रोज़मर्रा के जीवन में उपयोग किए जाने वाले 13 सामान्य प्रतीक एवं उनके अर्थ

मानव ने मेसोपोटामिया के काल से लेकर वर्तमान समय तक कई तरह के सिम्बलों को बनाया है जिन्हें सभी लोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में इस्तेमाल करते आ रहे हैंl ऐसे ही कुछ सिम्बलों के नामों और उनके इतिहास के बारे में हमने इस लेख में बताने का प्रयास किया है |
1. ज़ेबरा क्रासिंग: इस सिम्बल की शुरुआत 1948 में ब्रिटेन में ‘जेम्स कैलाघन’ द्वारा की गयी थी | यह लाइन पैदल चलने वालों को सड़क पार करने के लिए बनायी गयी थी|


 
2. रेडियोएक्टिव सिम्बल:
यह सिम्बल उन क्षेत्रों में बनाया जाता है जहाँ पर रेडियोएक्टिव किरणों के पाये जाने की संभावना या पुष्टि हो चुकी होती है |
 
Image Source:Stonehouse Signs
जानें प्रधानमंत्री के बॉडीगार्ड्स के ब्रीफ़केस में क्या होता है
3. थम्स अप सिम्बल: यह एक एंग्लो-सैक्सन शब्द है जिसकी उत्पत्ति रोमन साम्राज्य में तलवार बाजों (gladiatorial combat) के बीच हार या जीत का फैसला करने के लिए किया जाता था|जीतने पर अंगूठा ऊपर की ओर और हारने पर नीचे की ओर किया जाता था| हालांकि वर्तमान में इस सिंबल को किसी बात पर सहमती जताने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है |
 
Image Source:PSDGraphics
4. ओके (OK) सिम्बल: इस सिम्बल की उत्पत्ति 19वीं सदी के मध्य में अमेरिका में मानी जाती है l इस शब्द के कई मतलब माने जाते हैं जैसे मंजूरी (approval), अनुबंध (agreement), या सब ठीक है (all is well). OK का फुल फॉर्म all is correct माना जाता है|
 
image source:Daniel Swearingen - WordPress.com
जानें कैसे एक रोबोट आपको टेबल टेनिस खेलना सीखा सकता है?
5. V सिम्बल: यदि V  सिम्बल को दिखाने वाले व्यक्ति को अपने हाथ का अगला हिस्सा (palm) दिखता है तो इस प्रकार का संकेत ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और यूनाइटेड किंगडम में अपमानजनक इशारे के रूप में देखा जाता है | लेकिन इसके उलट यदि V सिम्बल को दिखाने वाले व्यक्ति (जैसे मोदी जी ने किया हुआ है) की तरफ उसकी हथेली का पिछला हिस्सा आता है तो इसे विक्ट्री या जीत का सिम्बल माना जाता है | V  सिम्बल की शुरुआत का श्रेय पूर्व बेल्जियम के मंत्री विक्टर डे लावेली 1941 में शुरू किया थाl द्वितीय विश्व युद्ध में भी इस सिम्बल का प्रयोग किया गया थाl  
 
image source:India TV
6. अस्पताल: यह सिम्बल मेसोपोटेमिया (3000 और 4000 ईसा पूर्व) के समय से इस्तेमाल किया जा रहा है l यह ग्रीक सभ्यता की उपज माना जाता है l इसमें सांप को एक छड़ी से लिपटे हुए दिखाया गया है l
 
Image Source:Manual of Traffic Signs
7. अपाहिज(Handicapped): यह सिम्बल International Commission on Technology and Accessibility ने 1968 में बनाया थाl इसे बनाने का श्रेय ‘सुसान कोरोएड’ को दिया जाता है |
 
Image Source:Cadworxlive.com
मानव इतिहास के 10 सबसे नायाब और मूल्यवान सिक्के
8. एड्स: लाल रिबन, एक जागरूकता रिबन के रूप में, गैरकानूनी दवाओं की रोकथाम, नशे में ड्राइविंग, और ड्रग्स के इस्तेमाल को रोकने के लिए प्रतीक के रूप में उपयोग किया जाता है। यह रिबन एचआईवी / एड्स के साथ जीने वाले लोगों में एकता को भी दर्शाता है। इस रिबन की शुरुआत न्यूयार्क में 'लाल रिबन परियोजना' के रूप में 1991 में की गयी थी l
 
Image Source:www.clipartkid.com
9. खतरा: इस सिम्बल की शुरुआत 1829 में, न्यूयॉर्क राज्य में किसी पदार्थ को ‘जहरीला’ पदार्थों बताने के लिए की गयी थीl हालांकि कुछ लोग अनजाने में बिजली के उत्पादों से सुरक्षा के लिए भी इसी सिम्बल का प्रयोग करते हैं जो कि गलत है क्योंकि बिजली से सुरक्षा के लिए अलग निशान बनाया गया है l
 
Image Source:de.fotolia.com
10. महिला और पुरुष सिम्बल: पुरुष का लिंग प्रतीक (♂) "मंगल गृह" से लिया गया है जबकि स्त्री का सिम्बल (♀) "शुक्र गृह" से लिया गया हैl इन दोनों प्रतीकों का प्रयोग 1950 से शुरू हुआ है और 1960 के दशक से इसका इस्तेमाल सार्वजनिक जगहों पर बने शौचालयों में शुरू किया गया था l
 

Image Source:Clker
11. न्याय सिम्बल: इस सिम्बल का प्रयोग 15 वीं सदी से किया जा रहा हैl इसमें न्याय की रोमन देवी को अँधा इसलिए दिखाया गया ताकि लोगों को इस बात का यकीन हो जाये कि न्याय की देवी की नजर में सभी लोग बराबर हैं और वह सभी के साथ बिना किसी भेदभाव के न्याय करेगीl
 
Image Source:Yahoo Answers
12. रीसाइक्लिंग का सिम्बल: रीसाइक्लिंग के तीन तीरों की उत्पत्ति अप्रैल 1970 में मनाये गए सबसे पहले पृथ्वी दिवस में निहित है। जिस वस्तु पर यह सिम्बल बना होता है उसका मतलब यह होता है कि इस वस्तु को दुबारा भी नया बनाकर (पिघलाकर या गलाकर ) प्रयोग किया जा सकता है और इस प्रकार पर्यावरण की रक्षा की जा सकती हैl
 

Image Source:Shutterstock
13. ब्लूटूथ: ब्लूटूथ बिना तार के डाटा को एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस में भेजने (कम दूरी तक) की तकनीकी होती हैl इस तकनीकी का विकास 1994 में दूरसंचार विक्रेता एरिक्सन द्वारा किया गया था l इसमें डाटा का संचरण रेडियो तरंगों का इस्तेमाल करके भेजा जाता है l
     
Image Source:Free Icons Download
ऊपर दिए सभी संकेतों की उत्पत्ति और उनके मतलब के बारे में बताने के बाद हम यह उम्मीद करते हैं कि कई लोगों को इन निशानों के बारे में बहुत हे रोचक तथ्य पता लगे होंगे |

बुद्ध की विभिन्न मुद्राएं एवं हस्त संकेत और उनके अर्थ

 

Advertisement

Related Categories