2027 से पहले ही भारत बन सकता है सर्वाधिक आबादी वाला देश, जानें कैसे?

संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी की गई वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रोस्पेक्ट्स 2019 रिपोर्ट के अनुसार, भारत 2027 तक दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा। हालांकि, हाल ही में चीनी विशेषज्ञों द्वारा किए गए एक शोध के मुताबिक भारत 2027 के पूर्वानुमान से पहले ही दुनिया की सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा।
Created On: May 18, 2021 14:59 IST
Modified On: May 18, 2021 15:31 IST
2027 से पहले ही भारत बन सकता है सर्वाधिक आबादी वाला देश
2027 से पहले ही भारत बन सकता है सर्वाधिक आबादी वाला देश

संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी की गई वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रोस्पेक्ट्स 2019 रिपोर्ट के अनुसार, अगले 30 वर्षों में पूरे विश्व की जनसंख्या में 2 बिलियन की वृद्धि होने की उम्मीद है, जो वर्तमान में 7.7 बिलियन से बढ़कर 2050 में 9.7 बिलियन हो जाएगी। इतना ही नहीं, दुनिया की आबादी इस सदी के अंत में अपने चरम पर पहुंच सकती है, लगभग 11 बिलियन।

सर्वाधिक आबादी वाला देश बनेगा भारत

2019 में भारत की अनुमानित आबादी 1.37 बिलियन थी जो साल 2021 में बढ़कर लगभग 1.39 बिलियन हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत 2027 तक दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा और 2050 तक भारत की आबादी में 27.3 करोड़ की वृद्धि होगी।वहीं, दुनिया का सर्वाधिक आबादी वाला देश, चीन, 2027 तक दूसरे पायदान पर खिसक जाएगा। 

2027 से पहले ही भारत बन सकता है सर्वाधिक आबादी वाला देश 

चीनी विशेषज्ञों द्वारा किए गए एक शोध के मुताबिक भारत संयुक्त राष्ट्र के पूर्वानुमान से पहले ही दुनिया की सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा। 2019 में चीन की अनुमानित आबादी 1.4 बिलियन थी जो साल 2021 में बढ़कर लगभग 1.41 बिलियन हो गई है।

इन देशों की आबादी 2050 तक वैश्विक आबादी के दोगुने से अधिक

रिपोर्ट के अनुसार, 9 देशों की आबादी 2050 तक वैश्विक आबादी के दोगुने से अधिक होने का अनुमान है। ये अवरोही क्रम में इस प्रकार हैं: भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, इथियोपिया, संयुक्त गणराज्य तंजानिया, इंडोनेशिया, मिस्र और अमेरिका।

न्यूनतम आबादी में एक फीसदी की गिरावट

रिपोर्ट के अनुसार, 2010 से 27 देशों की न्यूनतम आबादी में एक फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। 2019 और 2050 के बीच में 55 देशों की आबादी में एक फीसदी की कमी आने का अनुमान है। आबादी में कमी आने वाले देशों में चीन भी शामिल है। 2050 तक चीन की आबादी में 2.2 फीसद की गिरावट आने का अनुमान है। 

जीवन प्रत्याशा में बढ़ोतरी व प्रजनन स्तर में गिरावट

रिपोर्ट ने यह भी पुष्टि की गई है कि बढ़ती जीवन प्रत्याशा (increasing life expectancy) और प्रजनन स्तर में गिरावट (falling fertility levels) के कारण दुनिया की जनसंख्या में वृद्ध हो रही है। 

वैश्विक जीवन प्रत्याशा, जो 1990 में 64.2 वर्ष थी, वो 2019 में बढ़कर 72.6 वर्ष हो गई और 2050 में और बढ़कर 77.1 वर्ष होने की उम्मीद है। वैश्विक प्रजनन दर, जो 1990 में 3.2 जन्म प्रति महिला थी, वो 2019 में गिरकर 2.5 हो गई और 2050 में और गिरकर 2.2 हो जाने का अनुमान है।

80 या उससे अधिक आयु के व्यक्तियों की संख्या में वृद्धि

रिपोर्ट के मुताबिक, 2050 तक दुनिया में छह लोगों में से एक की उम्र 65 से अधिक होगी। 80 या उससे अधिक आयु के व्यक्तियों की संख्या 2019 में 143 मिलियन थी जो 2050 में बढ़कर 426 मिलियन होने का अनुमान है।

अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट: क्या भारत-पाकिस्तान के बीच हो सकता है बड़े पैमाने पर युद्ध?

Comment ()

Post Comment

4 + 2 =
Post

Comments