Next

भारत सरकार लद्दाख और कश्मीर में 10 सुरंगों के निर्माण की योजना क्यों बना रही है?

भारत सरकार लद्दाख और कश्मीर केऊंचाई वाले क्षेत्रों में 100 किलोमीटर से अधिक की कुल 10 सुरंगों का निर्माण करने की योजना बना रही है। ये सुरंगें पूरे वर्ष सेना की सुचारू आवाजाही में मदद करेंगी। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने लद्दाख और कश्मीर के लिए सभी मौसम में कनेक्टिविटी बढ़ाने और दोनों क्षेत्रों में आगे के क्षेत्रों के लिए आठ सुरंगों का प्रस्ताव दिया है। इनमें से कुछ सुरंगें 17,000 फीट की ऊंचाई पर होंगी, जिससे आगे के स्थानों को जोड़ा जा सकेगा।

कहां-कहां बनेंगी सुरंगें?

1- इनमें से एक सात किमी लम्बा खारदुंग ला टनल है, जो लेह को नुब्रा घाटी से जोड़ता है, यह लद्दाख का एक रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्र है। इस क्षेत्र के बार्डर चीन और पाकिस्तान से मिले हैं।

2- दूसरी सुरंग आठ किमी लंबी और 17,580 फीट की ऊंचाई पर होगी।  ये सुरंग  लद्दाख में कारू को टंगस्टे से जोड़ेगी। इतना ही नहीं, ये सुरंग पैंगोंग झील के आसपास के क्षेत्रों में पूरे वर्ष गतिविधियों को सुनिश्चित करेगी।

3- लद्दाख से साल भर की कनेक्टिविटी के लिए, निम्मू-दारचा-पदम रोड पर एक और सुरंग (शंकु ला पास के माध्यम से) बन रही है। सात किमी लंबी सुरंग 16,703 फीट की ऊंचाई पर होगी।

4- श्रीनगर को कारगिल, द्रास और लेह से जोड़े रखने के लिए 11,500 फीट ज़ोजिला दर्रे से 14 किलोमीटर लंबी सुरंग का निर्माण शुरू हो गया है।

5- एक और प्रस्तावित सुरंग, 17,800 फीट की ऊंचाई पर, पूर्वी लद्दाख में दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) और डेपसांग मैदान को वैकल्पिक कनेक्टिविटी प्रदान करेगी। डीबीओ को पूरे साल 100 किमी वैकल्पिक मार्ग सुनिश्चित करने के लिए सेसर ला में 10 किमी लंबी सुरंग की आवश्यकता है।

6- डीबीओ और डेपसांग ऐसे क्षेत्र हैं जहां चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के साथ मौजूदा तनाव के बीच एक बड़ा बिल्ड-अप हुआ है जो मई की शुरुआत में शुरू हुआ था।

7- सुरंग बनने के बाद, सेसर-ब्रेंगसा से मुर्गो के बीच 25 किमी की दूरी को 10 किमी तक कम किया जाएगा। इसका काम शुरू हो गया है और 6-7 किमी तक सड़क बन गई है।

8- मनाली-लेह राजमार्ग पर नियोजित अन्य सुरंगों में मनाली-सरचू रोड पर 16,000 फीट बारलाचा दर्रा में 13.7 किमी सुरंग, 16,000 फीट की ऊंचाई पर 14.7 किमी लंबी सुरंग लाचुंग दर्रा और 17,480 फीट की ऊंचई पर तंगलंग पास में 7.37 किलोमीटर लंबी सुरंग है।

9- इस बीच, कश्मीर के गुरेज़ से कनेक्टिविटी के लिए 11,672 फीट ऊंचे रज्जन दर्रे पर 18 किलोमीटर लंबी सुरंग की आवश्यकता है, और 10,269 फीट की ऊंचाई पर साधना दर्रा में 6 किमी लंबी सुरंग तांगधर को सभी मौसम में कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए कार्य में है।

सुरंग किसे कहते हैं?

एक सुरंग एक भूमिगत मार्ग है, जिसे आसपास की मिट्टी / पृथ्वी / चट्टान के माध्यम से खोदा जाता है और प्रत्येक छोर पर आमतौर पर प्रवेश और निकास के अलावा संलग्न किया जाता है।

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now