Search

स्विस बैंक में खाता खोलने के लिए क्या योग्यता होती है?

स्विस बैंक और काला धन ये दोनों शब्द भारत की राजनीति में कोहराम मचा देते हैं. अपुष्ट ख़बरों में कहा गया है कि भारतीयों द्वारा विदेशों में भारत के सकल घरेलू उत्पाद का कम से कम 10% से लेकर 120% तक काला धन जमा है. लेकिन अब सवाल यह उठता है कि आखिर स्विट्ज़रलैंड की बैंकों में खाता खुलवाने के लिए कम से कम कितने रुपये की जरूरत पड़ती है? आइये इस लेख में जानते हैं.
Feb 5, 2020 12:20 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Swiss Bank Account
Swiss Bank Account

काले धन की परिभाषा (Definition of Black Money)

काला धन वह धन होता है जिसकी एकाउंटिंग भारत सरकार के पास नहीं होती है और जिसे गैर कानूनी गतिविधियों के माध्यम से कमाया जाता है. अर्थात इस धन को कमाने वाले लोग भारत सरकार को कर नहीं देते हैं और इस इसलिए इस धन को काला धन कहा जाता है.
काला धन कमाने वाले लोग भारत सरकार की नजरों से इस धन को छुपाने के लिए इसे विदेशों में जमा कर देते हैं. इन देशों में स्विट्ज़रलैंड का नाम सबसे पहले आता है. आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि स्विस बैंक में खाता खोलने के लिए क्या योग्यता होनी जरूरी होती है?

वर्ष 1713 में जिनेवा में हुई “ग्रेट काउन्सिल ऑफ़ जेनेवा” की बैठक में बैंकों के लिए नियम बनाये गए कि वे अपने ग्राहकों की बैंक डिटेल को किसी अन्य व्यक्ति को नहीं देंगे. तभी से स्विस बैंक के खाते पूरी दुनिया में सबसे सुरक्षित खातों के रूप में मशहूर हो गये हैं. हालाँकि स्विट्ज़रलैंड की बैंकों में खाता आसानी से नहीं खुलता है.

स्विट्ज़रलैंड की बैंकों में कई प्रकार के खाते खोले जाते हैं जिनमें खाता खोलने की शर्तें और शुरूआती जमा राशि के साथ सुरक्षा के उपाय भी अलग अलग होते हैं. खाता धारक को किस प्रकार की सुरक्षा और लेनदेन की सुविधा प्रदान की जाएगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि उसने किस प्रकार का खाता खुलवाया है और कितनी राशि जमा की है.

भारतीय रूपये का अवमूल्यन: कारण और इतिहास (1947 से अब तक)

आम तौर यह यहाँ पर नंबर खाता (numbered account) खाता खोला जाता है जिसमें लेनदेन बिना खाता धारक का नाम बताये ही हो जाता है. ज्यादातर बैंकों में खाता खुलवाने के लिए व्यक्ति को खुद वहां पर उपस्थित होना पड़ता है लेकिन कुछ बैंक ईमेल और फैक्स के माध्यम से भी खाता खोल देते हैं.

खाता खोलने की क्या योग्यता होनी चाहिए? (Eligibility to open account in Swiss Banks)

विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) एक व्यक्ति को व्यापार करने के उद्देश्य से स्विस खाता खोलने की अनुमति देता है. अगर कोई भारतीय स्विस बैंक में खाता खोलना चाहता है तो उसकी उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए. यदि स्विस बैंकों को यह लगता है कि खाता खोलने वाले व्यक्ति ने मनी लॉंडरिंग, भ्रष्टाचार या आतंकवाद जैसी अवैध गतिविधियों से धन कमाया है तो वह खाता खोलने से मना भी कर सकता है. स्विस बैंक में आप खाता लगभग किसी भी मुद्रा में खुलवा सकते हैं हालाँकि अधिकांश लोग स्विस फ़्रैंक, अमेरिकी डॉलर, यूरो या स्टर्लिंग में खाता खुलवाते हैं.

एक अनिवासी भारतीय जो बाद में निवासी भारतीय बन जाता है, बिना किसी दिक्कत के अंतरराष्ट्रीय बैंक खाते को संचालित कर सकता है.

मिनिमम बैलेंस कितना होना चाहिए? (Minimum balance for account opening in Swiss Bank)

स्विस बैंक में खाता खुलवाने के लिए न्यूनतम शेष राशि खाते के प्रकार (types of account) के हिसाब से भिन्न-भिन्न होती है (यानी, कुछ हज़ार डॉलर से दस लाख डॉलर या उससे अधिक). आम तौर पर कम से कम $100,000 की प्रारंभिक जमा की आवश्यकता होती है और खाताधारक को इस खाते के मेंटेनेंस के लिए प्रति वर्ष $ 300 या उससे अधिक राशि का खर्च भी सहन करना पड़ता है.

खाते से लेनदेन पर शुल्क:

किसी भी अन्य बैंक की तरह, स्विस बैंक भी बैंक में खोले गए खाते के लिए डेबिट / क्रेडिट या चेक सुविधा प्रदान करते हैं. हालांकि, व्यक्ति को अपने खाते की गोपनीयता को बरकरार रखने के लिए केवल यात्री चेक (Travelers checks) के माध्यम से लेनदेन करना चाहिए.

इसमें आपके लेनदेन के प्रकार के हिसाब से अलग-अलग शुल्क भी लगाया जाता है. जैसे एक साधारण खाते पर, अंतरराष्ट्रीय बैंक स्थानान्तरण (आउटगोइंग) की लागत हर लेन देन के लिए $3 या $ 4 हो सकती है. जब आप अपने खाते में अंतरराष्ट्रीय चेक जमा करते हैं तो वे $ 5 से $ 10 भी चार्ज कर सकते हैं.

खाता बंद करना: खाताधारक किसी भी प्रतिबंध या किसी भी शुल्क के बिना किसी भी समय खाते को बंद करने के लिए स्वतंत्र है.

खाते पर मिलने वाला ब्याज: (Interest Rate on Swiss Bank Account)

यदि खाताधारक अपने अकाउंट में स्विस फ़्रैंक में धन जमा करता है तो आपको थोडा सा ब्याज मिलेगा लेकिन स्विस मुद्रा रखने के कारण आपको टैक्स देना पड़ेगा. इस कारण से, अधिकांश खाताधारक जो स्विट्जरलैंड में नहीं रहते हैं, वे स्विस बैंक खाते में कुछ अन्य मुद्रा जैसे यू.एस. डॉलर, ब्रिटिश पाउंड या यूरो इत्यादि में जमा रखते हैं. ऐसा करने पर आपके पैसे को मनी मार्केट फंड में रखा जा सकता है और वहां ब्याज मिलेगा.

इस लेख में दी गयी डिटेल के आधार यह यह निष्कर्ष निकल रहा है कि इसमें केवल सफ़ेद धन ही जमा होता है लेकिन सच्चाई इसके उलट है और भारत के लोगों में यह धारणा बनी है कि जिसका भी अकाउंट स्विस बैंक में है उसके पास काला धन होगा ही.

मसाला बॉन्ड क्या है और भारतीय अर्थव्यवस्था को इससे क्या फायदे हैं?

जानें भारत की करेंसी कमजोर होने के क्या मुख्य कारण हैं?