सुंदर पिचाई: जीवनी, शिक्षा और सैलरी

सुन्दर पिचाई के बारे में व्यक्तिगत जानकारी 

पूरा नाम: पिचाई सुंदरराजन

जन्म तिथि: 10 जून, 1972 (आयु 47)

जन्म स्थान: मदुरै, तमिलनाडु, भारत

पिता: रघुनाथ पिचाई

माँ: लक्ष्मी पिचाई

पत्नी: अंजलि पिचाई

बच्चे: 2 (काव्या पिचाई, किरण पिचाई)

राष्ट्रीयता: अमेरिकी, (भारत का जन्म)

ऊँचाई: 1.80 मीटर

सुंदर पिचाई की शिक्षा:

सुंदर पिचाई की स्कूली शिक्षा: उन्होंने जवाहर विद्यालय, अशोक नगर, चेन्नई से स्कूली शिक्षा पूरी की और वनवाणी मैट्रिकुलेशन हायर सेकेंडरी स्कूल से बारहवीं कक्षा पूरी की थी.

बीटेक: आईआईटी खड़गपुर

मास्टर ऑफ साइंस (MS): स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, अमेरिका 

एमबीए: पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल, अमेरिका 

सुंदर पिचाई की हॉबी: फुटबॉल और क्रिकेट

सुंदर पिचाई की कुल संपत्ति:  US$ 920 मिलियन डॉलर (25 जून 2019 तक)

सुंदर पिचाई की सैलरी (Salary of Sundar Pichai): सुंदर पिचाई की सैलरी US$ 6.5 लाख प्रति वर्ष है जो 2015 से जारी है. लेकिन व्यक्तिगत सुरक्षा बजट और अन्य लाभों को जोड़ने के बाद यह 2018 में बढ़कर 1,881,066 अमेरिकी डॉलर हो गयी थी.

डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम द्वारा लिखी गयी 25 पुस्तकों की सूची

सुंदर पिचाई की पारिवारिक पृष्ठभूमि (Family background of Sundar Pichai)

सुंदर पिचाई एक इंजीनियर के परिवार से हैं. पिचाई के पिता ब्रिटेन की जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी में एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे. उनके पिता रघुनाथ पिचाई के पास एक विनिर्माण संयंत्र था जो कि बिजली के उत्पादों का उत्पादन करता था. सुंदर पिचाई की माँ भी एक कामकाजी महिला थीं. वह एक स्टेनोग्राफर थीं.

(सुन्दर अपने माता पिता के साथ)

सुन्दर पिचाई का करियर (Career of Sundar Pichai)

सुंदर पिचाई ने IIT खड़गपुर से मैटलर्जिकल इंजीनियरिंग में B.Tech पूरा किया और एक छात्रवृत्ति के लिए चुने गए जिसके तहत उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूएसए से मटेरियल साइंस और इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ़ साइंस की डिग्री हासिल की थी.

उन्होंने सिलिकॉन वैली, संयुक्त राज्य अमेरिका में एक सेमीकंडक्टर निर्माता कंपनी (एप्लाइड मैटेरियल्स) में एक इंजीनियर और प्रोडक्ट मैनेजर के रूप में अपना करियर शुरू किया था.

सुंदर ने 2002 में व्हार्टन से एमबीए पूरा किया और एक सलाहकार के रूप में मैकिन्से एंड कंपनी में शामिल हो गए. आखिरकार, उन्होंने 2004 में गूगल ज्वाइन किया था.

सुंदर पिचाई की प्रमुख सफलता (Major Success of Sundar Pichai)

सुंदर पिचाई ने गूगल के के सह-संस्थापकों, सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज को आश्वस्त किया कि गूगल स्वयं का एक ऐसा ब्राउज़र लांच करे जो कि यूजर फ्रेंडली हो. सुन्दर के प्रयासों के कारण अंततः 2008 में गूगल के ब्राउज़र ‘क्रोम’ को लांच कर दिया गया था. 

यह ब्राउज़र बहुत सफल साबित हुआ और फ़ायरफ़ॉक्स और इंटरनेट एक्सप्लोरर जैसे प्रतियोगियों को पीछे छोड़ते हुए, क्रोम दुनिया में नंबर 1 ब्राउज़र बन गया. पिचाई की इस पहल ने उन्हें  इंटरनेशनल लेवल पर प्रसिद्द और वे गूगल में एक जाना-माना नाम हो गये थे.

फाइनली गूगल ज्वाइन करने के 11 सालों के बाद सुन्दर पिचाई को अगस्त 10, 2015 के दिन गूगल का मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) बना दिया गया था.

सुन्दर पिचाई अल्फाबेट इंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO)

अल्फाबेट इंक का गठन 2015 में गूगल की मूल कंपनी के रूप में किया गया था. फरवरी 2013 में सुंदर पिचाई को गूगल की होल्डिंग कंपनी अल्फाबेट के 273,328 शेयर दिए गए. आखिरकार 3 दिसंबर, 2019 को वे अल्फाबेट इंक के सीईओ बन गए.

तो, निष्कर्ष में, यह कहा जा सकता है कि सुंदर पिचाई एक महान आविष्कारक और एक परफेक्ट तकनीशियन हैं. हम सभी भारतीयों को उनकी सफलता पर गर्व है.

कल्पना चावला: जीवनी, एजुकेशन, अन्तरिक्ष अभियान और मृत्यु

कुलभूषण जाधव: जीवनी और जासूसी की सच्चाई

Related Categories

Also Read +
x