Search

1857 से पहले ब्रिटिश भारत के अधिनियमों पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

Shakeel Anwar07-AUG-2018 14:51
GK Questions and Answers on the Acts before 1857 during British India HN

भारत मे यूरोपीयों का आगमन को एक नये युग का सूत्रपात माना जा सकता है। 15वीं सदी के दौरान भारत के सामुद्रिक रास्तों की खोज ने यूरोप के लिए भारत मुख्य आकर्षण का केंद्र बन गया था। 17वीं शताब्दी के अंत तक यूरोपीय कई एशियाई स्थानों पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुके थे और अठारहवीं सदी के उत्तरार्ध में वे कई जगहों पर अधिकार भी कर लिए थे। किन्तु 19वीं सदी में जाकर ही अंग्रेजों का भारत पर एकाधिकार हो पाया था। अंग्रेज एक व्यापारी के रूप में आए थे लेकिन भारत की राजनीतिक असमानता तथा राजनीतिक शत्रुता ने उनको व्यापारी से शासक बनने के लिए प्रेरित कर दिया था। इसलिए अपना अधिपत्य स्थापित करने तथा अपने शासन की वैधता और मजबूती प्रदान करने के लिए उन्होंने बहुत से अधिनियम लाये।

1. ब्रिटिश भारत के निम्नलिखित अधिनियम में से कौन सा अधिनियम बंगाल के गवर्नर जनरल को नामित करता है?

A. रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773

B. पिट्स इंडिया एक्ट, 1784

C. चार्टर एक्ट, 1793

D. चार्टर एक्ट, 1813

Ans: A

व्याख्या: रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773 का उद्देश्य भारत में ईस्ट इंडिया कम्पनी की गतिविधियों को ब्रिटिश सरकार की निगरानी में लाना था। इसके अतिरिक्त कम्पनी की संचालन समिति में आमूल-चूल परिवर्तन करना तथा कम्पनी के राजनीतिक अस्तित्व को स्वीकार कर उसके व्यापारिक ढाँचे को राजनीतिक कार्यों के संचालन योग्य बनाना भी इसका उद्देश्य था। मद्रास तथा बम्बई प्रेसीडेंसियों को बंगाल प्रेसीडेन्सी के अधीन कर दिया गया तथा बंगाल के गवर्नर जनरल को तीनों प्रेसीडेन्सियों का गवर्नर जनरल बना दिया गया। इसलिए, A सही विकल्प है।

2. निम्नलिखित अधिनियम में से किस अधिनियम के द्वारा ब्रिटिश भारत में कलकत्ता में सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना की गयी थी?

A. रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773

B. पिट्स इंडिया एक्ट, 1784

C. चार्टर एक्ट, 1793

D. चार्टर एक्ट, 1813

Ans: A

व्याख्या: रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773 द्वारा कलकत्ता में एक सुप्रीम कोर्ट की स्थापना की गयी थी, जिसमें एक मुख्य न्यायधीश और तीन अन्य न्यायाधीश नियुक्त किये गये थे, जो अंग्रेज़ी क़ानून के अनुसार प्रजा के मुक़दमों का निर्णय करते थे। इसका कार्य क्षेत्र बंगाल, बिहार, उड़ीसा तक था। इसलिए, A सही विकल्प है।

3. निम्नलिखित में से किस ब्रिटिश अधिनियम ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को व्यापार का विशेषाधिकार दिया था?

A. रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773

B. पिट्स इंडिया एक्ट, 1784

C. चार्टर एक्ट, 1793

D. चार्टर एक्ट, 1813

Ans: C

व्याख्या: 1793 ई. के चार्टर क़ानून ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में व्यापार वाणिज्य पर एकाधिकार जमाये रखने तथा अपने हस्तगत क्षेत्रों पर शासन करने की पूरी छूट दे दी गई थी। इसलिए, C सही विकल्प है।

चोल राजवंश पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

4. निम्नलिखित में से कौन सा ब्रिटिश अधिनियम ने ब्रिटिश सरकार की संसदीय प्रणाली के विचार को प्रस्तुत किया था?

 पर विचार करता है?

A. चार्टर एक्ट, 1793

B. चार्टर एक्ट, 1813

C. चार्टर एक्ट, 1833

D. चार्टर एक्ट, 1853

Ans: D

व्याख्या: चार्टर एक्ट, 1853 द्वारा भारत में शासन की संसदीय प्रणाली, जैसे –कार्यपालिका व विधानपरिषद ,के विचार को प्रस्तुत किया गया जिसमे विधानपरिषद ब्रिटिश संसदीय मॉडल के अनुसार कार्य करती थी। इसलिए, D सही विकल्प है।

5. निम्नलिखित में से किस ब्रिटिश अधिनियम ने भारतीय सिविल सेवा को खुली प्रतिस्पर्धा के रूप में पेश किया था?

A. चार्टर एक्ट, 1793

B. चार्टर एक्ट, 1813

C. चार्टर एक्ट, 1833

D. चार्टर एक्ट, 1853

Ans: D

व्याख्या: चार्टर एक्ट, 1853 में भारतीय सिविल सेवा के सदस्यों की नियुक्ति खुली प्रतिस्पर्धा द्वारा करने का प्रावधान शामिल किया गया था। मैकाले को समिति का अध्यक्ष बनाया गया था। इसलिए, D सही विकल्प है।

6. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें।

I. इसने मिशनरियों को भारत में ईसाई धर्म फैलाने की इजाजत दी।

II. इसने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को एक प्रशासनिक निकाय के रूप में बनाया।

उपरोक्त में से कौन सा कथन 1833 का चार्टर अधिनियम के सन्दर्भ में सही है?

Code:

A. Only I

B. Only II

C. Both I and II

D. Neither I nor II

Ans: B

व्याख्या: 1833 ई. के चार्टर क़ानून ने ईस्ट इंडिया कम्पनी की व्यापारिक भूमिका समाप्त कर दी थी और उसे पूरी तरह भारतीय प्रशासन के लिए इंग्लैण्ड के राजा के राजनीतिक अभिकरण के रूप में परिणत कर दिया था। इसलिए, B सही विकल्प है।

1857 के बाद ब्रिटिश भारत के अधिनियमों पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

 7. निम्नलिखित का मिलान करे:

   Set I

a. चार्टर एक्ट, 1833

b. चार्टर एक्ट, 1853

c. चार्टर एक्ट, 1813

d. चार्टर एक्ट, 1793

   Set II

1. मद्रास तथा बम्बई के गवर्नर, गवर्नर-जनरल के अधीन हो गये।

2. इस चार्टर क़ानून ने कम्पनी के भारतीय क्षेत्रों में ईसाई पादरियों को भी प्रवेश करने की अनुमति दे दी तथा भारतीय प्रशासन में एक धार्मिक विभाग जोड़ दिया।

3. इसमें कम्पनी को सरकारी अभिकरण के रूप में अपना काम जारी रखने का अधिकार दिया गया और क़ानून आयोग के काम को पूरा करने का प्रबन्ध किया गया।

4. इस चार्टर क़ानून ने ईस्ट इंडिया कम्पनी की व्यापारिक भूमिका समाप्त कर दी और उसे पूरी तरह भारतीय प्रशासन के लिए इंग्लैण्ड के राजा के राजनीतिक अभिकरण के रूप में परिणत कर दिया।

Code:

    a   b    c     d

A. 1   2    3     4

B. 4   1    3     2

C. 4   3    2     1

D. 1   4    2     3

Ans: C

व्याख्या: सही मिलान नीचे दिया गया है-

चार्टर एक्ट, 1833 - इस चार्टर क़ानून ने ईस्ट इंडिया कम्पनी की व्यापारिक भूमिका समाप्त कर दी और उसे पूरी तरह भारतीय प्रशासन के लिए इंग्लैण्ड के राजा के राजनीतिक अभिकरण के रूप में परिणत कर दिया।

चार्टर एक्ट, 1853 - इसमें कम्पनी को सरकारी अभिकरण के रूप में अपना काम जारी रखने का अधिकार दिया गया और क़ानून आयोग के काम को पूरा करने का प्रबन्ध किया गया।

चार्टर एक्ट, 1813 - इस चार्टर क़ानून ने कम्पनी के भारतीय क्षेत्रों में ईसाई पादरियों को भी प्रवेश करने की अनुमति दे दी तथा भारतीय प्रशासन में एक धार्मिक विभाग जोड़ दिया।

चार्टर एक्ट, 1793 - मद्रास तथा बम्बई के गवर्नर, गवर्नर-जनरल के अधीन हो गये।

इसलिए, C सही विकल्प है।

8. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें।

I. बंगाल के गवर्नर जनरल के कार्यालय को भारत के गवर्नर जनरल के साथ बदल दिया गया।

II. लॉर्ड विलियम बैंटिक (विलियम कैवेंडिश बैटिंग) को भारत का प्रथम गवर्नर-जनरल का पद सुशोभित करने का गौरव प्राप्त हुआ था।

उपरोक्त में से कौन सा कथन 1833 का चार्टर अधिनियम के सन्दर्भ में सही है?

A. Only I

B. Only II

C. Both I and II

D. Neither I nor II

Ans: C

व्याख्या: 1833 ई. का चार्टर अधिनियम द्वारा बंगाल के गवर्नर जनरल को भारत का गवर्नर जनरल की वैधता प्रदान कर दी गयी थी। लॉर्ड विलियम बेंटिक को “ब्रिटिश भारत का प्रथम गवर्नर जनरल” बनाया गया था। इसलिए, C सही विकल्प है।

9. Assertion (A): 1773 ई. के रेग्युलेटिंग एक्ट की कमियों को दूर करने और कंपनी के भारतीय क्षेत्रों के प्रशासन को अधिक सक्षम और उत्तरदायित्वपूर्ण बनाने के लिये अगले एक दशक के दौरान जाँच के कई दौर चले और ब्रिटिश संसद द्वारा अनेक कदम उठाये गए।

Reason (R): इनमें सबसे महत्पूर्ण कदम 1784 ई. में पिट्स इंडिया एक्ट को पारित किया जाना था,जिसका नाम ब्रिटेन के तत्कालीन  युवा प्रधानमंत्री विलियम पिट के नाम पर रखा गया था। इस अधिनियम द्वारा ब्रिटेन में बोर्ड ऑफ़ कण्ट्रोल की स्थापना की गयी जिसके माध्यम से ब्रिटिश सरकार भारत में कंपनी के नागरिक,सैन्य और राजस्व सम्बन्धी कार्यों पर पूर्ण नियंत्रण रखती थी।

Code:

A. A और R दोनों सही हैं और R, A की सही व्याख्या है।

B. A और R दोनों सत्य हैं और R, A की सही व्याख्या नहीं है।

C. A सही है लेकिन R ग़लत है।

D. A और R दोनों सही हैं

Ans: A

व्याख्या: 1773 ई. के रेग्युलेटिंग एक्ट की कमियों को दूर करने और कंपनी के भारतीय क्षेत्रों के प्रशासन को अधिक सक्षम और उत्तरदायित्वपूर्ण बनाने के लिये अगले एक दशक के दौरान जाँच के कई दौर चले और ब्रिटिश संसद द्वारा अनेक कदम उठाये गए।

इनमें सबसे महत्पूर्ण कदम 1784 ई. में पिट्स इंडिया एक्ट को पारित किया जाना था,जिसका नाम ब्रिटेन के तत्कालीन  युवा प्रधानमंत्री विलियम पिट के नाम पर रखा गया था। इस अधिनियम द्वारा ब्रिटेन में बोर्ड ऑफ़ कण्ट्रोल की स्थापना की गयी जिसके माध्यम से ब्रिटिश सरकार भारत में कंपनी के नागरिक,सैन्य और राजस्व सम्बन्धी कार्यों पर पूर्ण नियंत्रण रखती थी।

इसलिए, A सही विकल्प है।

10. बंगाल के पहले गवर्नर जनरल कौन थे?

A. लॉर्ड वॉरेन हेस्टिंग्स

B. लॉर्ड विलियम बेंटिनक

C. लॉर्ड मेयो

D. रॉबर्ट क्लाइव

Ans: A

व्याख्या: रेग्युलेटिंग एक्ट, 1773 के तहत मद्रास तथा बम्बई प्रेसीडेंसियों को बंगाल प्रेसीडेन्सी के अधीन कर दिया गया तथा बंगाल के गवर्नर जनरल को तीनों प्रेसीडेन्सियों का गवर्नर जनरल बना दिया गया। इस प्रकार वारेन हेस्टिंग्स को बंगाल का प्रथम गवर्नर जनरल कहा जाता है और वे लोग सत्ता का उपयोग संयुक्त रूप से करते थे। इसलिए, A सही विकल्प है।

1000+ भारतीय इतिहास पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी