दुनिया के 10 ऐसे देश जहाँ शस्त्र या हथियार रखना कानूनन सबसे आसान है?

इस लेख में स्माल आर्म्स सर्वे के द्वारा किये गए एक सर्वे का ब्यौरा दिया गया है. यह सर्वे जून 2018 में पब्लिश हुआ था और इसमें 2017 के आंकड़ों को शामिल किया गया है. यह रिपोर्ट इस बात की ओर इशारा करती है कि दुनिया में हथियारों की होड़ बढ़ती जा रही है क्योंकि वर्ष 2006 में दुनिया में 650 मिलियन हथियार थे जो कि 2017 में बढ़कर लगभग 857 मिलियन हो गये हैं. इस रिपोर्ट में रजिस्टर्ड और अन रजिस्टर्ड दोनों प्रकार की बंदूकों को शामिल किया गया है.

इस सर्वे के मुख्य तथ्य इस प्रकार हैं;

1. दुनिया में वर्ष 2017 के अंत तक एक अरब से ज्यादा बंदूकें (firearms) थीं. इन हथियारों में सबसे ज्यादा 857 मिलियन (85%) सिविलियन लोगों के हाथों में थीं, 133 मिलियन (13%) सैन्य शस्त्रागार में हैं और 23 मिलियन (2%) कानून प्रवर्तन एजेंसियों के अधिकार में हैं.

(टॉप 25 देशों में हथियारों की संख्या इस प्रकार है)

जानें अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन क्या है?

2.  दुनिया के कुल शस्त्रों अर्थात बंदूकों में से केवल लगभग 100 मिलियन (12 प्रतिशत) ही रजिस्टर्ड हैं.

3. विश्व में शस्त्र वितरण में भी काफी असमानताएं हैं जैसे अमेरिका में 100 नागरिकों के बीच 120.5 शस्त्र या बंदूकें हैं. इसके उलट इंडोनेशिया, जापान, मलावी और कई प्रशांत द्वीप देशों में 100 नागरिकों के बीच केवल 1 शस्त्र है.

आइये इस विस्तार ने जानते हैं कि किन देशों में प्रति व्यक्ति सबसे ज्यादा हथियार हैं. ध्यान रहे कि इस लेख में केवल उन हथियारों के बारे में बताया जा रहा है जो कि सिविलियन्स के पास हैं.

1. संयुक्त राज्य अमेरिका

ऐसा कहना ठीक होगा कि अब अमेरिका की अर्थव्यवस्था केवल हथियारों की बिक्री के ऊपर निर्भर होकर रह गयी है. अब यहाँ की अर्थव्यवस्था टीवी, फ्रिज और एयर कंडीशनर और अन्य उत्पादों की बिक्री के दम पर नहीं बल्कि हथियारों की बिक्री पर आकर टिक गयी है.

इस देश में विश्व में प्रति व्यक्ति सबसे ज्यादा हथियार हैं. यहाँ पर 100 नागरिकों के बीच 120.5 शस्त्र या बंदूकें हैं. वर्ष 2018 में अमेरिका की आबादी 32.67 करोड़ है जबकि यहाँ पर शास्त्रों की संख्या औसतन 39.33 करोड़ है. मतलब इस देश में यहाँ की जनसंख्या से भी अधिक यहाँ पर शस्त्रों की संख्या है.

यही कारण है कि इस देश में आये दिन लोग सामूहिक रूप से एक दूसरे की हत्या करते रहते हैं. सबसे चौकाने वाली बात यह है कि इस देश में बच्चे भी पिस्तौल लेकर स्कूल जाते हैं.

2. यमन: यमन अरब प्रायद्वीप के दक्षिण-पश्चिमी कोने पर स्थित एक स्वतंत्र राष्ट्र है. यमन की सीमा उत्तर में सऊदी अरब, पश्चिम में लाल सागर, दक्षिण में अरब सागर और अदन की खाड़ी और पूर्व में ओमान से मिलती है.

इस देश की वर्तमान जनसँख्या 2.90 करोड़ है जबकि यहाँ पर शास्त्रों की संख्या 1.49 करोड़ है. यहाँ पर 100 नागरिकों के बीच औसतन 52.8 शस्त्र हैं. यह देश पूरी दुनिया में सबसे जयादा हथियार रखने के मामले में 9 वें स्थान पर आता है.

3. मॉन्टेनीग्रो: यह दक्षिण-पूर्वी यूरोप का एक देश है. वर्ष 2018 में इस देश की जनसंख्या 629,219 थी. इस देश में 100 निवासियों के बीच औसतन 39.1 हथियार हैं. अगर कुल हथियारों की संख्या के हिसाब से देखा जाये तो इस देश में इतने कम हथियार हैं कि इसका नाम दुनिया में 25 सबसे ज्यादा शस्त्र रखने वाले देशों में भी नहीं आता है लेकिन कम जनसँख्या होने के कारण यह दुनिया का तीसरा देश है जहाँ पर प्रति व्यक्ति सबसे ज्यादा हथियार हैं.

4. सर्बिया: सर्बियाई, यूरोप में स्थित एक देश है. ये पुराने यूगोस्लाविया क एक हिस्सा हुआ करता था. इस में देश हर 100 लोगों के बीच औसतन 39.1 शस्त्र या हथियार हैं. इस देश की कुल जनसँख्या 8,762,027 है. इस देश में भी कुल बंदूकों या शस्त्रों की संख्या बहुत अधिक नहीं है लेकिन फिर भी प्रति व्यक्ति की गणना के हिसाब से इस देश में ज्यादा हथियार हैं.

Image source:gettyimages

5. कनाडा: कनाडा, उत्तरी अमेरिका का एक देश है जिसमें दस प्रान्त और तीन केन्द्र शासित प्रदेश हैं. यह अटलांटिक से प्रशान्त महासागर तक और उत्तर में आर्कटिक महासागर तक फैला हुआ है. वर्तमान में इस देश की जनसंख्या 36.95 मिलियन है. इस देश में हर 100 निवासियों के बीच औसतन 34.7 शस्त्र हैं. इस देश में लीगल और इलीगल दोनों प्रकार के कुल 12,700,000 शस्त्र हैं जो कि विश्व में 12 वें नम्बर पर है.


Image source:gettyimages

6. उरुग्वे: यह दक्षिण अमेरिका के दक्षिणीपूर्वी हिस्से में स्थित एक देश है. इस देश की आबादी करीबन 35 लाख है. इस देश में 100 निबासियों के बीच औसतन 34.7 शस्त्र हैं. इस देश का नाम भी सबसे ज्यादा अधिकार रखने वाले टॉप 25 देशों में नहीं आता है.

7. साइप्रस: साइप्रस आधिकारिक तौर पर साइप्रस गणतंत्र कहा जाता है. पूर्वी भूमध्य सागर पर ग्रीस के पूर्व, लेबनान, सीरिया और इसराइल के पश्चिम, मिस्र के उत्तर और तुर्की के दक्षिण में स्थित एक यूरेशियन द्वीप देश है. साइप्रस, भूमध्य का तीसरा सबसे बड़ा द्वीप है और लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, जहां प्रति वर्ष 2.4 मिलियन से अधिक पर्यटक आते हैं. इस देश की कुल आबादी केबल लगभग 12 लाख है. इस देश में प्रति 100 व्यक्तियों के बीच में औसतन 34 शस्त्र हैं.

8. फ़िनलैंड: क्षेत्रफल के हिसाब से यह यूरोप का आठवां सबसे बड़ा और जनघनत्व के आधार पर यूरोपीय संघ में सबसे कम आबादी वाला देश हैं. इसे झीलों का देश भी कहा जाता है. गर्मियों के समय रात 10 बजे के आस-पास तो ऐसा लगता है कि जैसे अभी-अभी शाम हुई हैं और रात 12 बजे के बाद कुछ अंधेरा होता है. इस देश की आबादी लगभग 5.54 मिलियन है. इस देश में प्रति 100 लोगों पर औसतन 32.4 शस्त्र या बंदूकें हैं.

9. लेबनॉन:  आधिकारिक रूप से लेबनॉन गणराज्य, पश्चिमी एशिया में भूमध्य सागर के पूर्वी तट पर स्थित एक देश है. इस देश की कुल आबादी अभी 6.09 मिलियन है जो कि दिल्ली की कुल आबादी (18.6 मिलियन) का लगभग एक तिहाई है. यहाँ 60 प्रतिशत लोग मुस्लिम हैं जिनमें शिया और सुन्नी का लगभग समान हिस्सा है और लगभग 38 प्रतिशत ईसाई हैं. हथियारों की होड़ के मामले में यह देश बहुत आगे है और यहाँ पर हर 100 निवासियों पर 31.9 बंदूकें हैं.

10. आइसलैंड: आइसलैण्ड या आइसलैण्ड गणराज्य उत्तर पश्चिमी यूरोप में उत्तरी अटलांटिक में ग्रीनलैंड, नार्वे के मध्य बसा एक द्विपीय देश है. यह देश मानव विकास सूचकांक के बहुत ही ऊंचे स्तर पर कायम रहता है. वर्ष 2017 में मानव विकास सूचकांक में इस देश की रैंक 6 वीं थी. वर्तमान में इस देश की कुल आबादी केवल 3.37 लाख है. हथियार रखने के मामले में यह देश 10 वें नम्बर पर है. यहाँ पर हर लोगों के बीच औसतन 31.7 हथियार हैं.

हथियारों की यह होड़ मानवता के विकास के लिए बहुत ही खतरनाक है. अमेरिका में तो हालात यहाँ तक बिगड़ गए हैं कि बच्चे स्कूलों में भी पिस्तौल लेकर जाते हैं और यदि टीचर उन्हें डांटते हैं तो वे उन्हें गोली भी मार देते हैं.

ऊपर दिए गए सभी देशों में इतनी बड़ी मात्रा में हथियार इस कारण बढ़ गए हैं क्योंकि इन देशों में आर्म्स लाइसेंस लेने की जरूरत नहीं पड़ती है और जिन देशों में आर्म्स लाइसेन्स लेना भी पड़ता है वहां पर नियम इतने शिथिल हैं कि कोई भी व्यक्ति अपनी परचेजिंग पॉवर के अनुसार हथियार या शस्त्र खरीद सकता है. इन देशों की सरकारों को निश्चित रूप से इस कुप्रथा को रोकने के लिए सख्त नियम बनाने होंगे.

विश्व में सबसे खतरनाक शहर कौन से हैं?

दुनिया के किन देशों में आयकर नही लगता है?

Advertisement

Related Categories

Popular

View More