Search

भारतीय वन के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

02-AUG-2018 18:15

    Important Facts about Indian Forest HN

    भारत अत्याधिक विविधतापूर्ण एवं मृदा का देश है। इसलिए यहाँ उष्णकटिबंधीय वनों से लेकर टुन्ड्रा प्रदेश तक की वनस्पतियाँ पायी जाती हैं। पर्यावरण और वन मंत्रालय भारत सरकार के पर्यावरण, वन नीतियों और कार्यक्रमों के कार्यान्वयन की निगरानी के लिए केंद्र सरकार में नोडल एजेंसी है। 2015 में जारी भारत राज्य वन रिपोर्ट के मुताबिक, 2013-2015 के बीच कुल वन क्षेत्र में 5081 वर्ग किलोमीटर की वृद्धि हुई है, जिससे की 103 मिलियन टन कार्बन सिंक की बढ़त दर्ज़ की गई है। नियंत्रण की दृष्टि से भारतीय वनों को तीन भागों में बाँटा गया है: सुरक्षित वन; रक्षित वन ; अन्य वन।

    भारतीय वन के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

    1. भारत में जुलाई के प्रथम सप्ताह में वन महोत्सव मनाया जाता है।

    2. राष्ट्रीय वन नीति का शुभारम्भ 1952 ई. हुआ था।

    3. चिपको आंदोलन, वनों के कटाव को रोकने के लिए हुआ था।

    4. सुन्दर लाल बहुगुणा के नेतृत्व में चिपको आंदोलन हुआ था।

    5. चिपको आंदोलन को राइट लिवलीहुड पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

    6. फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट, देहरादून में स्थित है।

    7. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेस्ट मैनेजमेन्ट की स्थापना भोपाल में 1981 ई. में हुई थी।

    8. राष्ट्रीय वन नीति के अनुसार भारत में 33% क्षेत्रफल पर वन आवश्यक है।

    9. भारतीय वन सर्वेक्षण का मुख्यालय देहरादून में स्थित है।

    10. राष्ट्रीय पर्यावरण शोध संस्थान नागपुर में स्थित है।

    क्या आप हरित जीडीपी और पारिस्थितिकीय ऋण के बारे में जानते हैं

    11. के. एम. मुंशी को वन महोत्सव का जनक बोला जाता है।

    12. भारतीय वन सर्वेक्षण विभाग वनों की ताजा रिपोर्ट जारी करता है।

    13. पहली बार भारत वन स्‍थिति रिपोर्ट 2017 में वनों में स्थित जल स्रोतों का 2005 से 2015 की अवधि के आधार पर आकलन किया गया है। इसके अनुसार इन जल निकायों के क्षेत्रफल में 2647 वर्ग किमी. की वृद्धि हुई है। इनमें महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश शीर्ष राज्य हैं।

    14. नई राष्ट्रीय वन नीति के अनुसार भारत में फिलहाल 21.34%* भाग पर वन है।

    15. भारत में सबसे अधिक वन मध्य प्रदेश में हैं।

    16. 1981 ई. में भारतीय वन सर्वेक्षण विभाग की स्थापना की गई थी।

    17. भारत में उष्णार्द पतझड़ वन सर्वाधिक पाये जाते हैं।

    18. भारत में चन्दन की लकड़ी कर्नाटक के वनों में अधिक पाये जाते हैं।

    19.''साइलेंट वैली'' (शांत घाटी) केरल में स्थित है।

    20. फूलों की घाटी, उत्तराखंड में स्थित है।

    जैव विविधता से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और सम्मेलनों की सूची

    21. कर्नाटक, शहतूत रेशम उत्पादित करता है।

    22. उष्ण कटिबंधीर्य अर्द्ध सदाबहार वन, भारत में सबसे महत्वपूर्ण व्यावसायिक वन में से एक हैं।

    23. भारत में 93% उष्ण कटिबंधीय और 7% शीतोष्ण कटिबंधीय वन हैं।

    24. प्रायद्वीपीय पठार पर, उष्ण कटिबंधीय सदाबहार वन पाये जाते हैं।

    25. भारतीय राज्यों की तुलना मे हरियाणा में सबसे कम वन पाए जाते हैं।

    26. भारत के पश्चिमी घाट पर सदाहरित वनस्पति पायी जाती है।

    27. मैंग्रोव वन दलदली एवं ज्वर भाटा वाले क्षेत्रों में पाए जाते हैं।

    28. भारत में वन क्षेत्र की दृष्‍टि से मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा वन क्षेत्र (77522 वर्ग. कि.मी) है, इसके बाद अरुणाचल प्रदेश (67321 वर्ग. कि.मी), छत्तीसगढ़ (55621 वर्ग. कि.मी) है।

    29. केंद्र सरकार ने 1988 ई. में नई वन नीति के घोषणा की थी। जिसका बुनियादी उद्देश्य निम्नलिखित हैं: ‘संरक्षण’ द्वारा ‘पर्यावरण स्थिरता को बनाए रखना; देश में वनों की कमी के कारण गंभीर अवस्था में पहुँच चुके पारिस्थितिकी संतुलन को बहाल करना।

    30. 6000 मीटर की ऊँचाई के बाद हिमाचल पर वनस्पति नहीं उगती है।

    भारतीय ग्रीन ई-क्लीयरेंस: संकल्पना, परियोजना और महत्व

    31. गंगा-ब्रह्मपुत्र के डेल्टाई क्षेत्रों में सुदंरी वृक्ष की अधिकता के कारण इसे ‘सुंदरवन’ कहा जाता है।

    32. भारत में पूर्वी हिमालय एवं पश्चिमी घाट को जैवविधिता काताप स्थल बोला जाता है।

    33. भारत के उत्तर हिमालय का पर्वतयी प्रदेश में उष्णकटिबंधीय से लेकर अल्पलाइन प्रकार की वनस्पति पाई जाती है।

    34. उष्णार्द्र पतझड़ वन में 100 से.मी. से 200 से.मी. औसत वर्षा होती है।

    35. मिज़ोरम में सबसे अधिक 93 प्रतिशत वन क्षेत्र है फिर भी कई उत्तर पूर्वी राज्यों में हरित आवरण में गिरावट दर्ज़ की गई है।

    पर्यावरण और पारिस्थितिकीय: समग्र अध्ययन सामग्री

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    Newsletter Signup

    Copyright 2018 Jagran Prakashan Limited.
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK