75th Indian Independence Day 2021: क्या है स्वतंत्रता दिवस का इतिहास, इसका महत्व और भारत में इसे कैसे मनाया जाता है?

75th Indian Independence Day 2021: एक लंबे संघर्ष के बाद 15 अगस्त, 1947 को भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्ति मिली थी। हर साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उन सभी नेताओं को सम्मानित किया जाता है जिनका भारत के आज़ाद होने में योगदान रहा है। इस वर्ष भारत अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है।
Created On: Aug 15, 2021 07:55 IST
Modified On: Aug 15, 2021 08:01 IST
75th Indian Independence Day 2021: क्या है स्वतंत्रता दिवस का इतिहास, इसका महत्व और भारत में इसे कैसे मनाया जाता है?
75th Indian Independence Day 2021: क्या है स्वतंत्रता दिवस का इतिहास, इसका महत्व और भारत में इसे कैसे मनाया जाता है?

इस साल भारत में 75वां स्वतंत्रता दिवस मनाया जाएगा। एक लंबे संघर्ष के बाद 15 अगस्त, 1947 को भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्ति मिली थी। हर साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उन सभी व्यक्तियों को सम्मानित किया जाता है जिनका भारत के आज़ाद होने में योगदान रहा है। स्वतंत्रता दिवस के दिन भारत के प्रधान मंत्री लाल किले में तिरंगा फहराते हैं, और राष्ट्र को एक भाषण देते हैं। स्कूलों और संगठनों से जुड़े विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम दिल्ली में आयोजित किए जाते हैं। 

भारत इस साल अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। इस अवसर को यादगार बनाने के लिए भारत सरकार ने आज़ादी के अमृत महोत्सव को लॉन्च किया है। इसके साथ ही सरकार ने इस वर्ष एक नई वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्च की है जिससे दुनिया के किसी भी कोने में बैठे भारतीय 75वें स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम का हिस्सा बन सकेंगे। इस साल की थीम ‘Nation First, Always First' रखी गई है।

Indian Independence Day 2021: दुनिया के किसी भी कोने में मौजूद भारतीय बन सकेंगे कार्यक्रम का हिस्सा, भारत सरकार ने लॉन्च की वेबसाइट

भारतीय स्वतंत्रता दिवस: इतिहास

वर्ष 1757 में भारत में ब्रिटिश शासन की शुरुआत हुई, जिसके बाद प्लासी के युद्ध में इंग्लिश ईस्ट इंडिया कंपनी की जीत हुई और देश पर नियंत्रण प्राप्त किया गया। ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में लगभग 100 वर्षों तक हुकूमत की और फिर ब्रिटिश ताज ने 1857-58 में इसे इंडियन म्यूटिनी के माध्यम से बदल दिया। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की शुरुआत की गई जिसका नेतृत्व महात्मा गांधी ने किया था। गांधी जी ने अहिंसा और  असहयोग आंदोलन की पद्धति की वकालत की थी जिसने बाद में सविनय अवज्ञा आंदोलन का रूप ले लिया।

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रितानी हुकूमत को भारी मात्रा में वित्तीय नुकसान उठाना पड़ा, जिसके बाद सन् 1946 में ब्रिटिश सरकार ने भारत पर अपना शासन समाप्त करने पर विचार किया। 1947 की शुरुआत में ब्रिटिश सरकार ने ऐलान किया कि वे जून 1948 तक सभी भारतीयों को सारी पावर हस्तांतरित कर देंगे। 

जून 1947 में पंडित जवाहर लाल नेहरू, मोहम्मद अली जिन्ना, अबुल कलाम आज़ाद, बी आर अम्बेडकर जैसे कई नेता भारत के विभाजन के लिए सहमत हुए। विभिन्न धार्मिक समूहों के लाखों लोगों ने निवास करने के लिए स्थान ढूंढना शुरू कर दिया। विभाजन के दौरान 250,000 से 500,000 लोग मारे गए। 15 अगस्त, 1947 को आधी रात को भारत को स्वतंत्रता मिली और जवाहर लाल नेहरू के भाषण "भाग्य के साथ प्रयास" द्वारा संपन्न हुई।

भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम 1947 क्या है?

20 फरवरी, 1947 को ब्रिटिश प्रधान मंत्री क्लीमेंट एटली ने घोषणा की कि भारत में ब्रिटिश शासन 30 जून, 1948 तक समाप्त हो जाएगा, जिसके बाद शक्तियों को जिम्मेदार भारतीय हाथों में सौंप दिया जाएगा। इस घोषणा के बाद मुस्लिम लीग द्वारा आंदोलन किया गया और देश के विभाजन की मांग की गई। फिर, 3 जून, 1947 को, ब्रिटिश सरकार ने घोषणा की कि 1946 में गठित भारतीय संविधान सभा द्वारा बनाया गया है और वे देश के उन हिस्सों पर लागू नहीं हो सकता जो इसे स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं।

3 जून, 1947 को, लॉर्ड माउंटबेटन, भारत के वाइसराय ने विभाजन योजना को सामने रखा, जिसे माउंटबेटन योजना के नाम से जाना जाता है। कांग्रेस और मुस्लिम लीग ने योजना को स्वीकार कर लिया। भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम 1947 को लागू करने वाली योजना को तत्काल प्रभाव दिया गया।

14-15 अगस्त, 1947 की मध्यरात्रि को, ब्रिटिश शासन समाप्त हो गया, और भारत और पाकिस्तान के दो नए स्वतंत्र डोमिनियन को सत्ता हस्तांतरित कर दी गई। लॉर्ड माउंटबेटन भारत के नए डोमिनियन के पहले गवर्नर-जनरल बने। जवाहर लाल नेहरू स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री बने। 1946 में स्थापित संविधान सभा भारतीय प्रभुत्व की संसद बन गई।

भारतीय स्वतंत्रता दिवस: समारोह

आपको बता दें कि 2021 में भारत अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। हर साल सेना, नौसेना और वायु सेना की लाल किले में परेड होती है। इतना ही नहीं स्कूल के बच्चे रंगीन कपड़े पहनाकर अभिनय करते हैं। भारत के प्रधान मंत्री हर साल झंडा फहराते हैं और लाल किले की प्राचीर से भाषण देते हैं। दिल्ली में विभिन्न स्कूलों और संगठनों द्वारा कई सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं लेकिन इस साल चल रही महामारी के कारण ऐसा संभव नहीं है।

स्वतंत्रता दिवस पर लोग पतंग उड़ाते हैं जो भारत की स्वतंत्र भावना का प्रतीक है। दिल्ली में लाल किला भी एक महत्वपूर्ण प्रतीक है क्योंकि 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्र भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू ने भारत के ध्वज का अनावरण किया था। कई लोग दिल्ली शहर में ध्वजारोहण समारोह में भाग लेते हैं जो देखने के लिए एक सुंदर अनुभव है। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर कुछ लोग देशभक्ति सिनेमा देखते हैं, कुछ लोग टीवी पर लाल किले में चल रहे समारोह का प्रसारण देखते हैं, तो वहीं कुछ लोग एक दूसरे को मिठाई खिला कर स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। 

भारत में स्वतंत्रता दिवस विभिन्न तरीकों से और पूरे देशभक्ति की भावनाओं के साथ मनाया जाता है। हमें भारतीय होने पर गर्व है। स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं!

75th Indian Independence Day 2021: भारत में 15 अगस्त को ही क्यों स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है?

Independence Day 2021: भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के 7 महानायक जिन्होंने आजादी दिलाने में मुख्य भूमिका निभाई

Comment (0)

Post Comment

7 + 2 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.