Comment (1)

Post Comment

5 + 6 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.
  • Shubham jaiswalAug 11, 2021
    Mera desh mahan
    Reply

जानें भारत ने 1900 से लेकर अब तक ओलंपिक में कितने पदक जीते हैं?

भारत ने 1900 से लेकर अब तक हर ग्रीष्मकालीन खेलों में भाग लिया है और 35 पदक जीते हैं। इस लेख में भारत द्वारा जीते गए सभी ओलंपिक पदकों का विवरण दिया गया है।
Created On: Aug 9, 2021 15:06 IST
Modified On: Aug 9, 2021 18:16 IST
जानें भारत ने 1900 से लेकर अब तक ओलंपिक में कितने पदक जीते हैं?
जानें भारत ने 1900 से लेकर अब तक ओलंपिक में कितने पदक जीते हैं?

पहला आधुनिक ओलंपिक सन् 1896 में एथेंस, ग्रीस में आयोजित किया गया था और भारत ने ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों में शुरू होने के चार साल बाद भाग लिया था। आज़ादी से पहले भारत ने सन् 1900 में अपने एकमात्र एथलीट नॉर्मन प्रिचर्ड को पेरिस भेजा था, जहां उन्होंने पुरुषों की 200 मीटर और पुरुषों की 200 मीटर हर्डल रेस में दो पदक जीते थे।

भारत ने तब से लेकर अब तक हर ग्रीष्मकालीन खेलों में भाग लिया है और 35 पदक जीते हैं। इस लेख में भारत द्वारा 1900 से अबतक जीते गए सभी ओलंपिक पदकों का विवरण दिया गया है।

नॉर्मन प्रिचर्ड - रजत पदक - पुरुषों की 200 मीटर और 200 मीटर हर्डल्स, पेरिस 1900

पेरिस 1900 से भारत ने अपने पहले ओलंपिक खेल की शुरुआत की थी। आधुनिक ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में पहले भारतीय प्रतिनिधि ने एथलेटिक्स में पांच पुरुष स्पर्धाओं में भाग लिया था जिसमें 60 मीटर, 100 मीटर, 200 मीटर, 110 मीटर और 200 मीटर  हर्डल रेस शामिल हैं। उन्होंने 200 मीटर और 200 मीटर  हर्डल रेस में रजत पदक जीते थे। ये आज़ादी से पूर्व ये भारत का पहला व्यक्तिगत पदक था। 

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - एम्स्टर्डम 1928

भारतीय हॉकी टीम ने पांच मैचों में 29 गोल करके अपना पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था। ध्यान चंद ने फाइनल में नीदरलैंड के खिलाफ फाइनल में हैट्रिक सहित 14 गोल किए थे। यह ओलंपिक में भारतीय हॉकी पुरुष टीम का पहला पदक था।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - लॉस एंजिल्स 1932

कम क्षेत्र में खेले गए मैच में भारतीय हॉकी टीम ने पहले जापान को 11-1 से हराया था और फिर संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ 24-1 की भारी जीत हासिल कर भारत के लिए हॉकी में दूसरा ओलंपिक स्वर्ण पदक सुनिश्चित किया था। इस साल ध्यान चंद के साथ-साथ उनके छोटे भाई रूप सिंह भी भारत के स्टार खिलाड़ी के रुप में उभरे थे। 

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - बर्लिन 1936

ध्यानचंद के नेतृत्व में भारतीय हॉकी टीम ने बर्लिन 1936 में ओलंपिक स्वर्ण की हैट्रिक पूरी की थी। उस वर्ष भारत ने पांच मैचों में 38 गोल किए थे और फाइनल मुकाबले में भारत 8-1 से जीता था।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - लंदन 1948

स्वतंत्रता के बाद भारत के लिए पहला स्वर्ण पदक आश्चर्यजनक रूप से भारतीय हॉकी टीम से आया। भारत ने तीन मैचों में 19 गोल करके फाइनल में प्रवेश किया और  मेजबान ग्रेट ब्रिटेन को 4-0 से हराकर चौथा ओलंपिक स्वर्ण झटका। इस वर्ष बलबीर सिंह सीनियर ने तीन मैचों में 19 गोल किए थे। 

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - हेलसिंकी 1952

भारतीय हॉकी टीम ने लगातार पांचवीं बार ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने के लिए ठंड की स्थिति पर काबू पा लिया था। बलबीर सिंह सीनियर ने तीन मैचों में नौ गोल किए थे, जिसमें नीदरलैंड के खिलाफ फाइनल में पांच गोल शामिल हैं। ये ओलंपिक पुरुष हॉकी फाइनल में किसी खिलाड़ी द्वारा किए गए सबसे अधिक गोल हैं। 

केडी जाधव, कांस्य पदक - पुरुषों की बैंटमवेट कुश्ती, हेलसिंकी 1952

पहलवान खशाबा दादासाहेब जाधव पुरुषों की फ्रीस्टाइल बैंटमवेट श्रेणी में कांस्य पदक जीतने के बाद आज़ाद भारत के पहले व्यक्तिगत ओलंपिक पदक विजेता बने। इस मेहनती पहलवान ने अपनी ओलंपिक यात्रा के लिए दर-दर भटक कर धन इकट्ठा किया था। 

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - मेलबर्न 1956

मेलबर्न 1956 में भारतीय हॉकी टीम के लिए यह लगातार छटवां ओलंपिक स्वर्ण था। भारत ने पूरे टूर्नामेंट में प्रतिद्वंदी को एक भी गोल मारने का मौका नहीं दिया था और फाइनल में कप्तान बलबीर सिंह सीनियर अपने फ्रैक्चर हुए दाहिने हाथ के साथ खेले थे और पाकिस्तान पर फाइनल में 1-0 से फतह हासिल की।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, रजत पदक - रोम 1960

हॉकी में भारत की अद्वितीय स्वर्ण लय रोम 1960 में पाकिस्तान से 1-0 से हारकर समाप्त हुई और उस वर्ष भारत को रजत पदक से संतोष करना पड़ा था।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - टोक्यो 1964

भारतीय हॉकी टीम ने पिछले ओलंपिक में पाकिस्तन से हारने के बाद 1964 में टोक्यो में स्वर्ण पदक जीता था। भारत ने ग्रुप चरणों में चार मैच जीतकर और दो ड्रॉ दर्ज कर सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया को हराया था। भारत ने लगातार तीसरी बार फाइनल में पाकिस्तान का सामना किया था और पेनल्टी स्ट्रोक गोल के कारण 1-0 से जीत दर्ज की थी।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, कांस्य पदक - मेक्सिको सिटी 1968

जहां एक ओर यूरोप में हॉकी को और अधिक प्रमुखता मिल रही थी वहीं भारतीय हॉकी टीम का ओलंपिक में दबदबा कम होता जा रहा था। भारत ने मेक्सिको, स्पेन को हराकर जापान के खिलाफ वॉकओवर हासिल कर लिया था लेकिन सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया से 2-1 से हार गया था। भारत कांस्य पदक जीतने में सफल तो रहा लेकिन ओलंपिक में पहली बार शीर्ष दो से बाहर हो गया था।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, कांस्य पदक - म्यूनिख 1972

म्यूनिख 1972 में भारतीय हॉकी टीम ने लगातार दूसरा ओलंपिक कांस्य पदक जीता था। भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल से पहले चार मैच जीते और दो ड्रॉ खेले थे। इसके बाद इजरायली टीम पर हमले के कारण उनका सेमीफाइनल दो दिनों के लिए आगे बढ़ गया था जिससे टीम की लय प्रभावित हुई थी और वे पाकिस्तान से 2-0 से हार गए थे। हालांकि, भारत ने नीदरलैंड को 2-1 से हराकर कांस्य पदक जीता था।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - मास्को 1980

मॉन्ट्रियल 1976 में भारतीय हॉकी पुरुष टीम पहली बार शीर्ष तीन से बाहर थी। उस साल भारत सातवें स्थान पर था। कम क्षेत्र में खेले गए मैच में भारत ने तीन मैच जीते थे और प्रारंभिक दौर में दो ड्रा खेले थे। फाइनल में भारतीय टीम ने स्पेन को 4-3 से हराकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया था। यह ओलंपिक में भारत के लिए आखिरी हॉकी स्वर्ण था।

लिएंडर पेस, कांस्य पदक - पुरुषों का एकल टेनिस, अटलांटा 1996

भारत ने तीन ओलंपिक संस्करणों में (1984-1992) एक भी पदक नहीं जीता था। सन 1996 में लिएंडर पेस ने कांस्य पदक जीता था। इस साल ये भारत का ओलंपिक में इकलौता पदक था। 

कर्णम मल्लेश्वरी, कांस्य पदक - महिलाओं की 54 किग्रा वेटलिफटिंग, सिडनी 2000

भारोत्तोलक कर्णम मल्लेश्वरी ने 54 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीतकर ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। उन्होंने स्नैच वर्ग में 110 किग्रा, क्लीन में 130 किग्रा और जर्क में 240 किग्रा का भार उठाया था।

राज्यवर्धन सिंह राठौर, रजत पदक - पुरुषों की डबल ट्रैप शूटिंग, एथेंस 2004

आर्मीमैन राज्यवर्धन सिंह राठौर भारत के लिए ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले निशानेबाज थे। संयुक्त अरब अमीरात के शेख अहमद अलमकतूम ने अजेय बढ़त बना ली थी और भारतीय सेना के कर्नल ने दोनों क्ले टार्गेट को नीचे गिराकर रजत पदक सुनिश्चित किया था।

अभिनव बिंद्रा, स्वर्ण पदक - पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल शूटिंग, बीजिंग 2008

ओलंपिक में भारत का सबसे उत्साहपूर्ण क्षण बीजिंग 2008 में आया जब अभिनव बिंद्रा ने पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में ऐतिहासिक स्वर्ण पदक जीता था। भारतीय निशानेबाज ने अपने अंतिम शॉट के साथ लगभग 10.8 का स्कोर हासिल कर भारत का पहला व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक सुनिश्चित किया था।

विजेंदर सिंह, कांस्य पदक - पुरुषों की मिडिलवेट मुक्केबाजी, बीजिंग 2008

विजेंदर सिंह ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज बने। सेमीफाइनल में क्यूबा के एमिलियो कोरिया से 5-8 से हारने से पहले उन्होंने क्वार्टर फाइनल में इक्वाडोर के दक्षिणपूर्वी कार्लोस गोंगोरा को 9-4 से हराकर कांस्य पदक सुनिश्चित किया था।

सुशील कुमार, कांस्य पदक - पुरुषों की 66 किग्रा कुश्ती, बीजिंग 2008

अपने शुरुआती मुकाबले में हारने के बाद, सुशील कुमार ने रेपेचेज राउंड में 70 मिनट के भीतर तीन बाउट जीतकर कांस्य पदक हासिल किया। यह कुश्ती में 56 वर्षों में भारत का पहला ओलंपिक पदक था।

गगन नारंग, कांस्य पदक - पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल शूटिंग, लंदन 2012

गगन नारंग काउंटबैक की वजह से पिछले ओलंपिक में अंतिम दौर में हार गए थे जिसके बाद लंदन 2012 में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में कांस्य पदक जीता था। तीसरा स्थान हासिल करने से पहले गगन नारंग ने चीन के वांग ताओ और इटली के निकोलो कैंप्रियानी के साथ एक तनावपूर्ण फाइनल खेला था। 

सुशील कुमार, रजत पदक - पुरुषों की 66 किग्रा कुश्ती, लंदन 2012

उद्घाटन समारोह के लिए भारत के ध्वजवाहक सुशील कुमार ने शरीर के गंभीर दर्द पर काबू पाकर फाइनल में तो जगह बना ली थी लेकिन थकावट की वजह से उनका शरीर जवाब दे गया और वह फाइनल में तत्सुहिरो योनमित्सु से हार गए थे। सुशील कुमार भारत के एकमात्र ओलंपियन हैं जिन्होंने व्यक्तिगत तौर पर दो बार ओलंपिक पदक जीते हैं।

विजय कुमार, रजत पदक - पुरुषों की 25 मीटर रैपिड पिस्टल शूटिंग, लंदन 2012

खेलों से बमुश्किल पहचाने जाने वाले निशानेबाज विजय कुमार ने 25 मीटर रैपिड पिस्टल में रजत पदक के साथ रिकॉर्ड बुक में अपना नाम सुनिश्चित किया था। उन्होंने फाइनल में छठे दौर में जाने वाले चीन के डिंग फेंग को हराकर अंतिम दौर में प्रवेश किया था। 

मैरी कॉम, कांस्य पदक - महिलाओं की फ्लाईवेट मुक्केबाजी, लंदन 2012

लंदन 2012 में अपने पहले ओलंपिक से पहले मैरी कॉम ने फ्लाईवेट वर्ग में कांस्य पदक जीता था। अच्छी लय में होने के बावजूद वह सेमीफाइनल में ग्रेट ब्रिटेन की चैंपियन निकोला एडम्स से  हार गईं थीं। 

योगेश्वर दत्त, कांस्य पदक - पुरुषों की 60 किग्रा कुश्ती, लंदन 2012

तीन ओलंपिक के अनुभवी पहलवान योगेश्वर दत्त ने आखिरकार अपने बचपन के सपने को तब हासिल किया जब उन्होंने 60 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता। उन्होंने अंतिम रेपेचेज दौर में उत्तर कोरिया के री जोंग म्योंग को सिर्फ 1:02 मिनट में हराया था।

साइना नेहवाल, कांस्य पदक - महिलाओं का एकल बैडमिंटन, लंदन 2012

साइना नेहवाल ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बनीं। उनकी प्रतिद्वंद्वी चीन की वांग शिन सेमीफाइनल में मैच के दौरान रिटायर हर्ट हो गई थीं। 

पीवी सिंधु, रजत पदक - महिलाओं का एकल बैडमिंटन, रियो 2016

साइना नेहवाल का पदक निश्चित रूप से भारत के बैडमिंटन खिलाड़ियों के लिए प्रेरणादायक साबित हुआ था। पीवी सिंधु ने 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में रजत पदक जीता था। 

साक्षी मलिक, कांस्य पदक - महिलाओं की 58 किग्रा कुश्ती, रियो 2016

भारत के ओलंपिक दल में देर से प्रवेश करने वाली साक्षी मलिक ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनीं। उन्होंने 58 किग्रा कांस्य पदक जीतने के लिए किर्गिस्तान की ऐसुलु टाइनीबेकोवा को 8-5 से हराया और भारत का लगातार तीन खेलों में ओलंपिक कुश्ती पदक जीता था ।

मीराबाई चानू, रजत पदक - महिलाओं की 49 किग्रा भारोत्तोलन, टोक्यो 2020

भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने रियो 2016 के प्रदर्शन को पीछे छोड़ते हुए महिलाओं के 49 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीतने के लिए कुल 202 किग्रा भार उठाया था। यह उनका पहला ओलंपिक पदक है और कर्णम मल्लेश्वरी के बाद ओलंपिक पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय भारोत्तोलक हैं। यह टोक्यो ओलंपिक में भारत का पहला पदक था।

लवलीना बोर्गोहेन, कांस्य पदक - महिलाओं का वेल्टरवेट (64-69 किग्रा), टोक्यो 2020

अपने डेब्यू गेम में लवलीना बोर्गोहेन ने महिलाओं के 69 किग्रा में तुर्की की शीर्ष वरीयता प्राप्त बुसेनाज़ सुरमेनेली से सेमीफाइनल में हारने के बाद टोक्यो 2020 में कांस्य पदक जीता था। लवलीना बोर्गोहेन ने क्वार्टर फाइनल में चीनी ताइपे की निएन-चिन चेन को हराकर पदक पक्का किया था।

पीवी सिंधु, कांस्य पदक - महिलाओं का एकल बैडमिंटन, टोक्यो 2020

सुशील कुमार के बाद बैडमिंटन क्वीन पीवी सिंधु दो व्यक्तिगत ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला और दूसरी भारतीय एथलीट बनीं। पीवी सिंधु ने महिला एकल में चीन की ही बिंग जिओ को 21-13, 21-15 से हराकर कांस्य पदक जीता था।

रवि कुमार दहिया, रजत पदक - पुरुषों की 57 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती, टोक्यो 2020

रवि कुमार दहिया पुरुषों की 57 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती के फाइनल में दो बार विश्व चैंपियन आरओसी के ज़ावुर उगुएव से हारने के बाद रजत पदक जीत पाए थे। यह ओलंपिक इतिहास में भारत का नौवां रजत पदक और कुश्ती में दूसरा रजत पदक था।

भारतीय हॉकी टीम, कांस्य पदक - पुरुष हॉकी, टोक्यो 2020

41 साल के इंतजार के बाद भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने ओलंपिक में पदक जीता था। यह 1968 और 1972 के खेलों के बाद भारत का तीसरा ओलंपिक कांस्य पदक है और कुल मिलाकर 12 वां ओलंपिक पदक है। बता दें कि यह मास्को 1980 के बाद भारत का पहला हॉकी पदक है। यह टोक्यो 2020 में भारत का पांचवां पदक था।

बजरंग पुनिया, कांस्य पदक - पुरुषों की 65 किग्रा कुश्ती, टोक्यो 2020

पहलवान बजरंग पुनिया टोक्यो 2020 में पदक जीतने वाले तीसरे भारतीय बने। बजरंग पुनिया ने पुरुषों के 65 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती प्लेऑफ में कजाकिस्तान के दौलेट नियाज़बेकोव को हराकर कांस्य पदक जीता था।

नीरज चोपड़ा - स्वर्ण पदक - पुरुषों का भाला फेंक

अभिनव बिंद्रा के बाद नीरज चोपड़ा भारत के दूसरे व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता हैं। यह किसी भी ओलंपिक खेलों में भारत का पहला ट्रैक-एंड-फील्ड पदक था। नीरज चोपड़ा ने भाला 87.58 मीटर फेंककर स्वर्ण पदक जीता था। यह टोक्यो 2020 में भारत का सातवां पदक था।

इस वर्ष ओलंपिक खेल जापान की राजधानी टोक्यों में खेले गए। 8 अगस्त 2021 को टोक्यो 2020 ओलंपिक का समापन हुआ। मेरीकॉम और अमित पंघाल जैसे कई बड़े खिलाड़ियों के बाहर होने के बाद भी भारत ने इस वर्ष ओलंपिक खेलों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर एक स्वर्ण, 2 रजत और 4 कांस्य पदकों हासिल किए। पदक तालिका में भारत 48वें स्थान पर है। इस वर्ष सबसे ज़्यादा पदक अमेरिका ने जीते हैं। वहीं, चीन दूसरे और जापानी तीसरे स्थान पर है। 

जानें स्वर्ण, रजत और कांस्य ओलंपिक पदकों का क्या मूल्य है?