Are you worried or stressed? Click here for Expert Advice
Next

जानें क्या है ई-रुपी (e-RUPI), इसके लाभ और ये कैसे काम करता है?

Arfa Javaid

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अगस्त 2021 को शाम 4:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन 'ई-रुपी' का शुभारंभ किया। यह एक व्यक्ति और उद्देश्य-विशिष्ट डिजिटल भुगतान समाधान है। ई-रुपी (e-RUPI) का उद्देश्य पीएम मोदी के डिजिटल भारत के निर्माण के दृष्टिकोण को आगे ले जाना है।

Launching e-RUPI. Watch. https://t.co/JeQo93yZXM

— Narendra Modi (@narendramodi) August 2, 2021

ई-रुपी (e-RUPI) क्या है?

ई-रुपी (e-RUPI) डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित साधन है। यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जिसे लाभार्थियों के मोबाइल पर भेजा जा सकता है। यह एक निर्बाध एकमुश्त भुगतान तंत्र है। उपयोगकर्ता कार्ड पेमेंट ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बगैर ही वाउचर की राशि को प्राप्त करने में सक्षम होंगे। 

ई-रुपी (e-RUPI) किसने बनाया है?

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर ई-रुपी प्लेटफॉर्म विकसित किया है।

ई-रुपी (e-RUPI) के लाभ

1- ई-रुपी के उपयोगकर्ता सेवा प्रदाता पर कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग या डिजिटल भुगतान ऐप का उपयोग किए बिना इलेक्ट्रॉनिक वाउचर को भुना सकते हैं।

2- ई-रुपी सेवाओं के प्रायोजकों को बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं से जोड़ेगा।

3- वाउचर यह सुनिश्चित करेगा कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को भुगतान किया जाए।

4- प्री-पेड होने के कारण, यह बिना किसी मध्यस्थ की आवश्यकता के प्रदान की गई सेवा के लिए समय पर भुगतान का आश्वासन देता है।

5- ई-रुपी के एक क्रांतिकारी पहल होने की उम्मीद है क्योंकि यह कल्याणकारी सेवाओं की लीक-प्रूफ डिलीवरी सुनिश्चित करेगा।

कहां हो सकता है (e-RUPI) का इस्तेमाल?

1- यह आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जैसी योजनाओं के तहत विभिन्न मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं और टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों और दवाओं और निदान के तहत दवाएं और पोषण सहायता प्रदान करने के लिए योजनाओं के तहत सेवाएं प्रदान करने के लिए भी उपयोगी होगा।

2- इस इलेक्ट्रॉनिक वाउचर से निजी क्षेत्र को भी लाभ होगा क्योंकि वे इन्हें अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के एक भाग के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

जानें कौन सा देश COVID-19 वैक्सीन की तीसरी डोज देने वाला पहला देश बना

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश

Related Categories

Live users reading now