुछ यूरोपीय देशों, विशेष रूप से जर्मनी, पोलैंड, नीदरलैंड्स और नॉर्डिक देशों में 26 दिसंबर को दूसरे क्रिसमस दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस लेख में हम आपको बॉक्सिंग डे के इतिहास और इस दिन आयोजित होने वाली विभिन्न गतिविधियों का विवरण दे रहे हैं|

    आइए सबसे पहले जानते हैं कि बॉक्सिंग डे का इतिहास क्या है?

    "बॉक्सिंग" शब्द की उत्पत्ति के बारे में कोई स्पष्ट जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसके संबंध में कई मत दिए गए हैं परन्तु उनमें से कोई भी पूर्णतया स्वीकार्य नहीं है| यूरोप में मध्ययुग से ही गरीबों एवं जरूरतमंदों को धन या अन्य दान देने की लंबी परंपरा रही है, परन्तु इसके शुरूआत की सटीक जानकारी किसी को नहीं है| कुछ लोग ऐसा मानते हैं कि यह परंपरा रोमन काल/आरंभिक ईसाई काल से प्रारंभ हुई थी| उस समय धातु के बने डिब्बे चर्चों के बाहर रख दिए जाते थे, जिनके माध्यम से सेंट स्टीफेन की दावत के नाम पर भेंट इकट्ठी की जाती थी|

    वर्तमान समय में इंग्लैंड में व्यापारी वर्ग में यह परंपरा है कि वे क्रिसमस के बाद के पहले कार्यदिवस पर पैसों या भेंटों से भरे क्रिसमस डिब्बे इकट्ठे करते हैं| ये डिब्बे सारे साल में किये गए अच्छे कामों का प्रतीक होते हैं। इसका उल्लेख "सैम्युअल पेपी" की डायरी में दिनांक 19 दिसम्बर 1663 को किया गया है| यह रिवाज इंग्लैंड की एक पुरानी परंपरा से संबंधित है। इंग्लैंड के जमींदार क्रिसमस दिवस को सही तरीके से मनाने के उद्देश्य से अपने नौकरों को क्रिसमस के दिन के बजाय 26 दिसम्बर का पूरा अवकाश देते थे ताकि वे (नौकर) अपने परिवारों से मिल सकें| इसके अलावा मालिकों द्वारा अपने प्रत्येक नौकर को एक-एक डिब्बा दिया जाता था जिसमें उपहार, बोनस (या कभी-कभी बचा-खुचा भोजन) होता था| इसी परंपरा के कारण 26 दिसम्बर को "बॉक्सिंग डे" कहा जाता है|

    Jagranjosh

    Image source: blog.beeliked.com

    आइए अब जानते हैं कि विभिन्न देशों में बॉक्सिंग डे पर छुट्टी देने की क्या परंपरा है?

    "बॉक्सिंग डे" एक धर्मनिरपेक्ष अवकाश है जो 26 दिसम्बर को मनाया जाता है| चूंकि यह तिथि क्रिसमस के अगले दिन पड़ता है जोकि "सेंट स्टीफेन्स दिवस" भी है अतः यह एक धार्मिक अवकाश भी है| यदि 26 दिसम्बर को रविवार हो तो कुछ स्थानों पर "बॉक्सिंग डे" अगले दिन अर्थात 27 दिसम्बर को मनाया जाता है। इंग्लैंड में, जहाँ बॉक्सिंग डे पर बैंकों में अवकाश होता है, यदि बॉक्सिंग डे शनिवार को पड़ जाये तो उसके बदले में आने वाले सोमवार को अवकाश दिया जाता है। परन्तु यदि बॉक्सिंग दिवस रविवार को पड़ जाए अर्थात शनिवार को क्रिसमस हो तो क्रिसमस की छुट्टी सोमवार 27 दिसम्बर को होती है और बॉक्सिंग डे की छुट्टी मंगलवार 28 दिसम्बर को होती है।

    विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस

    स्कॉटलैंड में, 1974 से "बॉक्सिंग डे" को एक अतिरिक्त अवकाश के रूप में स्वीकार गया है। यह प्रावधान ‘बैंकिंग एंड फाइनेंशियल डीलिंग कानून 1971’ के अंतर्गत राजकीय घोषणा के आधार पर किया गया है।

    आयरलैंड में (जब आयरलैंड यूनाइटेड किंगडम ऑफ ग्रेट ब्रिटेन का हिस्सा था) ‘बैंक होलीडेज एक्ट 1871’ के तहत ‘सेंट स्टीफेन्स के दावत दिवस’ 26 दिसम्बर को एक जन अवकाश के रूप में निर्धारित किया गया था| आयरलैंड के स्वाधीनता संग्राम से बॉक्सिंग डे नाम केवल उत्तरी आयरलैंड में ही प्रयुक्त होता है, जो कि इंग्लैंड का एक हिस्सा है। वहां पर बॉक्सिंग दिवस शेष इंग्लैंड के समान ही एक जन अवकाश है जिसे अगले दिन अर्थात 27 दिसम्बर को भी मनाया जा सकता है।

    ऑस्ट्रेलिया में, "बॉक्सिंग डे" पर सार्वजनिक छुट्टी नहीं होती है| इसके बावजूद दक्षिण ऑस्ट्रेलिया (ऑस्ट्रेलिया का एक प्रान्त) में क्रिसमस के बाद के पहले कार्यदिवस या क्रिसमस की छुट्टी के बाद के पहले कार्यदिवस को एक सार्वजनिक छुट्टी के रूप में "उद्घोषणा दिवस" के रूप में मनाया जाता है|

    न्यूजीलैंड में, "बॉक्सिंग डे" पर संवैधानिक छुट्टी होती है और इस दिन अपने कर्मचारियों को काम करने के लिए मजबूर करने वाली कंपनियों या मालिकों पर जुर्माना लगाने का प्रावधान है|

    कनाडा के कुछ प्रान्तों में, "बॉक्सिंग डे" एक संवैधानिक अवकाश है जिसे हमेशा 26 दिसम्बर को ही मनाया जाता है। कनाडा के वे प्रान्त जहां "बॉक्सिंग डे" एक अनिवार्य अवकाश दिवस है, यदि यह शनिवार या रविवार को पड़ जाए तो उसके बदले अगले सप्ताह अवकाश प्रदान किया जाता है|

    संयुक्त राज्य अमेरिका में, 26 दिसंबर को कुछ राज्यों मुख्य रूप से दक्षिणी राज्यों जैसे- कान्सास, केंटकी, उत्तरी कैरोलिना, दक्षिण कैरोलिना और टेक्सास में कर्मचारियों को छुट्टी दी जाती है, लेकिन इसे "बॉक्सिंग डे" के रूप में नहीं जाना जाता है|  

    आइए अब जानते हैं कि "बॉक्सिंग डे" पर विभिन्न देशों में कौन-कौन सी खेल प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है?

    "बॉक्सिंग डे" के अवसर पर कॉमनवेल्थ देशों जैसे घाना, यूगांडा, मलावी, जाम्बिया, तंजानिया आदि में पुरस्कार वाली लड़ाई प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है और पुरस्कार स्वरूप "बॉक्स" दिए जाते हैं जिसके अन्दर पुरस्कार होता है| यही प्रथा गयाना (वेस्टइंडीज) व इटली में भी प्रचलित है|

    इंग्लैंड, आयरलैंड व स्कॉटलैंड में यह एक प्रथा बन चुकी है कि प्रीमियर लीग, स्कॉटिश प्रीमियर लीग तथा आयरिश प्रीमियर लीग एवं रग्बी फुटबॉल लीग के प्रमुख मैच "बॉक्सिंग डे" को आयोजित किये जाते हैं| इस प्रथा के अनुसार "बॉक्सिंग डे" मैच स्थानीय प्रतिद्वंदियों के बीच रखा जाता है। प्रारंभ में इसकी शुरूआत इसलिए हुई क्योंकि क्रिसमस के तुरंत बाद स्थानीय टीम व प्रशंसकों को मैच के लिए दूर अन्य शहरों में न जाना पड़ें| आज "बॉक्सिंग डे" खेल कैलेंडर का अहम दिन बन गया है|

    इंग्लैंड में 'सरे' के "केम्प्टन पार्क रेसकोर्स" में "बॉक्सिंग डे" पर "सम्राट जॉर्ज VI घुड़दौड़" का आयोजन किया जाता है। चैल्टनहैग गोल्ड कप के बाद यह इंगलैंड की सबसे प्रतीष्ठित घुड़दौड़ है।

    Jagranjosh

    Image source: The Telegraph

    ऑस्ट्रेलिया में इस दिन मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड पर "बॉक्सिंग डे टेस्ट" का तथा सिडनी में "सिडनी टू होबार्ट नौकादौड़" का आयोजन किया जाता है।

    कनाडा में 26 दिसम्बर को आईआईएचएफ (IIHF) की विश्व अंडर 20 (आइस हॉकी) प्रतियोगिता की शुरूआत होती है| कनाडा में यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण खेलदिवस है जिसकी तुलना अक्सर अमरीका के सुपर बॉल से की जाती है।

    26 दिसम्बर को आइस हॉकी का "स्पेंग्लर कप" का आरंभ डावोस, स्विट्ज़रलैण्ड में होता है। इसमें एचसी डावोस, टीम कनाडा तथा अन्य प्रमुख यूरोपीय टीमें भाग लेती हैं।

    राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    Newsletter Signup

    Copyright 2018 Jagran Prakashan Limited.
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK