MOSAiC मिशन: उद्देश्य, फीचर्स और मिशन के लाभ

मोजेक मिशन क्या है (What is MOSAiC Mission)

MOSAiC Mission (मोजेक मिशन) को जर्मनी के अल्फ्रेड वेगेनर इंस्टीट्यूट द्वारा प्रायोजित किया गया है और यह इतिहास के सबसे बड़े आर्कटिक अभियान में से एक है. MOSAiC का फुल फॉर्म, Multidisciplinary Drifting Observatory For the Study of Arctic Climate है.
इस मिशन के लिये एकमात्र भारतीय वैज्ञानिक, विष्णु नंदन को चुना गया है हालाँकि इसमें 17 देशों के कुल 600 लोग भाग ले रहे हैं.

MOSAiC मिशन के क्या उद्देश्य हैं (Objectives of MOSAiC Mission)

MOSAiC Mission को, आर्कटिक में वायुमंडलीय, महासागरीय, भू-भौतिकीय, और अन्य सभी संभावित प्रभावों का अध्ययन और मौसम प्रणालियों में हो रहे बदलावों का अधिक सटीक पूर्वानुमान लगाने के लिए शुरू किया गया है. इसके अलावा यह जलवायु परिवर्तन का दुनिया के अन्य हिस्सों पर हो रहे प्रभावों का भी अध्ययन करेगा.

OPEC क्यों छोड़ रहे हैं सदस्य देश?

MOSAiC मिशन में निम्न संस्थान शामिल हैं:

इस मिशन को अंतर्राष्ट्रीय आर्कटिक विज्ञान समिति (IASC) बैनर के नीचे प्रमुख ध्रुवीय अनुसंधान संस्थानों के एक अंतरराष्ट्रीय संघ द्वारा डिजाइन किया गया है. इस मिशन में शामिल अन्य संस्थान हैं;

1. अल्फ्रेड वेगेनर इंस्टीट्यूट, जर्मनी

2. हेल्महोल्ट्ज सेंटर फॉर पोलर एंड मरीन रिसर्च (AWI), जर्मनी

3. आर्कटिक और अंटार्कटिक रिसर्च इंस्टीट्यूट (AARI), रूस

4. कोलोराडो विश्वविद्यालय, संयुक्त राज्य अमेरिका

5. सहकारी विज्ञान अनुसंधान संस्थान (CIRES), संयुक्त राज्य अमेरिका

MOSAiC मिशन का बजट (Budget of MOSAiC Mission)

मिशन की अनुमानित लागत € 120 मिलियन के आसपास है.

MOSAiC मिशन की विशेषताएं (Features of MOSAiC Mission)

MOSAiC मिशन सितंबर 2019 में शुरू हो चुका और जर्मन अनुसंधान आइसब्रेकर पोलारस्टर्न नॉर्वे के ट्रोम्सो से प्रस्थान कर चुका है. गंतव्य तक पहुंचने के बाद आइसब्रेकर और इसके वैज्ञानिक अगला एक साल आर्कटिक महासागर में बर्फ के बीच चलते हुए जहाज पर बिताएंगे. 

शोधकर्ता, इस क्षेत्र में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का अध्ययन करने के लिए एकत्रित आंकड़ों का विश्लेषण करेंगे और इन आंकड़ों का उपयोग दुनिया के बाकी हिस्सों में जलवायु परिवर्तन पैटर्न को जानने के लिए भी किया जाएगा.

MOSAiC मिशन के लाभ (Benefits of the MOSAiC Mission)

1. MOSAiC मिशन के द्वारा ‘ध्रुवीय क्षेत्र’ में जलवायु परिवर्तन के कारणों को समझने में मदद मिलेगी.

2. MOSAiC मिशन के परिणाम, जलवायु परिवर्तन के क्षेत्रीय और वैश्विक परिणामों की समझ को बढ़ाने में योगदान करेंगे.

3. इस मिशन के द्वारा, समुद्री-बर्फ के नुकसान के पीछे के कारणों को समझने और मौसम और जलवायु पूर्वानुमान में एक्यूरेसी लाने में मदद मिलेगी.

4. यह खोजी अभियान, सुरक्षित समुद्री और अपतटीय अभियानों (offshore operations) को बढ़ावा देगा, उत्तरी समुद्री मार्गों के साथ भविष्य के यातायात के लिए एक बेहतर वैज्ञानिक और सुरक्षित तरीका विकसित करने में मदद करेगा.

निष्कर्ष में यह कहा जा सकता है कि MOSAiC मिशन के परिणाम न केवल जलवायु परिवर्तन के पीछे के कारणों को प्रकट करेंगे बल्कि जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने के लिए मानव और अन्य संस्थानों को भविष्य का रास्ता भी बताएँगे.

स्मॉग टॉवर क्या होता है और यह कैसे काम करता है?

सुनामी वार्निंग सिस्टम क्या होता है और यह कैसे काम करता है?

Related Categories

Also Read +
x