विश्व में हथियारों के सबसे बड़े आयातक देश कौन से हैं?

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिपरी) की रिपोर्ट के मुताबिक 2012-16 के दौरान दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार भारत ने आयात किये जो कि ग्लोबल आर्म्स ट्रेड का 13% था l वर्ष 2007-2011 की तुलना में 2012-2016 के दौरान हथियार खरीद में 43% की बृद्धि हुई l भारत मुख्य रूप से रूस अमेरिका, यूरोप, इजरायल और दक्षिण कोरिया से आयात करता है l भारत के बाद दूसरा सबसे बाद आयातक था सऊदी अरब l

Image source:Everystockphoto

भारत के किस राज्य में सबसे अधिक लाइसेंसी हथियार हैं?

ग्लोबल GDP का कितना सैन्य खर्च के रूप में होता है ?

2016 में सैन्य वैश्विक खर्च 108 लाख करोड़ रुपये रहा जो कि 2015से 0.4 फीसदी ज्यादा रहा l यह रकम ग्लोबल GDP का 2.2% है सालाना खर्च का सर्वाधिक आंकड़ा 2011 का है तब 109 लाख करोड़ रुपये इकट्ठे हुए थे l

Image source:postcard.news

सबसे ज्यादा सैन्य खर्च (रुपये में)किस देश का है ?

               देश

     खर्च (2016) लाख करोड़ रुपये में

    बृद्धि

 1. अमेरिका

 39.10

 1.7%

 2. चीन

 13.76

 5.4%

 3. रूस

 4.43

 5.9%

 4. सऊदी अरब

 4.07

- (30%)

 5. भारत

 3.58

 8.5%

भारत की 13 प्रमुख मिसाइलें, उनकी मारक क्षमता (Range) एवं विशेषताएं

विश्व में सबसे बड़े निर्यातक देश कौन से हैं ?

इस सारिणी के माध्यम से देखने पर पता चलता है कि अमेरिका विश्व में सबसे ज्यादा अधिकार बेचने वाला देश है जबकि रूस का स्थान दूसरा हैl

देश

निर्यात में हिस्सा

 1. अमेरिका

 33%

 2. रूस

 23%

 3. चीन

 6.2%

 4. फ़्रांस

 6.0%

 5. जर्मनी

 5.6%

अगर सकल घरेलू उत्पाद के प्रतिशत के रूप में देखा जाये तो ओमान अपनी कुल GDP का 16.7% हिस्सा सैन्य खर्च पर करता है जबकि दूसरा स्थान सऊदी अरब का हैl आइये अब विश्व के प्रमुख देशों पर नजर डालते हैं:

देश

रैंक

मिलिट्री खर्च (GDP %के रूप में)

 1. ओमान

 1

 16.7

 2. सऊदी अरेबिया

 2

 10.4

 3. कांगो  

 3

 7.0

 4. अल्जीरिया

 4

 6.7

 5. कुवैत

 5

 6.5

 6. इजराइल

 6

 5.8

 7.रूस

 7

 5.3

 8. ईरान

 8

 4.8

 9. बहरीन

 9

 4.8

 10.जॉर्डन

 10

 4.5

 11. पाकिस्तान

 22

 3.4

 12.अमेरिका

 23

 3.3

 13. दक्षिण कोरिया

 29

 2.7

 14. इंडिया

 33

 2.5

 15.चीन

 49

 1.9

 16.ग्रेट ब्रिटन

 54

 1.9

यहाँ पर यह बात बताना जरूरी है कि भारत अपनी कुल GDP का केवल 1.8% ही स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च करता है लेकिन रक्षा क्षेत्र पर 2.5% खर्च करता है l यह देश का दुर्भाग्य ही माना जायेगा कि देश के लोगों को बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य की जरुरत है लेकिन रुपये की कमी के कारण ऐसा नही हो पा रहा है l सरकार को चाहिए कि अपने पडोसी देशों से शांति के रिश्ते कायम करे ताकि रक्षा बजट को कम करके शिक्षा और स्वास्थ्य का बजट बढाया जा सके l

जानें भारतीय सैन्य अधिकारियों की रैंक एवं उनके बैज क्या हैं?

Continue Reading
Advertisement

Related Categories

Popular