जानें भारत में वीआईपी और वीवीआईपी स्टेटस किसको मिलता है?

क्या आप जानते हैं कि आरटीआई के तहत ग्रह मंत्रालय के अनुसार, मंत्रालय किसी को चाहे वो वीआईपी या वीवीआईपी हो को सुरक्षा प्रदान उनके खतरों की प्रक्रति के आधार पर इन लोगों की सूचि तैयार करता हैl इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत में वीआईपी और वीवीआईपी दोनों को दुनिया-भर की सुविधाएं मिलती है और उनका जॉब प्रोफाइल सबसे अच्छा माना जाता हैl

वीआईपी के साथ अक्सर उत्तम व्यवहार किया जाता है, जिसका मतलब है कि उन्हें बेहतर सुविधाएं या सेवाएं प्रदान की जाती हैl उनके लिए विभिन्न समारोहों में शामिल होने के लिए वीआईपी प्रवेश द्वार या ऐसी प्रवेश द्वार की व्यवस्था की जाति है जहाँ वे अपनी निजी कार से पहुँच सकते हैंl इसके अलावा वीआईपी के लिए विभिन्न समारोहों में आरक्षित विशेष क्षेत्र की व्यवस्था की जाती है, जिसे वीआईपी क्षेत्र कहा जाता है और वहां दूसरे लोगों को जाने की इजाजत नहीं होती हैl सुरक्षा के संदर्भ में, वीआईपी अक्सर अपने स्वयं के अंगरक्षक के साथ चलते हैं, सैन्य या राजनीतिक क्षेत्र से संबंध रखने वाले वीआईपी को अंगरक्षक भी सौंपे जाते हैं।

जानें प्रधानमंत्री के बॉडीगार्ड्स के ब्रीफ़केस में क्या होता है

जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि वीवीआईपी को आमतौर पर वीआईपी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता हैl हालांकि वीवीआईपी शब्द का इस्तेमाल वीआईपी शब्द की अपेक्षा कम होता हैl वीवीआईपी शब्द का इस्तेमाल आमतौर पर सुरक्षा के संदर्भ में किया जाता है, जहां वीवीआईपी को वीआईपी की तुलना में अधिक अंगरक्षकों और अधिक सुरक्षा की आवश्यकता होती हैl किसी समारोह/कार्यक्रम के लिए वीआईपी टिकटों का मूल्य सामान्य टिकटों की तुलना में अधिक होता है, जबकि वीवीआईपी टिकटों का मूल्य वीआईपी टिकटों से भी ज्यादा होता हैl कोई भी व्यक्ति जिसके पास इन टिकटों को खरीदने योग्य पैसा है वह इन टिकटों को खरीद सकता हैl

वीआईपी और वीवीआईपी में अन्तर:

1. वीआईपी का अर्थ बहुत महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है जबकि वीवीआईपी का अर्थ बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण व्यक्ति हैl
2. वीआईपी को सामान्य व्यक्ति से ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है जबकि वीवीआईपी को वीआईपी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण व्यक्ति माना जाता है।
3. वीआईपी को सामान्य व्यक्ति से ज्यादा सुविधाएं दी जाती है जबकि वीवीआईपी को वीआईपी से भी ज्यादा सुविधाएं दी जाती हैl

प्रधानमंत्री आवास के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य

भारत में वीआईपी  और वीवीआईपी के अंतर्गत निम्नलिखित व्यक्ति आते हैं

राष्ट्रपति
उपराष्ट्रपति
राज्यपालों
राज्यसभा, लोकसभा और विधानसभाओं के अध्यक्ष
सांसद, विधायक, विधान पार्षद, निगम पार्षद, आईएएस, आईपीएस, आईसीएस, आईआरएस अधिकारी
तालुम/ग्राम पंचायत सदस्य
विभिन्न राजनितिक पार्टियों के नेत
मुख्य न्यायाधीश
सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के न्यायाधीश
सेलिब्रिटीज़
मीडियाकर्मी और एडिटर्स को वीआईपी और वीवीआईपी के रूप में भी जाना जाता हैl

जानें प्रधानमंत्री के बॉडीगार्ड काला चश्मा क्यों पहनते है

अब देखतें हैं कि इनकी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी किसकी होती है?

वीवीआईपी सुरक्षा का निर्णय इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के अधिकारियों, गृह सचिव और गृह मंत्री की सदस्यता वाली एक समिति द्वारा किया जाता है। ऐसे भी कई उदाहरण हैं जब राज्य सरकार की सिफारिशों के आधार पर वीवीआईपी सुरक्षा प्रदान की गई थीl भारत में विभिन्न व्यक्तियों की वीआईपी स्थिति का आकलन उन्हें प्राप्त सशस्त्र सुरक्षाकर्मियों की संख्या के आधार पर किया जाता है जिनकी संख्या 2 से 40 के बीच होती हैl

एसपीजी और एनएसजी सुरक्षा प्राप्त वीवीआईपी की सूची

एसपीजी सुरक्षा प्राप्त करने वाले वीवीआईपी:
-    प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, रॉबर्ट वाड्रा (जब वह गांधी परिवार के सदस्यों होते हैं)
-    राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और उपराष्ट्रपति को राष्ट्रपति के अंगरक्षकों द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाती हैl
Z+ श्रेणी वाले वीआईपी को एनएसजी सुरक्षा प्रदान की जाती है:
तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, असम के मुख्यमंत्री, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, गृह मंत्री, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नवी आजाद आदि को एनएसजी सुरक्षा प्रदान की जाती हैl
इस लेख से हमें यह पता चलता है कि वीवीआईपी और वीआईपी कौन होते है अथवा कैसे उनको सुरक्षा प्रदान की जाती हैं l

जाने भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था कैसी होती है

Advertisement

Related Categories

Popular

View More