Comment (0)

Post Comment

2 + 5 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.

    भारतीय गणतंत्र दिवस परेड में आने वाले सभी मुख्य अतिथियों की सूची (1950-2021)

    भारत सरकार हर साल एक विदेशी नेता को गणतंत्र दिवस परेड के अवसर पर आमंत्रित करती है. पाकिस्तान के गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मुहम्मद पहले व्यक्ति थे जिन्होंने राजपथ, नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के रूप में भाग लिया था. आइये इस लेख के माध्यम से भारतीय गणतंत्र दिवस परेड में आने वाले सभी मुख्य अतिथियों के बारे में जानते हैं.
    Created On: Jan 25, 2021 19:05 IST
    Modified On: Jan 25, 2021 19:05 IST
    Republic Day Parade
    Republic Day Parade

    भारत एक स्वतंत्र, संप्रभु और लोकतांत्रिक देश है जिसने 26 जनवरी 1950 को अपना संविधान लागू किया था. भारत के एक गणराज्य बनने की खुशी में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप मनाया जाता है.

    14 जनवरी, 2021 को, विदेश मंत्रालय ने घोषणा की कि गणतंत्र दिवस परेड के समारोह के लिए मुख्य अतिथि के रूप में कोई विदेशी नेता नहीं होगा. ऐसा पांच दशकों में पहली बार होगा कि देश में गणतंत्र दिवस समारोह में कोई मुख्य अतिथि नहीं होगा.  COVID-19 महामारी से उत्पन्न वैश्विक स्थिति के कारण इसे रद्द कर दिया गया है.

    2020 में, भारत ने यूनाइटेड किंगडम के प्रधानमंत्री, बोरिस जॉनसन को 26 जनवरी, 2021 को गणतंत्र दिवस परेड के लिए मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया था. UK फॉरेन ऑफिस के अनुसार यात्रा को रद्द करने का निर्णय COVID-19 महामारी के मद्देनजर लिया गया था.

    इस साल भारत और बांग्लादेश 50 साल के राजनयिक संबंधों का जश्न मनाएंगे और सरकार के आमंत्रण पर, गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने के लिए बांग्‍लादेश के सशस्‍त्र बलों का दल आमंत्रित किया गया है.

    ढाका स्थित भारतीय उच्चायोग द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, यह भारत के इतिहास में तीसरी बार है जब किसी विदेशी सैन्य टुकड़ी को दिल्ली में 26 जनवरी परेड में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया. इस वर्ष बांग्लादेश के मुक्ति युद्ध के 50 वर्ष पूरे हो रहे हैं. इस दल के अधिकांश सैनिक बांग्लादेश सेना की उन प्रतिष्ठित रेजिमेंटों से आते हैं जिन्‍होंने 1971 के मुक्ति संग्राम में भाग लिया था. 

    प्रथम चार गणतंत्र दिवस परेड (1950 से 1954) समारोह विभिन्न स्थानों (लाल किला, रामलीला मैदान, इरविन स्टेडियम, किंग्सवे मार्ग) पर आयोजित की गए थे. लेकिन राजपथ पर पहली परेड, 1955 में आयोजित की गयी थी, जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर पाकिस्तान के गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मुहम्मद को बुलाया गया था.

    इंडोनेशियाई राष्ट्रपति ‘सुकर्णो’ भारत के पहले गणतंत्र दिवस परेड (राजपथ पर नहीं) समारोह में पहले मुख्य अतिथि थे. अब तक यूनाइटेड किंगडम और फ्रांस के प्रतिनिधियों को सबसे अधिक 5-5 बार आमंत्रित किया गया है. आइये जानते हैं कि भारत के गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि कौन-कौन बन चुका है.

    गणतंत्र दिवस 2021: भारतीय गणतंत्र की यात्रा

    गणतंत्र दिवस परेड में आने वाले सभी मुख्य अतिथियों की सूची (List of Chief Guests at Republic Day Parade)

    वर्ष

    अतिथि 

    देश

    1950

    राष्ट्रपति सुकर्णो 

    इंडोनेशिया

    1951

    राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम शाह   

     नेपाल

    1952

    कोई निमंत्रण नहीं

     ---

    1953

    कोई निमंत्रण नहीं

     ---

    1954

    राजा जिग्मे दोरजी वांगचुक

    भूटान 

    1955

    गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मुहम्मद

    पाकिस्तान 

    1956

    चांसलर ऑफ द एक्सचेकर आर ए बटलर

     

    मुख्य न्यायाधीश कोटारो तनाका 

    यूनाइटेड किंगडम

    जापान

    1957

    रक्षा मंत्री जियोर्जी ज़ुकोव

    सोवियत संघ

    1958

    मार्शल ये जियानयिंग

    चीन

    1959

    ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग प्रिंस फिलिप

    यूनाइटेड किंगडम

    1960

    राष्ट्रपति क्लेमेंट वोरोशिलोव

    सोवियत संघ

    1961

    क्वीन एलिजाबेथ II

    यूनाइटेड किंगडम

    1962

    प्रधान मंत्री विगगो कैंपमैन

    डेनमार्क

    1963

    राजा नोरोडोम सिहानोक

    कंबोडिया

    1964

    रक्षा स्टाफ के प्रमुख लॉर्ड लुईस माउंटबेटन

    यूनाइटेड किंगडम

    1965

    खाद्य और कृषि मंत्री राणा अब्दुल हमीद

    पाकिस्तान

    1966

    कोई निमंत्रण नहीं

    ---

    1967

    राजा मोहम्मद ज़हीर शाह

    अफ़ग़ानिस्तान

    1968

    प्रधानमंत्री अलेक्सी कोसियगिन 

    सोवियत संघ

    राष्ट्रपति जोसिप ब्रोज़ टीटो

    एसएफआर यूगोस्लाविया

    1969

    बुल्गारिया के प्रधानमंत्री टॉड झिवकोव

    बुल्गारिया

    1970

    बेल्जियम के राजा बौदौइन

    बेल्जियम

    1971

    राष्ट्रपति जूलियस न्येरे

    तंजानिया

    1972

    प्रधान मंत्री सीवोसागुर रामगुलाम

    मॉरीशस

    1973

    राष्ट्रपति मोबुतु सेसे सेको

    जायरे 

    1974

    राष्ट्रपति जोसिप ब्रोज़ टीटो

     यूगोस्लाविया

    प्रधानमंत्री सिरीमावो रवात्ते दीस बंदरनैके

    श्रीलंका

    1975

    राष्ट्रपति केनेथ कौंडा

    जाम्बिया

    1976

    प्रधानमंत्री  जैक शिराक

    फ्रांस

    1977

    पहले सचिव एडवर्ड गियर्क

    पोलैंड

    1978

    राष्ट्रपति पैट्रिक हिलरी

    आयरलैंड

    1979

    प्रधानमंत्री मैल्कम फ्रेजर

    ऑस्ट्रेलिया

    1980

    राष्ट्रपति वैलेरी गिसकार्ड डी-एजिंग

    फ्रांस

    1981

    राष्ट्रपति जोस लोपेज़ पोर्टिलो

    मेक्सिको 

    1982

    राजा जुआन कार्लोस प्रथम

    स्पेन 

    1983

    राष्ट्रपति शेहु शगारी

    नाइजीरिया 

    1984

    किंग जिग्मे सिंगये वांगचुक

    भूटान 

    1985

    राष्ट्रपति राउल अल्फोंसिन

    अर्जेंटीना 

    1986

    प्रधान मंत्री एंड्रियास पापांड्रेउ

    ग्रीस 

    1987

    राष्ट्रपति एलन गार्सिया

    पेरू 

    1988

    राष्ट्रपति जुनियस जयवर्धने

    श्रीलंका 

    1989

    महासचिव गुयेन वान लिन्ह

    वियतनाम 

    1990

    प्रधानमंत्री अनिरुद्ध जगन्नाथ 

    मॉरीशस

    1991

    राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम

    मालदीव

    1992

    राष्ट्रपति मेरियो सोरेस

    पुर्तगाल

    1993

    प्रधानमंत्री जॉन मेजर

    यूनाइटेड किंगडम

    1994

    प्रधानमंत्री गोह चोक टोंग

    सिंगापुर

    1995

    नेल्सन मंडेला

    दक्षिण अफ्रीका

    1996

    राष्ट्रपति डॉ. फर्नांडो हेनरिक कार्डसो

    ब्राज़ील

    1997

    प्रधानमंत्री बसदेव पांडे

    त्रिनिदाद और टोबैगो

    1998

    राष्ट्रपति जैक्स शिराक

    फ्रांस

    1999

    राजा बीरेंद्र बीर बिक्रम शाह देव

    नेपाल

    2000

    राष्ट्रपति ओलुसेगुन ओबासंजो

    नाइजीरिया

    2001

    राष्ट्रपति अब्देलअज़ीज़ बुउटफ्लिका

    अल्जीरिया 

    2002

    राष्ट्रपति कसम उतेम

    मॉरीशस

    2003

    राष्ट्रपति मोहम्मद खातमी

    ईरान

    2004

    राष्ट्रपति लुइज इनासियो लूला डी सिल्वा

    ब्राज़ील 

    2005

    किंग जिग्मे सिंग्ये वांगचुक

    भूटान

    2006

    किंग अब्दुल्ला बिन अब्दुलअज़ीज़ अल सऊद 

    सऊदी अरब

    2007

    राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन

    रूस

    2008

    राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी

    फ्रांस

    2009

    राष्ट्रपति नूरसुल्तान नज़रबायेव

    कजाखस्तान

    2010

    राष्ट्रपति ली म्युंग बाक

    दक्षिण कोरिया

    2011

    राष्ट्रपति सुसीलो बंबांग युधोयोनो

    इंडोनेशिया

    2012

    प्रधानमंत्री यिंगलक शिनवात्रा

    थाईलैंड

    2013

    भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक

    भूटान

    2014

    प्रधानमंत्री शिंजो आबे

    जापान

    2015

    राष्ट्रपति बराक ओबामा

    संयुक्त राज्य अमेरिका

    2016

    राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद

    फ्रांस

    2017

    क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद

    संयुक्त अरब अमीरात

    2018

    सुल्तान हसनल बोल्कियाह

    जोको विडोडो

    थॉन्गलौन सिसोलिथ

    प्रधानमंत्री हुन सेन

    नजीब रज़ाक

    राष्ट्रपति हतिन क्याव

    रोड्रिगो रो ड्यूटरे

    हलीम याकूब

    प्रथुथ चान-ओशा

    गुयेन जुआन फुक

    ब्रुनेई

    इंडोनेशिया

    लाओस

    कंबोडिया

    मलेशिया

    म्यांमार

    फिलीपींस

    सिंगापुर

    थाईलैंड

    वियतनाम

    2019

    राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा 

    दक्षिण अफ्रीका

    2020

    राष्ट्रपति जायर बोल्सनारो

    ब्राज़ील

    2021

    कोई मुख्य अतिथि नहीं 

     

    भारत में गणतंत्र दिवस के मौके पर विदेशी नेता को आमंत्रित करने का मुख्य उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देना और भारतीय संस्कृति की विविधता और समृद्धि को दिखाना है. संबंधित लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें,

    भारत का राष्ट्रीय ध्वजः तथ्यों पर एक नजर