विश्व पर्यावास दिवस

यह दिवस दुनिया भर में अक्टूबर के महीने में हर साल प्रथम सोमवार को मनाया जाता है. वर्ष 1985 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अक्टूबर में प्रथम सोमवार को हर साल विश्व पर्यावास दिवस को मनाने की  घोषणा की थी. इस महान दिन का मूल उद्देश्य मानवता के मूल अधिकार की पहचान करने और उन्हें पर्याप्त आश्रय देना था. इसके अलावा गरीबी को समाप्त करने और उसमें सुधर करने के लिए जमीनी स्तर पर कार्रवाई के लिए प्रोत्साहित करना है.

संक्षिप्त इतिहास

पहली बार यह दिवस वर्ष 1986 में आयोजित किया गया था, जबकि इस दिवस का मूल मोटो “आवास मेरा अधिकार है” था. इस आयोजन का स्थल नैरोबी शहर था. इसके अलावा इस आयोजन के हाल-फ़िलहाल में निम्नलिखित मोटो रहे हैं: "बेघर लिए आश्रय"; (1987) "हमारा पड़ोस" (1995); "भविष्य के शहर" (1997); "सुरक्षित शहर '(1998); "शहरी शासन में महिला" (2000); "शहरों के लिए पानी और स्वच्छता" "शहरों के बिना मलिन बस्तियों" (2001) और (2003).

कौन सी गतिविधियां विश्व पर्यावास दिवस के दौरान आयोजित की जाती हैं?

विश्व पर्यावास दिवस का आयोजन विश्व के कई देशों में किया जाता है, जैसे भारत, चीन, पोलैंड, मेक्सिको, युगांडा, अंगोला और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे कई देशों में इसे मनाया जाता है. दुनिया भर में इसका आयोजन किया जाता है, ताकि विश्व भर में तीव्र नगरीकरण के बढ़ते हुए कारण और उनका वातावरण पर प्रभाव और गरीवी निवारण में उनकी भूमिका का पता लग सके. जैसे अवार्ड समारोह का आयोजन ("आवास स्क्रॉल ऑफ ऑनर"). यह पुरस्कार अति-महत्वपूर्ण पुरस्कारों की सूची में शामिल है. प्रतिवर्ष संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कई विषयों का चुनाव किया जाता है. चुने गए विषय वस्तुतः पर्यावास के लिए महत्वपूर्ण तथ्य होते हैं और उसके विकास में अत्यंत जरुरी होते हैं. इन विषयों के चुनाव के पीछे मूल उद्देश्य विश्व भर में लोगो को पर्यावास उपलब्ध कराना और उनका बेहतर विकास करना होता है और सतत विकास की नीतियों को बढ़ावा देना होता है. संयुक्त राष्ट्र पर्यावास मिशन के अन्तरगत विविध तथ्य समाहित होते हैं, जैसे-

  •  सभी के लिए सुरक्षित और स्वस्थ रहने वाले पर्यावरण का विकास विशेष रूप से बच्चों के लिए.
  • पर्याप्त और टिकाऊ परिवहन और ऊर्जा
  • शहरी क्षेत्रों में हरियाली की स्थापना और पौधरोपण की व्यवस्था.
  • शुद्ध और सुरक्षित पीने के पानी के साथ ही स्वच्छता.
  • सांस लेने के लिए ताजा और प्रदूषणरहित हवा
  • लोगों के लिए पर्याप्त रोजगार के अवसर
  • झुग्गी में रहने वाले लोगो में सुधार और शहरी योजना में वृद्धि.
  • अपशिष्ट पदार्थ की पुनरावृत्ति सहित बेहतर कचरा प्रबंधन

विश्व पर्यावास दिवस के लिए लोगो क्या है?

विश्व पर्यावास दिवस का प्रमुख लोगो  गोल होता है, जिसमें जैतून की पत्तियां चक्राकार रूप में एक गोले को घेरे रहती हैं और इस गोले के अन्दर एक आदमी/महिला अपने दोनों हाथों को फैलाये हुए रहती है. इस चित्र में पुरुष/महिला के खड़े होने की स्थिति से मालूम होता है की वह एक त्रिकोण के समक्ष के खड़ा/खड़ी है. इस चित्र के बिल्कुल नीचे यूएन हैबिटेट लिखा रहता है. “सभी लोगो को आवास” स्लोगन इसके नीचे लिखा रहता है, और कभी-कभी ठीक उसके सामने लिखा रहता है.

विश्व पर्यावास दिवस के बारे में कुछ तथ्य

  1. विश्व पर्यावास दिवस एक वैश्विक अनुपालन है नकि एक सार्वजनिक अवकाश है.
  2. हर साल यूएन हैबिटेट प्रतिवर्ष के लिए निर्धारित थीम को प्रचार-प्रसार करने और पर्यावास को बढ़ावा देने के सन्दर्भ में जागरूकता को बढ़ाने के लिए गतिविधियों का आयोजन करता है, जिसमें हिस्सा लेने के लिए केंद्र सरकार, स्थानीय सरकार, नागरिक समाज, निजी क्षेत्र और मीडिया उसके सहयोगियों के रूप में कार्य करते हैं.
  3. "पर्यावास स्क्रॉल ऑफ ऑनर" पुरस्कार, संयुक्त राष्ट्र के मानव बस्ती कार्यक्रम (यूएनएचएसपी) द्वारा वर्ष 1989 से शुरू किया गया था. इस पुरस्कार को दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित मानव बस्ती पुरस्कार के तौर पर माना जाता है. इस पुरस्कार का मूल उद्देश्य ऐसे कार्यों को प्रारंभ करना है जो संघर्षरत और बेघर लोगों की पीड़ा को न केवल समझ सके बल्कि उन्हें दूर भी कर सके. इसके अलावा मानव बस्तियों के पुनर्निर्माण में सहयोग कर सके और शहरी जीवन की गुणवत्ता के विकास में सहयोग दे सके.

 

Advertisement

Related Categories

Popular

View More