आसियान संगठन के सदस्यों की सूची

एसोसिएशन ऑफ साउथईस्ट एशियाई नेशंस, या आसियान की स्थापना 8 अगस्त 1967 को बैंकाक, थाईलैंड में की गयी थी. इस संगठन की स्थापना के पीछे मूल उद्देश्य दक्षिण-पूर्व एशिया में आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देना और इस क्षेत्र में आर्थिक स्थिरता सुनिश्चित करना है.

आसियान का मुख्यालय जकार्ता (इंडोनेशिया) में है. वर्तमान में इस संगठन के 10 स्थायी सदस्य हैं. भारत इस संगठन का सदस्य नही है क्योंकि आसियान दक्षिण-पूर्व एशिया के देशों का संगठन है जबकि भारत दक्षिण-एशिया में स्थित है. जुलाई 23, 1996 को; आसियान ने भारत को सलाहकार देश का दर्जा दिया था.

इस लेख में हम आसियान के सभी सदस्य देशों की सूची उनकी राजधानियों के नाम के साथ प्रकाशित कर रहे हैं.

आसियान सदस्यों की सूची निम्नानुसार है;

  देश का नाम

राजधानी

 आसियान से जुड़े

 1. ब्रुनेई

बंदर सेरी बेगावान

7 जनवरी, 1984

 2. कंबोडिया

नामपेन्ह

30 अप्रैल,1999

 3. इंडोनेशिया

जकार्ता

8 अगस्त,1967

 4. लाओस

वियनतियाने

23 जुलाई,1997

 5. मलेशिया

कुआलालम्पुर

8 अगस्त,1967

 6. म्यांमार

नाएप्यीडॉ

23 जुलाई,1997

 7. फिलीपींस

मनीला

8 अगस्त,1967

 8. सिंगापुर

सिंगापुर

8 अगस्त,1967

 9. थाईलैंड

बैंकाक

8 अगस्त,1967

 10. वियतनाम

हनोई

28 जुलाई,1995

आसियान राष्ट्रों के बारे में कुछ दिलचस्प तथ्य इस प्रकार हैं;

1. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा अप्रैल 2017 में जारी आंकड़ों के मुताबिक; आसियान राष्ट्रों में सिंगापुर की प्रति व्यक्ति आय (PPP-US$ 90724) सबसे अधिक है.

2. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा अप्रैल 2017 में जारी आंकड़ों के मुताबिक; आसियान राष्ट्रों में कंबोडिया की प्रति व्यक्ति जीडीपी (PPP-US$ 4022) सबसे कम है.
3. एशियान क्षेत्र में इंडोनेशिया सबसे अधिक आबादी (266,794, 980)वाला देश है. यह दुनिया का चौथा सबसे अधिक आबादी वाला देश भी है.
4. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा अप्रैल-2017 में जारी आंकड़ों के मुताबिक; आसियान राष्ट्रों में, इंडोनेशिया की जीडीपी (PPP) सबसे अधिक 32,57,123 अमेरिकी डॉलर है.

5. इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर और थाईलैंड आसियान के संस्थापक सदस्य हैं. शेष पांच सदस्य बाद में इस संगठन में शामिल हुए थे.
6. वर्ष 2015-16 में भारत और आसियान के बीच द्विपक्षीय व्यापार 65.1 अरब डॉलर था जो कि 2016-17 में बढ़कर 71.1 अरब डॉलर हो गया था.

आसियान देशों के साथ भारत के बहुत अच्छे व्यापार संबंध हैं यही कारण है कि इसे भारत के  विभिन्न शिक्षा संस्थानों के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है, ताकि विद्यार्थी भारत के इस महत्वपूर्ण व्यापार साझीदार के बारे में जान सकें.

“मेक इन इंडिया” योजना में शामिल क्षेत्रों की सूची

Continue Reading
Advertisement

Related Categories

Popular

View More