Advertisement

कैसे जानें आपका आधार कार्ड कहाँ कहाँ इस्तेमाल किया गया है?

देश में सुशासन और पारदर्शिता बढ़ाने के उद्येश्य से सरकार ने हर सेवा को आधार से जोड़ने का फैसला किया है. वर्तमान में देश की 90% आबादी ने आधार बनवा लिया है. वर्तमान मोदी सरकार ने लगभग सभी जरूरी सेवाओं और योजनाओं को आधार कार्ड से जोड़ दिया है. अब व्यक्ति को चाहे कोई नया सिम खरीदना हो, बैंक में खाता खुलवाना हो, आयकर रिटर्न भरना हो, गैस सब्सिडी लेनी हो या कोई प्रॉपर्टी खरीदनी हो; हर जगह आधार नंबर देना अनिवार्य कर दिया गया है. इसी कारण आधार के इस्तेमाल को लेकर लोगों का सतर्क होना समय की जरुरत है.

कुछ घटनाओं से ऐसा सिद्ध हो रहा है कि लोगों की आधार की जानकारी को बिना उनकी मंजूरी के इस्तेमाल किया जा रहा है जो कि लोगों के “निजता के अधिकार” का उल्लंघन है. इस उल्लंघन को रोकने के लिए आधार अथॉरिटी यूआईडीएआई (UIDAI) ने अपनी वेबसाइट पर एक नई सुविधा शुरू की है, जिसके जरिये आप घर बैठे पता कर सकते हैं कि आपका आधार कार्ड कहां-कहां किन किन उद्येश्यों के लिए इस्तेमाल किया गया है.

यदि किसी व्यक्ति को लगता है कि उसके आधार नम्बर का गलत इस्तेमाल किया गया है तो इस सुविधा के जरिये वह शिकायत दर्ज भी करा सकता हैं. लेकिन इस सुविधा का लाभ लेने के लिए सबसे जरूरी बात यह है कि आपका मोबाइल नम्बर आपके आधार के साथ जुड़ा होना चाहिए.

अगर आपको यह जानना है कि आपका आधार नंबर कहाँ-कहाँ पर इस्तेमाल किया गया है तो निम्नलिखित चरणों के माध्यम से पता कर सकते हैं:

स्टेप 1- सबसे पहले UIDAI की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाएँ; जहाँ पर इस तरह का पेज खुलेगा जिसमे आपको “Aadhar Authentication History” वाले लिंक पर क्लिक करना है.


जानें उपभोक्ता अदालत में केस दर्ज करने की प्रक्रिया क्या है?
स्टेप 2- OTP जेनरेट करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें
https://resident.uidai.gov.in/notification-aadhaar
इस लिंक पर क्लिक करने के बाद अपना 12 अंकों का आधार नंबर डालें और सिक्यूरिटी कोड डालें और OTP जेनरेट करें. कुछ इस तरह की विंडो खुलेगी;


स्टेप 3- समय सीमा का चयन करें
उस समय-सीमा का चयन करें जिसके बारे में आप अपने आधार के उपयोग के बारे में जानना चाहते हैं. यहीं पर आपको स्टेप 2 में जेनरेट किया गया OTP भी डालना है. इस स्टेप में आप अधिकत्तम 50 रिकार्ड्स देख सकते हैं. यहाँ एक सावधानी यह रखें कि Authentication Type नामक ऑप्शन में OTP का ही चयन करें क्योंकि अन्य विकल्पों के माध्यम से आप authentication का प्रमाण नही दे सकेंगे. पूरी जानकारी भरने के बाद सबमिट वाले बटन पर क्लिक करें;


ओटीपी एंटर करते ही आपको उस समय सीमा अवधि के दौरान की सारी जानकारी मिल जाएगी, जो आप ने ओटीपी जनरेट करने से पहले दर्ज की थी. अगर आपको हिस्ट्री देखकर कुछ भी गड़बड़ी नजर आती है जैसे डिटेल में दिखता है कि आपका आधार नम्बर ऐसी जगह इस्तेमाल किया गया है जहाँ पर आप इस्तेमाल नही करना चाहते हैं तो इसकी शिकायत यूआईडीएआई से 1947 पर कॉल कर के कर सकते हैं.

यहाँ पर यह बताना जरूरी है कि जब भी आपके आधार की डिटेल को इस्तेमाल किया जाता है, तो इसे इस्तेमाल करने के लिए हर सम्बंधित संस्था को यूआईडीएआई (UIDAI) को रिक्वेस्ट भेजनी होती है. इसके आधार पर ही यूआईडीएआई आपका डाटा किसी के साथ शेयर करता है.

तो उम्मीद है कि ऊपर दिए गए तीन चरणों की मदद से आप यह आसानी से पता लगा सकते हैं कि आपका आधार नंबर किन-किन सेवाओं को लेने के लिए इस्तेमाल किया गया है.
नोट: जैसा कि सभी को पता है कि आजकल लगभग सभी का बैंक अकाउंट नंबर आधार से जुड़ा हुआ है इसलिए आपको अपना आधार नंबर हर किसी को नही बताना है. जिन लोगों का बैंक अकाउंट आधार से तो जुड़ा है लेकिन उनका मोबाइल नंबर आधार से नही जुड़ा है उन्हें खास तौर से सावधान रहने की जरुरत है.

किन किन खर्चों के माध्यम से आयकर में छूट प्राप्त की जा सकती है?

Advertisement

Related Categories

Advertisement