यूनेस्को एमएबी सूची में शामिल भारत के बायोस्फीयर रिजर्वो की सूची

बायोस्फीयर रिजर्व, प्राकृतिक और सांस्कृतिक परिदृश्य का प्रतिनिधित्व करता है जिनका विस्तार स्थलीय या तटीय / समुद्री पारिस्थितिकी प्रणालियों या इनके मिश्रण वाले बड़े क्षेत्र में होता है| उदाहरण के रूप में: जैव-भौगोलिक क्षेत्र/प्रांत। इस लेख में हमने ऐसे भारतीय बायोस्फीयर रिजर्व के नाम दिए हैं जो यूनेस्को एमएबी की सूची में शामिल किये गए हैं जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।
Created On: Aug 30, 2017 15:55 IST
Modified On: Aug 30, 2017 15:54 IST

बायोस्फीयर रिजर्व, प्राकृतिक और सांस्कृतिक परिदृश्य का प्रतिनिधित्व करता है जिनका विस्तार स्थलीय या तटीय / समुद्री पारिस्थितिकी प्रणालियों या इनके मिश्रण वाले बड़े क्षेत्र में होता है| उदाहरण के रूप में: जैव-भौगोलिक क्षेत्र/प्रांत। प्रत्येक आरक्षित अपने सतत उपयोग के साथ जैव विविधता के संरक्षण के समाधान को बढ़ावा देता है। 120 देशों में 65 बायोस्फीयर रिजर्व हैं, जिसमें 15 ट्रांसबाउन्ड्री वाली साइटें शामिल हैं। इस लेख में हमने ऐसे भारतीय बायोस्फीयर रिजर्व के नाम दिए हैं जो यूनेस्को एमएबी की सूची में शामिल किये गए हैं जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

UNESCO MAB List

यूनेस्को एमएबी सूची में शामिल भारत के बायोस्फीयर रिजर्वो की सूची

बायोस्फीयर रिजर्व

स्थान

वर्ष

नीलगिरि

तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक

2000

मन्नार की खाड़ी

तमिलनाडु

2001

सुंदरबन

पश्चिम बंगाल

2001

नंदा देवी

उत्तराखंड

2004

नोकरेक

मेघालय

2009

पचमढ़ी

मध्य प्रदेश

2009

सिमलीपाल

उड़ीसा

2009

अच्नाक्मार-अमरकंटक

मध्य प्रदेश

2012

बायोस्फीयर रिज़र्व के तीन परस्पर संबद्ध क्षेत्र हैं, जो एक दुसरे के पूरक और पारस्परिक रूप से एक दुसरे के कार्य को मजबूती प्रदान करती है- कोर क्षेत्रों; मध्यवर्ती क्षेत्र ; संक्रमण क्षेत्र। उपरोक्त सूची में यूनेस्को एमएबी सूची में शामिल भारत के बायोस्फीयर रिजर्वो के नाम दिये गए हैं जिसका प्रयोग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में अध्ययन सामग्री के रूप में किया जा सकता है।

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय: समग्र अध्ययन सामग्री

Comment ()

Post Comment

9 + 2 =
Post

Comments