Advertisement

सल्तनत काल से पहले और बाद के प्रांतीय राज्यों की सूची

गुप्ता साम्राज्य के पतन से लेकर दिल्ली सल्तनत के उदय और पतन के साथ-साथ मुगल साम्राज्य के उदय तक मध्यकालीन भारतीय इतिहास माना जाता है। 6वीं सताब्दी के मध्य, गुप्त साम्राज्य पूरी तरह विनष्ट हो गया। उसके पश्चात अनेक स्थानीय शासको ने अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी, जिसके कारण उत्तरी भारत को क्षेत्रीय साम्राज्य द्वारा शासित किया जाने लगा। अपने साम्राज्य की रक्षा हेतु, स्थानीय शासक एक दुसरे से लड़ते रहते थे जिसका फायेदा मोहम्मद गौरी ने बखूबी उठाया और दिल्ली पर कब्जा कर, भारत में मुस्लिम शासन की नींव रखी।

सल्तनत काल से पहले और बाद के प्रांतीय राज्यों की सूची

क्षेत्रीय साम्राज्य (प्रांतीय राज्य)

राजधानी

महत्वपूर्ण शासक

गुर्जर-प्रतिहार

    कन्नौज

1. हरिचन्द्र (संस्थापक)

2. नागभट्ट I

3. वत्सराज

4. नागभट्ट II

5. मिहिर भोज

6. महेन्द्रपाला I

7. महिपाला

8. महिंद्रपाला I

9. राज्यपाल

10. यशपाल

पाल

बिक्रमपुर, पाटलिपुत्र, गौड़, मोंघ्य्र (देवपाल), सोमपुरा (धर्मपाल), महिपाल (मुर्शिदाबाद), रामवती (रामपाल)

1. गोपाल (संस्थापक)

2. धर्मपाल

3. देवपाल

4. नारायणपाल

5. महिपाल

6. रामपाल

7. कुमारपाल

8. मदनपाल

 

राष्ट्रकूट

Manyakheta

1. दन्तिदुर्ग

2. कृष्णा I      

3. गोविन्द II   

4. ध्रुव धारावर्ष  

5. गोविन्द III  

6. अमोगवर्ष     

7. कृष्णा II     

8. इंद्र III       

9. अमोगवर्ष II  

10. गोविन्द IV

11. अमोगवर्ष III        

12. कृष्णा III  

13. खोतिगा    

14. कारका II   

15. इंद्र IV

बंगाल के सेन

नाबद्विप

1.  विजयसेन

2. बल्लालासेन

3. लक्षमणसेन

कन्नौज के गहड़वाल

वाराणसी और कान्यकुब्ज

1. चंद्रदेव

2. मदनपाल

3. गोविन्दचन्द्र

4. विजयचंद्र

5. जयचंद्र

शकाम्बरी के चाहमान ओर चौहान

शकाम्बरी

1. वासुदेव

2. गोविन्दराज

3. चन्द्रराज

4. वक्पतिराज

5. सिंहराज

6. विग्रहराज II

7. दुर्लाभराज  II

8. गोविन्दराज II

9. पृथ्वीराज I

10. अजयराज II

11. अर्नोराज

12. विग्रहराज IV

13. सोमेश्वर

14. पृथ्वीराज III

त्रिपुरी के कालाचुरी

त्रिपुरी

1. कोकल्ला I

2. संकरगणा I

3. युवराजा I

4. लक्ष्मणराज

5. संकरगणा II

6. युवराजा II

7. कोकल्ला II

8. गांगेयदेव

9. लक्ष्मीकरण

10. यशकर्ण

मालवा के परमार

धार

1. कृष्णराजा

2. सियाका II

3. वाक्पति मुंजा

4. सिंहराज

5. भोज परमार

6. जयसिम्हा

7. उदयादित्य

8. महक देव

कश्मीर के शाह मीर राजवंश

कश्मीर

1. शाह मिर्जा या समस-उद-दीन (संस्थापक)

2. जमशेद

3. अलौउ-दी-दीन

4. शाहब-उद-दीन

5. कुतुब-उद-दीन

6. सिकंदर बशशिकन

7. अलीशाह

8. जैन-उल-अब्दिन

9. हैदरहहाह

10. हसनशहा

11. मोहम्मदशाह

12. फतेहशाह

13. फतेहशाह

14. इब्राहिमशाह

15. नाजूकशाह

मेवाड़ का सिसोदिया वंश

चित्तौर

1. राणा हमीर

2. राणा कुम्भा

3. राणा सांग

4. राणा प्रताप

मेवाड़ के राठौड़ वंश

जोधपुर

1. राव चुन्डा राव झोधा

2. मालदेव

एम्बर या आमेर की कछवाह राजवंश

अजमेर

1. दुल्ला राम हम्मीर देव

गुजरात के मुज़फ्फरशाही वंश

अनहिल्वाड़ा (अहमदाबाद)

1. जफर खान या मुजफ्फर खान

2. अहमद शाह महमूद बेगरा

 

बंगाल के सल्तनत

गौड़

1. बहादुर शाह इलियास शाह अलौउद्दीन शाह

सूर्यवंशी गजपति राज्यवंश (उड़ीसा)

जाजनगर

1. कपिलेन्द्र

मालवा के खिलजी वंश

मांडू

1. दिलावर खान गौरी

2. महमूद खिलजी

जौनपुर के शरकी वंश

जौनपुर

1. मलिक सरवर

2. इब्राहिम शाह शर्की

कामरूप और असम के अहोम वंश

चरादेओ (चरकुआ)

1. सुकाफा

2. सुहंगमंग

करन्देश के फारूक़ी राजवंश

बुरहानपुर

1. मलिक राजा फारुक़ी

कर्नाटक के बहमनी साम्राज्य

गुलबर्गा (बिदार)

1. हसन गंगु बहमनी शाह

2. फिरोज शाह

3. अहमद शाह I

 

विजयनगर साम्राज्य

हस्तिनावती या हम्पी

1. हरिहर और बुक्का (संस्थापक)

संगम राजवंश

 

पेनुगोंदा

1.  हरिहर I

सलुवा राजवंश

1. नरसिम्हा सुलुवा

तुलुव राजवंश

1.  वीर नरसिम्हा

2. कृष्णदेव राय

अरविडू राजवंश

1. तिरुमाला

उपरोक्त सूची में 6वीं शताब्दी के मध्य में गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद भारत में उदय हुए सामन्ती राज्यों के नाम शामिल किये गए हैं जो UPSC-prelims, SSC, State Services, NDA, CDS, और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए बहुत उपयोगी है।

मध्यकालीन भारत का इतिहास: एक समग्र अध्ययन सामग्री

Advertisement

Related Categories

Advertisement