पाकिस्तान के भारत से व्यापारिक सम्बन्ध ख़त्म; जानें किसका फायदा किसका नुकसान?

भारत सरकार के द्वारा जम्मू एंड कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को ख़त्म कर दिया है. लेकिन इसके विरोध में पाकिस्तान ने भारत के साथ सभी तरह के व्यापारिक सम्बन्ध ख़त्म कर दिए हैं और एक दूसरे देशों के राजदूतों को भी वापस बुला लिया है.

ऐसे में यह सवाल उठता है कि क्या पाकिस्तान इस स्थिति में है कि वह भारत से व्यापारिक रिश्ते ख़त्म करके कुछ राजनीतिक लाभ उठा पाए?  भारत के ऊपर इस कदम से क्या फर्क पड़ेगा और इन दोनों देशों के बीच किन-किन वस्तुओं का व्यापार होता है इन सभी की पड़ताल इस लेख में करते हैं.

ज्ञातव्य है कि भारत ने पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान को दिया गया "मोस्ट फेवर्ड नेशन" का दर्जा छीन लिया था और पाकिस्तान के निर्यात पर 200 परसेंट की ड्यूटी लगा दी थी.

मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के क्या परिणाम होंगे?

अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संबंधों पर भारतीय अनुसंधान परिषद (ICRIER) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत-पाकिस्तान के बीच कारोबार का आकार बेहद कम है. वर्ष 2018-2019 में भारत की ओर से पाकिस्तान को किया जाने वाला निर्यात मात्र 2.17 अरब डॉलर रहा था जो कि भारत के कुल निर्यात में यह मात्र 0.83% है. वहीं, पाकिस्‍तान से भारत का आयात 50 करोड़ डॉलर से भी कम है; यह भारत के कुल आयात का 0.13% है.

साल 2018-19 में कारोबार (Trade Statistics between India and Pakistan)

भारत और पाकिस्तान के बीच 2018-19 में करीब 18 हजार करोड़ रुपये का कारोबार हुआ था. यह 2017-18 की तुलना में 1600 करोड़ रुपये ज्यादा था. इसमें भारत का पाकिस्तान को निर्यात 80% है और आयात सिर्फ 20% है. अर्थात यहाँ पर भी पाकिस्तान की भारत पर निर्भरता बहुत अधिक है.

भारत और पाकिस्तान के बीच किस रास्ते से व्यापार होता है? (Trade Route b/w India and Pakistan)
भारत और पाकिस्तान के बीच सड़क रास्ते से 138 वस्तुओं का इंपोर्ट-एक्सपोर्ट होता है. जबकि जम्मू-कश्मीर वाघा बॉर्डर से भारत-पाकिस्तान के बीच रोजाना 50-60 ट्रकों के जरिये सामानों का आना-जाना होता है.

वर्तमान में भारत-पाकिस्तान के बीच दो अहम ट्रेड रूट हैं. इनके नाम हैं

1. मुंबई से कराची समुद्री रास्ते के जरिए और

2. वाघा बॉर्डर से लैंड रूट
हालाँकि पुंछ में चाकन दा बाघ और उरी में सलामाबाद के जरिए भी कारोबार किया जाता है.

भारत और पाकिस्तान के किसका व्यापार होता है?
भारत; पाकिस्तान को करीब 33% टेक्सटाइल उत्पादों और 37% रासायनिक उत्पादों का निर्यात करता है. वहीं, भारत; पाकिस्तान से सबसे ज्यादा 49% खनिज उत्पाद और 27% फल आयात करता है.

पाकिस्तान से भारत आने वाला सामान (Indian import from Pakistan)

भारत; पाकिस्‍तान से कुल 19 प्रमुख उत्‍पादों का आयात करता है. जिसमें प्रमुख तौर पर ड्राई फूड, ताजे फल (अमरूद, आम और अनानास) सीमेंट, तैयार चमड़ा, मसाले, ऊन, रबड़ उत्पाद, बड़े पैमाने पर खनिज एवं अयस्क, अकार्बनिक रसायन, अल्कोहल पेय, मेडिकल उपकरण,खेल का सामान समुद्री सामान, प्लास्टिक और कच्चा कपास शामिल है.

भारत द्वारा पाकिस्तान को भेजा जाने वाला सामान (Indian Export to Pakistan)
पाकिस्तान भारत से टमाटर का आयात करता है. ख़बरों में आया था कि जब भारत ने पाकिस्तान का "मोस्ट फेवर्ड नेशन" का दर्जा छीन लिया था तो पाकिस्तान में टमाटर की कीमतें 2०० रुपये प्रति किलो तक पहुँच गयीं थीं.

भारत की कूटनीति के कारण पाकिस्तान किस तरह के संकटों से गुजर रहा है?

पाकिस्तान द्वारा भारत से चाय, चीनी, ऑयल केक, सूती धागे, टायर, रबड, डाई, पेट्रोलियम ऑयल, कच्चा कपास, रसायन समेत 14 वस्‍तुएं प्रमुख रूप से आयात की जातीं हैं.

अगर भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले व्यापार के आंकडें देखें तो यह बात बिल्कुल स्पष्ट है कि दोनों देशों की व्यापारिक निर्भरता एक दूसरे पर नहीं है. भारत के कुल व्यापार का आधा परसेंट से भी कम व्यापार पाकिस्तान से होता है.

इस प्रकार इमरान खान के द्वारा भारत से व्यापारिक संबंधों को ख़त्म करना सिर्फ अपने आप को और अपने देश को लोगों को झूठी दिलाशा दिलाना है. लेकिन यदि दोनों देश जंग की राह छोड़कर शांति के रस्ते पर आगे बढ़ते हैं तो विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत और पाकिस्तान के बीच 35 अरब डॉलर से अधिक के कारोबार की संभावना है.

अमेरिका की जीएसपी स्कीम क्या है और इससे हटाने पर भारत को क्या नुकसान होगा?

Related Categories

Popular

View More