वस्तु एवं सेवा कर (GST) के बारे परीक्षोपयोगी 20 तथ्य

वस्तु एवं सेवा कर (GST) एक अप्रत्यक्ष कर है जिसे भारत में 1 जुलाई 2017 से लागू कर दिया गया है. इस कर को लागू करने का मुख्य उद्येश्य देश में एक सामान कर व्यवस्था लागू करना है. GST के लागू होने से देश में कर चोरी कम होगी जिसके कारण सरकार की ‘कर आय’ में बहुत वृद्धि होगी. इस लेख में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिए वस्तु एवं सेवा कर (GST) से सम्बंधित 20 महत्वपूर्ण तथ्य दिए जा रहे हैं.
1. वस्तु एवं सेवा कर (GST) को सबसे पहले फ़्रांस में लागू किया गया था.
2. भारत का GST कनाडा के मॉडल पर आधारित है.
3. भारत में GST विजय केलकर समिति की सिफारिस के आधार पर लागू किया गया था.
4. भारत में GST 1 जुलाई 2017 से लागू किया गया था
5. GST को लागू करने वाला सबसे पहला राज्य असम था.
6. GST का ब्रांड एम्बेसडर अमिताभ बच्चन को बनाया गया है.
7. GST को अनुच्छेद 279 के तहत लागू किया गया है.
8. GST काउंसिल का गठन भारत के राष्ट्रपति ने सितम्बर 2016 में किया था.
9. इस समय GST काउंसिल के अध्यक्ष वित्त मंत्री अरुण जेटली हैं.
10. इस समय GST काउंसिल में 31 सदस्य हैं.
11. GST को 101वें संविधान संशोधन अधिनियम, 2016 के द्वारा लागू किया गया है.
12. GST, 122 वां संवैधानिक संशोधन बिल था.
13. GST बिल को राष्ट्रपति ने अपनी मंजूरी 8 सितम्बर 2016 को दी थी.
14. GST बिधेयक के पक्ष में कुल 336 वोट और विपक्ष में 11 वोट पड़े थे.
15. GST चोरी करने वालों के लिए 5 वर्ष की सजा का प्रावधान है.
16. GST में 5 प्रकार की कर दरें हैं, 0%, 5%, 12%, 18% और 28%.


17. GST एक अप्रत्यक्ष कर है.
18. GST के लागू हो जाने के कारण, बिक्री कर, सेवा कर, सीमा शुल्क, उत्पादन शुल्क, वैट, चुंगी कर ख़त्म हो जायेंगे.
19. सरकार द्वारा GST को लागू करने का सबसे बड़ा कारण देश की कर प्रणाली में एकरूपता लाना है.
20. GST लागू हो जाने के बाद देश में कर के ऊपर कर लगने की प्रणाली का अंत हो जायेगा.
ऊपर दिए गए सभी तथ्य किसी न किसी प्रतियोगी परीक्षा में अवश्य ही पूछे जाते हैं इसलिए इन सभी तथ्यों को ध्यान से पढना बहुत जरूरी है. उम्मीद है कि ये तथ्य आपकी सफलता में सहायक होंगे.

GST बिल क्या है, और यह आम आदमी की जिंदगी को कैसे प्रभावित करेगा?

Advertisement

Related Categories