जानें मंगल ग्रह पहुँचा नासा का Perseverance Rover के बारे में

नासा का Perseverance Rover मंगल ग्रह की सतह पर सफलतापूर्वक उतर गया है. यह रोवर मंगल ग्रह के जज़ेरो क्रेटर (Jezero Crater) स्थान पर उतरा है. आइये इसके बारे में विस्तारपूर्वक अध्ययन करते हैं.
Created On: Feb 23, 2021 19:41 IST
Modified On: Feb 23, 2021 20:55 IST
NASA's Perseverance Rover
NASA's Perseverance Rover

जैसा की आप जानते हैं कि नासा का Perseverance Rover मंगल ग्रह की सतह पर सफलतापूर्वक उतर गया है. यहीं आपको बता दें कि लैंडिंग सफल रही क्योंकि अंतरिक्ष यान टेरेन-रिलेटिव नेविगेशन तकनीक (Terrain-Relative Navigation technology) से लैस था जिसने सुरक्षित लैंडिंग स्पॉट खोजने में मदद की. यह रोवर मंगल ग्रह के जज़ेरो क्रेटर (Jezero Crater) स्थान पर उतरा है. यह एक कठिन भूभाग है जिसमें खड़ी चट्टानें, रेत के टीले, और बोल्डर फ़ील्ड हैं.

इस मिशन का उद्देश्य क्या है?

इसका उद्देश्य संभावित प्राचीन माइक्रोवियल जीवन के संकेतों की मंगल ग्रह पर तलाश करना और प्रथ्वी पर वापसी के समय मंगल ग्रह से रॉक और रीगोलिथ यानी टूटी हुई चट्टान और मिट्टी के नमूने एकत्रत करना है. ऐसा बताया जा रहा है कि यह अन्य किसी भी ग्रह पर भेजी गई नासा की सबसे उन्नत एस्ट्रोबायोलॉजी प्रयोगशाला है.

रोवर, ग्रह की भूविज्ञान और अतीत की जलवायु को चिह्नित करेगा, लाल ग्रह के मानव अन्वेषण का मार्ग प्रशस्त करेगा, और मार्टियन रॉक और रीगोलिथ को इकट्ठा करने वाला पहला मिशन होगा.

मार्स 2020 Perseverance मिशन नासा के चंद्रमा से मंगल अन्वेषण दृष्टिकोण का हिस्सा है, जिसमें चंद्रमा के लिए आर्टेमिस मिशन (Artemis mission) शामिल हैं जो लाल ग्रह के मानव अन्वेषण के लिए तैयार करने में मदद करेंगे.

जानिए भारत को दुनिया की फार्मेसी क्यों कहा जाता है?

मिशन के स्टेपस (Mission Steps)

कलेक्ट (Collect): Perseverance, सिगार के आकार की ट्यूबों में चट्टान और मिट्टी के नमूने एकत्र करेगा. नमूने एकत्र किए जाएंगे, कनस्तरों को सील किया जाएगा, और जमीन पर छोड़ दिया जाएगा.

फ़ेच (Fetch): मार्स फ़ेच (Fetch) रोवर (यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा प्रदान किया गया) लैंड, ड्राइव और अलग-अलग स्थानों से सभी नमूने एकत्र करेगा और लैंडर पर वापस आएगा.

ट्रांसफर (Transfer): इन नमूनों को मार्स एसेंट वाहन (Mars Ascent Vehicle) में स्थानांतरित किया जाएगा जो कि ऑर्बिटर के साथ मिलेंगे.

वापसी (Return): ऑर्बिटर नमूनों को वापस पृथ्वी पर ले जाएगा.

आइये अब रोवर के बारे में जानते हैं.

मिशन का नाम: मंगल 2020
रोवर का नाम: Perseverance
मुख्य काम: प्राचीन जीवन के संकेतों की तलाश करना और पृथ्वी पर संभावित वापसी के लिए रॉक और रीगोलिथ (टूटी हुई चट्टान और मिट्टी) के नमूने एकत्र करना.
लॉन्च: 30 जुलाई, 2020
लैंडिंग: 18 फरवरी, 2021, जज़ेरो क्रेटर (Jezero Crater), मंगल

यह मिशन मंगल विज्ञान प्रयोगशाला के क्यूरिओसिटी रोवर कॉन्फिगरेशन पर आधारित है. 

यह रोवर कार के आकार का है. इसकी लंबाई लगभग 10 फीट जिसमें हाथ शामिल नहीं, चौड़ाई लगभग 9 फीट और ऊँचाई लगभग 7 फीट है. इसका वजन 2,260 पाउंड्स या 1,025 किलोग्राम है. 

इसके प्रमुख उपकरणों में लेज़र माइक्रो इमेज़र, UV स्पेक्ट्रोमीटर, X-RAY स्पेक्ट्रोमीटर, सरफेस रडार, वेदर स्टेशन, और मंगल ग्रह की कार्बन डाइऑक्साइड से ऑक्सीजन बनाने जैसे उपकरण शामिल हैं. 

प्रौद्योगिकी

Perseverance भविष्य के रोबोट के लिए नई तकनीक का परीक्षण करेगा और लाल ग्रह के लिए मानव मिशन भी है. इसमें शामिल है टेरेन रिलेटिव नेविगेशन  (Terrain Relative Navigation) और सेंसर का एक सेट जो कि डाटा एकत्रित करेगा लैंडिंग के दौरान (Mars Entry, Descent and Landing Instrumentation 2, or MEDLI2). यह एक नई स्वायत्त नेविगेशन प्रणाली है जो कि रोवर को चुनौतीपूर्ण इलाके में तेजी से ड्राइव करने के लिए अनुमति देगी. 

Perseverance’s baseline power system एक मल्टी-मिशन रेडियोआइसोटोप थर्मोइलेक्ट्रिक जनरेटर (MMRTG) है जो कि अमेरिकी ऊर्जा विभाग द्वारा प्रदान किया गया है. यह प्लूटोनियम -238 के प्राकृतिक क्षय से उत्पन्न होने वाली गर्मी का उपयोग करके बिजली बनाता है. 

कुछ अन्य तथ्य 

Perseverance सात उपकरणों को ले जाएगा जो कि अभूतपूर्व विज्ञान का संचालन और नई प्रौद्योगिकी का लाल ग्रह पर परीक्षण करेगा.

मास्टकैम-जेड (Mastcam-Z): ज़ूम करने की क्षमता के साथ पैनोरमिक और स्टीरियोस्कोपिक इमेजिंग क्षमता वाला एक उन्नत कैमरा सिस्टम है. यह खनिज विज्ञान निर्धारित करने में मदद करेगा.

सुपरकैम (SuperCam): एक उपकरण जो दूरी पर इमेजिंग, रासायनिक संरचना विश्लेषण और खनिज विज्ञान प्रदान कर सकता है.

Planetary Instrument for X-ray Lithochemistry (PIXL): एक एक्स-रे fluorescence स्पेक्ट्रोमीटर और उच्च-रिज़ॉल्यूशन इमेजर क्षमता प्रदान करेगा जो पहले से कहीं अधिक विस्तृत रासायनिक तत्वों का पता लगाने और विश्लेषण की अनुमति देता है.

Scanning Habitable Environments with Raman & Luminescence for Organics and Chemicals (SHERLOC): एक स्पेक्ट्रोमीटर जो फाइन स्केल इमेजिंग प्रदान करेगा और खनिज और कार्बनिक यौगिकों को मैप करने के लिए एक अल्ट्रावायलेट (UV) लेजर का उपयोग करेगा.

SHERLOC मंगल की सतह पर उड़ान भरने वाला पहला UV रमन स्पेक्ट्रोमीटर होगा और पेलोड में अन्य उपकरणों के साथ पूरक माप प्रदान करेगा.

Mars Environmental Dynamics Analyzer (MEDA): सेंसर जो तापमान, हवा की गति और दिशा, दबाव, सापेक्षिक आर्द्रता और धूल के आकार और आकार का मापन प्रदान करेंगे.

The Mars Oxygen In-Situ Resource Utilization Experiment (MOXIE): एक प्रौद्योगिकी डेमोंसटरेशन जो मार्टियन वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड से ऑक्सीजन का उत्पादन करेगा. 

The Radar Imager for Mars’ Subsurface Experiment (RIMFAX): एक भू-मर्मज्ञ रडार जो उप-सतह के भूगर्भिक संरचना के सेंटीमीटर-स्केल रिज़ॉल्यूशन प्रदान करेगा.

Source:mars.nasa.gov

जानिए कैसे LCA Tejas आत्मनिर्भर भारत के लिए गेम चेंजर साबित होगा?

 

 

Comment (0)

Post Comment

5 + 8 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.

    Related Categories