Advertisement

भारत के नोटों के पीछे कौन-कौन से चित्र बने हुए हैं?

दुनिया में शायद ही ऐसा कोई देश होगा जिसकी अपनी करेंसी नहीं है. लगभग हर देश अपनी मुद्रा पर अपने देश के किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति की तस्वीर लगाने के साथ साथ अपने देश की किसी विशिष्ट पहचान वाली चीज की फोटो जरूर लगाता है. इसके अलावा हर देश अपने नोटों के माध्यम से देश की संस्कृति और जैव विविधता को भी दर्शाने की कोशिश करता है. जैसे 20 अमेरिकी डॉलर के नोट ऊपरी भाग पर जॉर्ज वाशिंगटन की फोटो और पिछले भाग पर White House हाउस की फोटो है.

भारत के सभी नोटों पर महात्मा गाँधी की फोटो के साथ साथ अन्य इमारतों जैसे लाल किला और साँची स्तूप तथा हाथी, बाघ, कंचनजंगा पर्वत इत्यादि की फोटो छापी जाती है.

इस लेख में जागरण जोश ने एक रुपये के नोट से लेकर 2000 रुपये तक के नोट के पीछे की सभी तस्वीरों के बारे में बताया है.
1. एक रुपए के नोट की खासियत:
एक रूपये का नोट भारत में सबसे पहले प्रथम विश्व युद्ध के दौरान छापा गया था. इससे पहले देश में जॉर्ज पंचम की तस्वीर वाला एक रुपये का चांदी का सिक्का चलता था. लेकिन विश्व युद्ध के कारण चांदी की कमी हो गयी इस कारण 30 नवंबर 1917 को पहली बार एक रूपये का नोट छापा गया था.

यह नोट वित्त मंत्रालय छापता है और इस पर RBI के गवर्नर के नहीं बल्कि वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते हैं. साथ ही इस पर यह भी नहीं लिखा होता है कि “मैं भारत धारक को 1 रुपये अदा करने का वचन देता हूँ.”
इस नोट के अग्र भाग पर एक रुपये का सिक्का छपा है और पिछले भाग पर तेल खोजने वाले कारखाने की तस्वीर छपी है.

नोट पर क्यों लिखा होता है कि “मैं धारक को 100 रुपये अदा करने का वचन देता हूँ.”

2. दो रुपए के नोट की खासियत:
हालाँकि 2 रुपये के प्रिंट करने की लागत बढ़ जाने के कारण RBI ने इसे छापना बंद कर दिया है लेकिन पुराने नोट अभी भी स्वीकार किये जाते हैं.
इस नोट के अगले भाग पर अशोक का चिन्ह बना होता है जबकि पिछले भाग पर भारत के सबसे पहले “उपग्रह आर्यभट्ट” की तस्वीर छपी हुई है. यह तस्वीर भारत की विज्ञान और तकनीकी के क्षेत्र में प्रगति को दर्शाती है.


3. पांच रुपए के नोट की खासियत:
इन नोटों की छपाई की लागत बढ़ जाने के कारण फिलहाल RBI ने इसकी छपाई रोकी हुई है और इस मूल्य वर्ग के 85000 मिलियन नोट बाजार में चल रहे हैं.
इस नोट के अग्र भाग पर महात्मा गाँधी की तस्वीर है जबकि पिछले भाग पर ट्रैक्टर से खेत जोतते किसान का चित्र छपा हुआ है जो कि भारत की अर्थव्यवस्था में कृषि के महत्व को बता रहा है.
4. 10 रुपये के नोट की खासियत:
1 रुपये से लेकर 10 रुपये तक के नोट जल्दी जल्दी एक हाथ से दूसरे हाथ में जाते हैं जिसके कारण वे जल्दी फट जाते हैं. इसी कारण सरकार 1 से लेकर 10 रुपये के सिक्के बाजार में लायी है. 10 रुपये के एक नोट को बनाने में लगभग 96 पैसे की लागत आती है.
इस नोट के अग्र भाग में: महात्मा गांधी की फोटो, अशोक स्तंभ और पिछले हिस्से में: गैंडा, हाथी व बाघ के चित्र बने हुए हैं जबकि 10 रुपये के नए नोटों में कोणार्क सूर्य मंदिर का पहिया और स्वच्छ भारत का लोगो बना हुआ है.

5. 20 रुपये के नोट की खासियत:
20 रुपये के नोट को छापने की लागत भी 10 रुपये के नोट के बराबर ही है. इस मूल्य के 5000 मिलियन नोट बाजार में चल रहे हैं.
इस नोट के अग्र भाग में: महात्मा गांधी की फोटो (वाटर मार्क), अशोक स्तंभ जबकि पिछले भाग में ताड़ के वृक्षों का चित्र जो कि पोर्ट ब्लेयर में “माउंट हैरियेट लाइट हाउस” का नजारा दिखाता है.

6. 50 रुपए के नोट की खासियत:
50 रुपए के नोट को प्रिंट करने की लागत 1.81 रुपए आती है जबकि बाजार में इनकी कुल संख्या 4000 मिलियन है.
इस नोट के अग्र भाग में महात्मा गांधी की फोटो, अशोक स्तंभ है जबकि पिछले हिस्से में भारतीय संसद का डिजाइन है, जो कि भारत के मजबूत लोकतंत्र को दर्शाता है.
अभी जारी किये गए 50 रुपये के नए नोट के पिछले हिस्से पर “स्वच्छ भारत” का लोगो और हम्पीा (कर्नाटक) के रथ का चित्र है. हम्पी एक विश्व विरासत स्थल है.

7.  100 रुपए के नोट की खासियत:
इस नोट को प्रिंट करने की लागत 1.20 रुपए है और इस मूल्य के 16,000 मिलियन नोट बाजार में चलन में हैं. इस नोट में अग्र भाग में महात्मा गांधी की फोटो, अशोक स्तंभ हैं जबकि पिछले हिस्से में “माउंट कंचनजंगा” का चित्र जो कि भारत का सबसे ऊंचा पर्वत है.


8. 200 रुपए के नोट की खासियत:
इस वर्ग मूल्य का नोट भारत में पहली बार छापा गया है. 200 रुपये के एक नोट को छापने की लागत लगभग 2.93 रुपये आती है.
इस नोट के अग्र भाग में महात्मा गांधी की फोटो, अशोक स्तंभ हैं जबकि पिछले हिस्से में प्रसिद्द साँची स्तूप की तस्वीर है.


9. 500 रुपए के नोट की खासियत:
दिसम्बर 2016 में देश में नोट्बंदी लागू किये जाने के कारण 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद कर दिए गए हैं और इनकी जगह पर 500 और 2000 हजार रुपये के नए नोट छापे गये हैं. 500 रूपये के नए नोट को छापने की लागत 2.94 रुपये है.


इस नोट के पिछले हिस्से में “स्वच्छ भारत का लोगो” और दिल्ली के “लाल किले” की तस्वीर बनी हुई है.
10. दो हजार रुपये के नोट की खासियत:
यह नोट भी भारत में पहली बार छापा गया है. अधिक सुरक्षा उपायों के कारण इस नोट की लागत सबसे अधिक 3.54 रुपये आती है.


इस नोट के पिछले हिस्से में स्वच्छ भारत का लोगो और पिछले भाग में मंगलयान की तस्वीर छपी हुई है. मंगलयान को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा 5 नवंबर 2013 को लॉन्च किया गया था.
इस प्रकार ऊपर दिए गए सभी नोटों का माध्यम से भारत ने अपनी “अनेकता में एकता” वाली पहचान को सिद्ध करने का प्रयास किया है. ये सभी नोट भारत की जैव विविधता, सांस्कृतिक विरासत को दर्शाने का बहुत ही सटीक माध्यम हैं.

असली और नकली नोटों में अंतर कैसे पहचानें

भारतीय नोटों पर गाँधी जी की तस्वीर कब से छपनी शुरू हुई थी?

Advertisement

Related Categories

Advertisement