मंगल ग्रह या लाल ग्रह के बारे में 21 रोचक तथ्य

मंगल ग्रह को “फेरिक आक्साइड” की उपस्थिति के कारण “लाल ग्रह” भी कहा जाता है. हमारे सौर मंडल में मंगल ग्रह का स्थान सूर्य से चौथा है। पूरे सौरमंडल में यह ग्रह दूसरा सबसे छोटा ग्रह है। मंगल का वायुमंडल इतना कमज़ोर है कि अंतरिक्ष से मंगल ग्रह पर रेडियोएक्टिव किरणों की बमबारी सी होती रहती है. मंगल पर ऑक्सीजन भी बेहद कम (केवल 5%) है, बकाया की कार्बन डाई ऑक्साइड गैस है. हालांकि वैज्ञानिकों को अभी भी लगता है कि धरती के कुछ बैक्टीरिया मंगल ग्रह पर ज़िंदा रह सकते हैं. इसीलिए वैज्ञानिक धरती के बैक्टीरियाओं की लिस्ट बना रहे हैं जो कि मंगल के बेहद ठंडे माहौल और जानलेवा विकिरण में भी जिन्दा रह सकें. इस लेख में हम मंगल ग्रह से संबंधित 21 रोचक तथ्य बता रहे हैं.

1. यूनान के लोग मंगल को युद्ध का देवता मानते हैं.

Image source:Crystalinks
2. मंगल ग्रह की सतह का लाल- नारंगी रंग लौह आक्साइड (फेरिक आक्साइड) के कारण है, जिसे सामान्यतः हैमेटाईट या जंग के रूप में जाना जाता है.

Image source: Universe Today
3. सिलिकॉन और ऑक्सीजन के अलावा मंगल की पर्पटी में बहुत बड़ी मात्रा में पाए जाने वाले तत्व हैं: लोहा, मैग्नेशियम, एल्युमिनियम, कैल्सियम और पोटेशियम.
4. मंगल ग्रह की सतह मुख्यतः थोलेईटिक बेसाल्ट की बनी है.
जानें सौर्य ऊर्जा संयंत्र लगवाने पर सरकार कितनी सब्सिडी देती है
5. मंगल पर महासागर नहीं है, इसलिए कोई 'समुद्र स्तर' भी नहीं है.
6. मंगल का वायुमंडल 95% कार्बन डाइऑक्साइड, 3% नाइट्रोजन, 1.6% आर्गन से बना हैं और ऑक्सीजन और पानी के निशान शामिल हैं.


Image source:JPL – NASA
7. मंगल का औसत तापमान-55 डिग्री सेल्सियस है जबकि सर्दियों के दौरान यहाँ पर तापमान -87 डिग्री सेल्सियस और गर्मियों में -5 डिग्री सेल्सियस पर आ जाता है.


Image source:bbc
8. मंगल पर वातावरण का दबाव धरती की तुलना में बेहद कम है इसलिए वहां जीवन बहुत मुश्किल है.
9. मंगल की सतह पर धूल भरे तूफ़ान उठते रहते हैं, कभी-कभी ये तूफ़ान पूरे मंगल को ढक लेते हैं.


Image source:google
10. मंगल को पृथ्वी से नंगी आँखों से देखा जा सकता है.
11. यह ग्रह पृथ्वी की तुलना में सूर्य से 1.52 गुना अधिक दूर है, परिणामस्वरूप मात्र 43% सूर्य प्रकाश की मात्रा ही मंगल पर पहुँच पाती है।


Image source:Space.com
12. मंगल का अक्षीय झुकाव 25.19 डिग्री है, जो कि पृथ्वी के अक्षीय झुकाव से थोडा अधिक है.
अर्थ आवर (Earth Hour) क्या है और यह हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है
13. मंगल का एक दिन 24 घंटे से थोड़े ज़्यादा का होता है.
14. मंगल की ऋतुएँ पृथ्वी के जैसी है, हालांकि मंगल पर ये ऋतुएँ पृथ्वी पर से दोगुनी लम्बी है.
15. मंगल के दो चंद्रमा हैं. इनके नाम फ़ोबोस और डेमोस हैं. फ़ोबोस. डेमोस से थोड़ा बड़ा है. ये दोनों छोटे और अनियमित आकार के हैं.


Image source:El blog de Daniel Marín
16. फ़ोबोस धीरे-धीरे मंगल की ओर झुक रहा है, हर 100 साल में यह मंगल की ओर 1.8 मीटर झुक जाता है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि 5 करोड़ साल में फ़ोबोस या तो मंगल से टकरा जाएगा या फिर टूट जाएगा और मंगल के चारों ओर एक घेरा (ring) बना लेगा.
17. मंगल, पृथ्वी के व्यास का लगभग आधा है परन्तु यह पृथ्वी से कम घना है.
18. फ़ोबोस पर गुरुत्वाकर्षण धरती के गुरुत्वाकर्षण का एक हज़ारवां हिस्सा है. इसे कुछ यूं समझा जाए कि अगर धरती पर किसी व्यक्ति का वज़न 68 किलोग्राम है तो उसका वज़न फ़ोबोस पर सिर्फ़ 68 ग्राम होगा.
19. मंगल का गुरुत्वाकर्षण धरती के गुरुत्वाकर्षण का एक तिहाई है, यदि पृथ्वी पर किसी व्यक्ति का वजन 100 किलोग्राम है तो मंगल पर कम गुरुत्वाकर्षण के कारण मात्र 37 किलोग्राम ही रह जायेगा.


Image source:Space Flig
20. मंगल का गुरुत्वाकर्षण धरती के गुरुत्वाकर्षण का एक तिहाई है. इसका मतलब यह है कि मंगल पर कोई चट्टान अगर गिरे तो वह धरती के मुकाबले बहुत धीमी रफ़्तार से गिरेगी.
21. अपनी भौगोलिक विशेषताओं के अलावा, मंगल का घूर्णन काल और मौसमी चक्र पृथ्वी के समान हैं.
सारांश रूप में यह कहना ठीक होगा कि मनुष्य को अपने ग्रह पृथ्वी के वातावरण को और अधिक मानवीय बनाना होगा ताकि उसे किसी अन्य ग्रह पर जाकर विपरीत हालातों में रहने के लिए मजबूर न होना पड़े.

ऐसे 8 काम जो आप पृथ्वी पर कर सकते हैं लेकिन अन्तरिक्ष में नही

Related Categories

Popular

View More