हिमा दास: जीवनी और अंतर्राष्ट्रीय रिकॉर्ड

हिमा दास के बारे में व्यक्तिगत जानकारी:
पूरा नाम: हिमा दास
पिता का नाम: रोनित दास (किसान)
माँ का नाम: जोनाली दास
जन्म तिथि और स्थान: 9 जनवरी 2000 (उम्र 19), धींग, नागांव, असम,
ऊंचाई: 167 सेमी (5 फीट 6 इंच)
वजन: 52 किलो
शिक्षा: मई 2019 में असम उच्च माध्यमिक शिक्षा परिषद से 12 वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण
निक नाम: धींग एक्सप्रेस और गोल्डन गर्ल
वजन: 52 किलो (115 पौंड)
खेल: ट्रैक और मैदान
इवेंट: 100 मीटर, 200 मीटर, 300 मीटर और 400 मीटर
व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड:
 100 मीटर - 11.74 सेकंड (2018)
200 मीटर - 23.10 सेकंड (2018)
400 मीटर - 50.79 सेकंड (2018)
कोच
1. निप्पन दास
2. नबजीत मालाकार
3. गैलिना बुखारीना
एडिडास की ब्रांड एंबेसडर;
जैसा कि हम जानते हैं कि नए एथलीटों की मदद करने में एडिडास बहुत ही खास भूमिका अदा करता है.अतः खिलाडियों को अपने करियर के चरम पर पहुंचने में सक्षम बनाने के लिए एडिडास का एक अविश्वसनीय ट्रैक रिकॉर्ड है.

सितंबर 2018 में हिमा दास ने स्पोर्ट्स दिग्गज एडिडास के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. कंपनी ने एक बयान में कहा कि हिमा दास को अब रेसिंग और प्रशिक्षण जरूरतों के लिए एडिडास की तरफ से सर्वश्रेष्ठ सेवाएँ दी जाएँगी.

सूत्रों के अनुसार, हिमा को एडिडास से 10 से 15 लाख प्रति वर्ष मिलने की उम्मीद है. इसके अलावा एडिडास के द्वारा उसकी रेसिंग और ट्रेनिंग पर आने वाले खर्चों को भी वहन किया जायेगा.

महेंद्र सिंह धोनी: बल्लेबाज, कप्तान और विकेट कीपर के रूप में अंतरराष्ट्रीय रिकार्ड्स
हिमा दास की हालिया सफलतायें:
हिमा दास ने एक महीने से भी कम समय में अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में 5 स्वर्ण पदक जीते हैं. उनके रिकॉर्ड की सूची इस प्रकार है;
1. जुलाई 2, 2019 को: पोलैंड में आयोजित पॉज़्नान एथलेटिक्स ग्रैंड प्रिक्स में उन्होंने 200 मीटर गोल्ड जीता; 23.65 सेकंड का समय लिया.
2. जुलाई 7, 2019 को; उसने पोलैंड में कुटनो एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर का स्वर्ण जीता; समय 23.97 सेकंड था
3. जुलाई 13, 2019 को; उन्होंने चेक गणराज्य में कल्दनो एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर का स्वर्ण जीता; समय 23.43 सेकंड.
4. जुलाई 17, 2019; उसने ताबोर एथलेटिक्स मीट चेक रिपब्लिक में 200 मीटर की दौड़ में 23.25 सेकंड का स्वर्ण पदक जीता था.
5. जुलाई, 20 , 2019 को, उन्होंने नोव मेस्टो, चेक गणराज्य में 400 मीटर में स्वर्ण पदक जीता; समय 52.09 सेकंड था.

हिमा के पिछले रिकॉर्ड हैं;
1. जुलाई का महीना हिमा के लिए भाग्यशाली रहा है. पिछले साल इसी महीने में उन्होंने फिनलैंड के टाम्परे में आयोजित विश्व अंडर -20 चैंपियनशिप 2018 में 400 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था. उन्होंने 51.46 सेकेंड का समय निकालकर स्वर्ण पदक जीता था और अंतर्राष्ट्रीय ट्रैक स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय धावक बनी थीं.

2. हेमा ने 2018 में एशियाई खेलों में 4 × 400 मीटर मिश्रित रिले में रजत पदक भी जीता जो स्वर्ण पदक विजेताओं पर प्रतिबंध के कारण गोल्ड में अपग्रेड हो गया है.

3. हेमा ने मिक्स्ड 4 × 400 मीटर स्पर्धाओं में 2018 जकार्ता एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक भी जीता था.

हिमा को मिले पुरस्कार और सराहना
1. हेमा दास को 2018 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.
2. हेमा को 2018 में यूनिसेफ-इंडिया के भारत के पहले युवा राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया था.
3. हिमा एक अंतर्राष्ट्रीय इवेंट में स्वर्ण पदक जीतने वाली भोगेश्वर बरुआ के बाद असम की दूसरी एथलीट है.
4. असम सरकार द्वारा उन्हें असम का स्पोर्ट्स ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया गया है.

जैसा कि हम जानते हैं कि हिमा दास सिर्फ 19 साल की हैं. वह भारत की "नई उड़न" पारी के नाम से प्रसिद्द हो रही हैं. वह दुनिया को बता रही है कि P.T ऊषा के बाद कोई अन्य धावक भारत में पैदा हो सकता है. अगर हिमा का प्रदर्शन इसी तरह दिन ब दिन निखरता गया तो उनसे उम्मीद की जाती है कि वे टोक्यो ओलंपिक 2020 में ट्रैक और फील्ड स्पर्धाओं में भारत के लिए पदक जीतेंगीं.

आईसीसी क्रिकेट “हॉल ऑफ़ फेम” में शामिल भारतीय क्रिकेटरों की सूची

 

Advertisement

Related Categories

Popular

View More