भारत में बायोस्फीयर रिजर्व की सूची

यूनेस्को की अंतर्राष्ट्रीय सह-समन्वय परिषद (आईसीसी) ने नवम्बर 1971 में प्राकृतिक क्षेत्रों के लिए 'बायोस्फीयर रिजर्व' का नाम दिया। उनके पदनाम के बाद, बायोस्फीयर रिजर्व राष्ट्रीय सार्वभौम अधिकार क्षेत्र के अधीन है, लेकिन फिर भी वे अपने अनुभव और विचार राष्ट्रीय स्तर पर, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बायोस्फीयर रिजर्व (डब्ल्यूएनबीआर) के विश्व नेटवर्क के परिधि के अंदर ही काम करते हैं। इस लेख में हम भारत में बायोस्फीयर रिजर्व की सूची दे रहे हैं जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।
Created On: Aug 28, 2017 12:17 IST

बायोस्फीयर रिजर्व में स्थलीय, समुद्री और तटीय पारिस्थितिक तंत्र शामिल हैं। प्रत्येक आरक्षित अपने सतत उपयोग के साथ जैव विविधता के संरक्षण के समाधान को बढ़ावा देता है। उन्हें राष्ट्रीय सरकारों द्वारा नामित किया जाता है और वे राज्यों के प्रभुत्व के क्षेत्र में रहते हैं जहां वे स्थित हैं। उनकी स्थिति अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त है।

Biosphere Reserve

Source: Source: images.wisegeek.com

यूनेस्को की अंतर्राष्ट्रीय सह-समन्वय परिषद (आईसीसी) ने नवम्बर 1971 में प्राकृतिक क्षेत्रों के लिए 'बायोस्फीयर रिजर्व' का नाम दिया। उनके पदनाम के बाद, बायोस्फीयर रिजर्व राष्ट्रीय सार्वभौम अधिकार क्षेत्र के अधीन है, लेकिन फिर भी वे अपने अनुभव और विचार राष्ट्रीय स्तर पर, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बायोस्फीयर रिजर्व (डब्ल्यूएनबीआर) के विश्व नेटवर्क के परिधि के अंदर ही काम करते हैं। इस लेख में हम भारत में बायोस्फीयर रिजर्व की सूची दे रहे हैं जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

भारत में बायोस्फीयर रिजर्व की सूची

नाम

स्थान

अचांकमार-अमरकंटक

मध्य प्रदेश के अनूपपुर और दिंडोरी जिलों और छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिलों के कुछ हिस्से इसके अंतर्गत आते है।

अगस्थ्यामालाई

नेय्यार, पेपारा और शेन्डर्नी वन्यजीव अभ्यारण्य और केरल के आस-पास के इलाके

कोल्ड रेगिस्तान

पिन घाटी राष्ट्रीय उद्यान और आसपास; हिमाचल प्रदेश में चंद्रताल और सर्चि और किब्बर वन्यजीव

देहांग-देबंग

अरुणाचल प्रदेश के सियांग और दिबांग घाटी का हिस्सा।

डिब्रू-साखोवा

डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया जिलों (असम) का हिस्सा

ग्रेट निकोबार

अंडमान और निकोबार के सबसे दक्षिणी द्वीप

मन्नार की खाड़ी

भारत और श्रीलंका (तमिलनाडु) के बीच मन्नार की खाड़ी का भारतीय भाग

कच्छ

गुजरात के कच्छ, राजकोट, सुरेंद्रनगर और पाटण सिविल जिलो का हिस्सा

खांग चेंन्डज़ोंगा

खांग चेन्ज़ोंगा पहाड़ियों और सिक्किम के कुछ हिस्सों

मानस

कोकराझार, बोंगाईगांव, बारपेटा, नलबारी, कामरूप और दरण जिलों (असम) का हिस्सा

नंदा देवी

चमोली, पिथौरागढ़ और बागेश्वर जिलों (उत्तराखंड) का हिस्सा

नीलगिरि

वायनाड, नागरहोल, बांदीपुर और मुदुमलाई, निलांबुर, मौन घाटी और सिरुवानी पहाड़ियों  का हिस्सा(तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक)

नोकरेक

गारो पहाड़ी (मेघालय) का हिस्सा

शशचलम पहाड़ियों

आंध्र प्रदेश के चित्तूर और कडापा जिलों के कुछ हिस्से

सिमलीपाल

मयूरभंज (उड़ीसा) का हिस्सा

सुंदरबन

गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी प्रणाली (पश्चिम बंगाल) के डेल्टा का हिस्सा

भारत में राष्ट्रीय बायोस्फीयर रिजर्व कार्यक्रम 1986 में शुरू किया गया था जिसमें  यह स्थापित किया गया था की संरक्षित क्षेत्र नेटवर्क प्रणाली के अतिरिक्त जीवित संसाधनों और उनके पारिस्थितिक नींवों के संरक्षण के लिए व्यापक आधार के रूप में कार्य किया जायेगा। तभी पारिस्थितिक विविधता की वजह से भारत विश्व का मेगा-विविधता वाले क्षेत्रों में से एक स्थापित हो सकेगा और इसी सन्दर्भ में प्रत्येक जैव-भौगोलिक प्रांत में कम से कम एक बायोस्फीयर रिजर्व को नामित करने का प्रयास किए जा रहे हैं।

भारतीय में वन्यजीव अभयारण्य और राष्ट्रीय पार्क

Comment ()

Post Comment

3 + 5 =
Post

Comments