बांध और जलाशय में क्या अंतर है?

धरती पर पानी उन वस्तुओं में एक है जो जीवन के सम्‍पोषण के लिए अनिवार्य है। यह समस्त धरती पर समान रूप में वितरित नहीं है तथा इसकी उपलब्‍धता वर्ष के दौरान एक जैसे स्‍थानों पर एक समान भी नहीं होती। जबकि विश्‍व के एक हिस्‍से में पानी का अभाव है तथा वह सूखाग्रस्‍त है तो विश्‍व के दूसरे हिस्‍से में अधिक जल होने के कारण उपलब्‍ध संसाधनों का अनुकूलतम प्रबन्‍ध करने में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हैं।

बांध और जलाशय में अंतर

हम अक्सर बांध और जलाशय शब्द का मतलब एक जैसा ही लगता है और इनके अर्थ   भ्रमित कर देता हैं। दरअसल, दोनों का अलाद मलतब है। मानव जाति के विकास से, मानव लगातार पानी के प्रवाह का दोहन करने के लिए संघर्ष करता रहा है ताकि वे सही स्थानों पर सही मात्रा में पानी की आपूर्ति कर सकें। उसी सन्दर्भ में मानव नदी के प्रवाह को नियंत्रित करने और विभिन्न उद्देश्यों के लिए पानी को स्टोर करने के लिए नदी के चारों ओर बांध और जलाशय बनाते हैं।

बांध हो या जलाशय, जल के प्रवाह को रोकने का एक अवरोध है तथा इसको कई प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है। यह  लघु, मध्यम तथा बड़े हो सकते है। आइये जानते हैं बांध और जलाशय में क्या अंतर है-

बांध

1. यह एक अवरोध है जो जल को बहने से रोकता है और एक जलाशय बनाने में मदद करता है।

2. यह बाढ़ के रोकधाम के लिए बनाया जाता है तथा जमा किये गया जल सिंचाई, जलविद्युत, पेय जल की आपूर्ति, नौवहन आदि में भी सहायक होती है।

3. इसका निर्माण कंक्रीट, चट्टानों, लकड़ी अथवा मिट्टी से भी किया जाता है।

4. यह तीन प्रकार के होते हैं-गुरूत्व बांध, चाप बांध और तटबंध बांध।

5. भाखड़ा बांध , कंक्रीट गुरूत्व बांध है।

6. भारत में केवल इद्दूकी बांध ही एक चाप बांध है।

7. टिहरी बांध , रॉकफिल बांध या तटबंध बांध का एक उदाहरण है।

भारत की 10 सबसे लंबी नदियाँ कौन सी हैं?

जलाशय

1. नदी का जल बांधों के पीछे उठता है तथा कृत्रिम झीलों का निर्माण करता है, जो जलाशय कहलाते हैं।

2. यह बांध का अभिन्न अंग होता है।

3. इसका उपयोग सिंचाई और घरेलू जल आपूर्ति के लिए किया जाता है।

4. यह प्राकृतिक या कृत्रिम झील हो सकती है, पानी को स्टोर करने के लिए बांध का उपयोग करके बनाया गया भंडारण तालाब या अतिक्रमण होता है।

5. यह प्रवाह में अपेक्षित सिल्ट को संग्रहीत करने के लिए समायोजित करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है।

उपरोक्त अंतरों से पता चलता है की बांध और जलाशय अभिनय अंग हैं और एक दुसरे के पूरक लेकिन दोनों के अलग-अलग कार्य होते हैं।

भारत के पर्यावरण आंदोलनों पर संक्षिप्त इतिहास

Advertisement

Related Categories