Search

PIO कार्ड धारक और OCI कार्ड धारक के बीच में क्या अंतर होता है?

भारत में दो तरह की नागरिकता को रखने वाले लोग हैं; नागरिक और विदेशी. नागरिक, राज्य के पूर्ण सदस्य होते हैं और उन्हें सभी राजनीतिक और सामान्य अधिकार प्राप्त होते हैं जबकि विदेशियों को ये अधिकार प्राप्त नही होते हैं. PIO कार्ड 19 सितम्बर, 2002 से दिया जा रहा है जबकि OCI कार्ड 2 दिसम्बर 2005 से दिया जा रहा है. इस लेख में PIO कार्ड और OCI कार्ड के बीच अंतर बताये जा रहे हैं.
Sep 30, 2019 11:14 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Differences between the PIO card and OCI card
Differences between the PIO card and OCI card

भारतीय नागरिकता अधिनियम, 1955; भारत की नागरिकता प्राप्त करने की 5 शर्तों को बताता है जैसे; जन्म, वंशानुगत, पंजीकरण, प्राकृतिक एवं किसी क्षेत्र के भारत में शामिल होने के आधार पर.
इस लेख में PIO कार्ड और OCI कार्ड के बीच अंतर बताये जा रहे हैं.

 तुलना का आधार

      PIO कार्ड

           OCI कार्ड

 1. कब से जारी किया जा रहा है?

      19 सितम्बर, 2002 से

    2 दिसम्बर 2005 से

 2. कौन प्राप्त कर सकता है?

1. जिसके पास भारत का पासपोर्ट हो

2. वह या उसके माता पिता या दादा, 1935  से पूर्व भारत के नागरिक हों

1. वह विदेशी नागरिक जो;

 26 जनवरी 1950  से पहले या बाद से भारत का नागरिक हो.

 2. 15 अगस्त,1947 के बाद भारत में शामिल किसी भाग का निवासी हो.

 3. वह या उसके बच्चे या पोते पोतियाँ भारत के नागरिक हों.

 3. किन देशों को कार्ड जारी किया जाता है?

चीन, पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान, नेपाल, भूटान एवं श्रीलंका को छोड़कर अन्य सभी देशों के PIO को जारी किया जाता है.

 बांग्लादेश, पाकिस्तान को छोड़कर विश्व के सभी देशों के PIO को.

 4. शुल्क कितना लगता है?

18 वर्ष से कम उम्र के लिए 7500 रुपये और इससे अधिक उम्र के लिए 15000 रुपये  

 275 अमेरिकी डॉलर या इसके बराबर मूल्य की भारतीय मुद्रा

 5. फायदे

 1. PIO कार्ड धारक को भारत की यात्रा के लिए अलग से वीजा की जरुरत नही पड़ती.

 2. एक बार में भारत में 180 दिनों तक रह सकता है

 1. भारत में किसी भी समय की अवधि के लिए स्थानीय पुलिस के पास पंजीकरण कराने की बाध्यता से छूट

 2. भारत आने के लिए कई बार आने की छूट, बहुउद्देश्यीय और आजीवन वीजा

 6. वीजा की जरूरत है या नही

 PIO कार्ड जारी होने की तारीख से 15 वर्षों तक वीजा के बिना भारत यात्रा कर सकते हैं.

पूरा जीवन भारत की यात्रा कर सकते हैं

 7. भारत में क्या कार्य कर सकता है

 रिसर्च, मिशनरी, पर्वतारोहण एवं प्रतिबंधित क्षेत्रों की यात्रा को छोड़कर सभी कार्य कर सकता है.

 रिसर्च, मिशनरी, पर्वतारोहण एवं प्रतिबंधित क्षेत्रों की यात्रा को छोड़कर सभी कार्य कर सकता है .

 8. प्रभाव में है या नही

 नही है, 9 जनवरी, 2015 से OCI कार्ड में विलय हो गया है.

 अभी भी प्रभाव में है.

यहाँ पर यह बताना जरूरी है कि प्रधानमन्त्री मोदी ने 2015 में घोषणा की थी कि PIO कार्ड धारकों को वीजा लेने में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता था और "जो लोग भारत में लंबे समय तक रहते हैं उन्हें पुलिस स्टेशन जाना पड़ता था, अब उन्हें ऐसा नही करना पड़ेगा और इन्हें भी OCI कार्ड धारकों की तरह ही पूरी जिंदगी के लिए वीजा दिया जायेगा. इस प्रकार मोदी सरकार ने 9 जनवरी 2015 से PIO कार्ड को OCI कार्ड में बदल दिया है.

इस प्रकार ऊपर दिए गए तथ्यों के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि OCI कार्ड धारक को PIO कार्ड धारक की तुलना में ज्यादा सुविधाएँ मिलतीं हैं. उम्मीद है कि OCI कार्ड और PIO कार्ड के बीच का अंतर आप समझ गए होंगे.

जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?