Search

भारतीय डाक विभाग की Five Star Villages Scheme क्या है?

डाक विभाग द्वारा 100 प्रतिशत ग्रामीण कवरेज को सुनिश्चित करने के लिए फाइव स्टार गांव योजनाओं की शुरुआत की गई है. आइए इस लेख के माध्यम से विस्तार से फाइव स्टार गांवों योजना, इसकी विशेषताएं और उद्देश्यों के बारे में अध्ययन करते हैं.
Sep 25, 2020 18:35 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Five Star Villages Scheme
Five Star Villages Scheme

डाक विभाग ने एक योजना शुरू की है जिसे फाइव स्टार गांवों के रूप में जाना जाता है. यह मुख्य रूप से सुदूरवर्ती गांवों में सार्वजनिक जागरूकता और डाक उत्पादों और सेवाओं तक पहुंचने मदद करेगी.

 विशेष रूप से, इस योजना के तहत सभी डाक उत्पादों और सेवाओं को ग्रामीण स्तर पर उपलब्ध और मार्केटिंग और प्रचारित किया जाएगा. 

फाइव स्टार गांवों योजना का उद्देश्य

यह योजना देश के ग्रामीण क्षेत्रों में प्रमुख डाक योजनाओं की सार्वभौमिक कवरेज सुनिश्चित करती है.

फाइव स्टार गांवों योजना की विशेषताएं
फाइव स्टार विलेज योजना के तहत, सभी डाक उत्पादों और सेवाओं को उपलब्ध कराया जा रहा है और ग्रामीण स्तर पर विपणन और प्रचारित किया जा रहा है. ग्रामीणों की सभी डाकघर संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए, शाखा कार्यालय वन-स्टॉप शॉप के रूप में कार्य करेंगे.तीन घटक उत्पाद और सेवा उपलब्धता, उत्पाद और सेवा प्रचार और उत्पाद और सेवा विपणन हैं.

जानें उत्तर प्रदेश की स्पेशल सिक्युरिटी फोर्स (UPSSF) के बारे में

इस योजना के तहत शामिल किया गया है:

1. बचत बैंक खाते, आवर्तक जमा खाते, NSC / KVP सर्टिफिकेट्स (Savings Bank accounts, Recurrent Deposit Accounts, NSC / KVP certificates.)

2. सुकन्या समृद्धि खाते /  PPF खाते (Sukanya Samridhi Accounts/ PPF Accounts)

3. वित्त पोषित डाकघर बचत खाता भारत डाक भुगतान बैंक खातों से जुड़ा हुआ है (Funded Post Office Savings Account linked India Post Payments Bank Accounts)

4. पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी / ग्रामीण डाक जीवन बीमा पॉलिसी (Postal Life Insurance Policy/Rural Postal Life Insurance Policy)

5. प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना खाता / प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना खाता (Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana Account / Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana Account)

गाँव के लिए रेटिंग प्रणाली कैसे तय की जाएगी?

उपरोक्त सूची से, यदि कोई गाँव चार योजनाओं के लिए सार्वभौमिक कवरेज प्राप्त करता है, तो उस गाँव को फोर-स्टार दर्जा मिल जाता है. यदि कोई गाँव तीन योजनाओं को पूरा करता है तो उस गाँव को थ्री-स्टार दर्जा मिल जाएगा इत्यादि.

केंद्रीय संचार राज्य मंत्री, श्री संजय धोत्रे के अनुसार, यह योजना महाराष्ट्र में पायलट आधार पर शुरू की जा रही है. यहां के अनुभव के आधार पर इसे देशव्यापी लागू किया जाएगा.

इसके अलावा, उन्होंने कहा कि आत्म निर्भार भारत के लक्ष्य को पूरा करने का तरीका सहयोगात्मक प्रयासों के माध्यम से है जो वित्तीय समावेशन प्रदान करने के लक्ष्य के साथ एक अम्ब्रेला के नीचे एक साथ लाया गया है.

इस योजना के तहत, पूरे महाराष्ट्र राज्य को कवर किया जाने वाला है. शुरू करने के लिए, प्रत्येक क्षेत्र के लिए दो ग्रामीण जिलों / क्षेत्रों की पहचान की जाएगी: नागपुर क्षेत्र में अकोला और वाशिम; औरंगाबाद क्षेत्र में परभणी (Parbhani) और हिंगोली (Hingoli); पुणे क्षेत्र में सोलापुर और पंढरपुर; गोवा क्षेत्र में कोल्हापुर और सांगली; और नवी मुंबई क्षेत्र में मालेगाँव और पालघर.

वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-2021 के दौरान, प्रत्येक जिले के कुल 50 गाँवों को कवर किया जाएगा. क्षेत्रीय कार्यालय ( Regional offices) कवर किए जाने वाले गांवों की पहचान करेंगे.

योजना कार्यान्वयन टीम के बारे में

- यह योजना पांच ग्रामीण डाक सेवकों की एक टीम द्वारा लागू की जाने वाली है, जिन्हें डाक विभाग के सभी उत्पादों, बचत और बीमा योजनाओं के विपणन के लिए एक गांव सौंपा जाएगा.

- संबंधित ब्रांच ऑफिस का ब्रांच पोस्ट मास्टर टीम को हेड करेगा. दिन प्रतिदिन टीम की प्रगति पर व्यक्तिगत निगरानी मेल ओवरसियर ( mail overseer) द्वारा की जा रही है.

- संबंधित डिवीजनल हेड (Divisional Head), असिस्टेंट सुपरिंटेंडेंट पोस्ट (Assistant Superintendents Posts) और इंस्पेक्टर पोस्ट ( Inspector Posts) द्वारा टीमों का नेतृत्व और निगरानी की जाएगी.

अभियान, प्रशिक्षण और निगरानी (Campaign, Training, and Monitoring)

ग्रामीण डाक सेवकों की टीम सभी योजनाओं पर डोर-टू-डोर (door-to-door) जागरूकता अभियान चलाएगी. यह सभी पात्र ग्रामीणों को कवर करेंगे. शाखा कार्यालय के नोटिस बोर्ड पर सूचना प्रदर्शित करके व्यापक स्तर पर प्रचार किया जाएगा.

पंचायत कार्यालयों, स्कूलों, ग्राम औषधालयों, बस डिपो, बाजारों जैसे लक्षित गांवों के प्रमुख स्थानों को भी विज्ञापन के लिए इस्तेमाल किया जाएगा और पंपलेट वितरित किए जाने वाले हैं. COVID-19 सुरक्षा दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए छोटे मेलों का भी आयोजन किया जाएगा.

प्रशिक्षण जो आवश्यक है और सभी योजनाओं को कवर करने वाले बुनियादी ढाँचे को पहचान वाले गाँवों में सभी या किसी भी शाखा कार्यालयों को प्रदान किया जाएगा. योजना की प्रगति और लक्ष्य को सर्कल, क्षेत्रीय और मंडल स्तरों पर बारीकी से देखा जा सकता है. मुख्य पोस्ट मास्टर (Chief Post Master) जनरल मासिक प्रगति की समीक्षा करेंगे.

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना: उद्देश्य, और मत्स्य पालन क्षेत्र से संबंधित अन्य उद्घाटन