Search

ASEEM पोर्टल क्या है और क्यों शुरू किया गया है?

कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय ने विभिन्न क्षेत्रों में कुशल कर्मचारियों की मांग-आपूर्ति के बीच अंतर को कम करने के लिए आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस आधारित 'ASEEM' डिजिटल प्लेटफॉर्म की शुरुआत की है. इस पोर्टल का उद्येश्य कोरोना बीमारी के कारण घर या वतन को लौटे स्किल्ड और गैर स्किल्ड लोगों को एक डिजिटल माध्यम से रोजगार के अवसर उपलब्ध काराना है.
Jul 17, 2020 13:54 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
ASEEM Portal
ASEEM Portal

भारत सहित पूरे विश्व में कोरोना बीमारी के कारण लाखों लोगों की नौकरियां चली गयीं हैं जिसके कारण लाखों लोग या तो अपने देश लौट आये हैं या फिर अपने गांव लौट आये हैं.इन्हें माइग्रेंट वर्कर्स कहा गया है.

इन लाखों लोगों में कई लोग स्किल्ड मजदूर थे और कई गैर स्किल्ड हैं. अब ये लोग अपने घरों में बैठकर रोजगार का इंतजार कर रहे हैं.

इसी दिशा में कदम उठाते हुए केंद्र सरकार ने एक ऐसे डिजिटल प्लेटफोर्म की शरुआत की है जहाँ पर एम्प्लायर और एम्प्लोयी एक दूसरे से कांटेक्ट करके रोजगार के बारे में बातचीत कर सकते हैं. इसे असीम पोर्टल कहा गया है.आइये अब इसके बारे में और विस्तार से जानते हैं.

ASEEM पोर्टल क्या है?

ASEEM' एक ऐसा जॉब उपलब्ध कराने वाला डिजिटल प्लेटफोर्म है जहाँ पर रोजगार लेने वाला और रोजगार देने वाला दोनों एक दूसरे से कांटेक्ट कर सकते हैं. कुल मिलाकर यह उसी तरह का एक प्लेटफोर्म है जैसा कि भारत में प्राइवेट जॉब उपलब्ध कराने वाली कम्पनियाँ जैसे नौकरी डॉट कॉम, या टाइम्स जॉब डॉट कॉम उपलब्ध करातीं हैं.

इस पोर्टल का उद्येश्य कोरोना बीमारी के कारण घर या वतन को लौटे स्किल्ड और गैर स्किल्ड लोगों को एक डिजिटल माध्यम उपलब्ध करना है जहाँ पर वे अपनी योग्यता के अनुसार नौकरी सर्च कर सकें.

ASEEM का फुल है; Aatamanirbhar Skilled Employee Employer Mapping (ASEEM). 

भारतीय राज्यों और विदेशी नागरिकों के श्रम प्रवासियों का डेटाबेस, जो वंदे भारत मिशन के तहत भारत लौटे और SWADES स्किल कार्ड भरे, इन सभी को ASEEM पोर्टल के साथ एकीकृत किया गया है.

इस प्रकार इस पोर्टल पर लाखों बेरोजगार प्रवासी श्रमिकों का डाटा होगा जो कि स्किल होंगे और अनस्किल्ड भी , इस पोर्टल के माध्यम से प्रवासी श्रमिकों को उनकी योग्यता के आधार पर उन्हें रोजगार प्रदान किया जाएगा.

अब तक ASEEM पोर्टल पर करीब 20 लाख स्किल्ड प्रवासी मजदूरों के बारे में पूरी जानकारी अपलोड की जा चुकी है.
‘असीम’ के तहत सरकार ने छह राज्यों के 116 जिलों की पहचान की है. इन जिलों में करीब 67 लाख प्रवासी मजदूर वापस आये हैं. इन 116 जिलों में बिहार के 32 जिले, उत्तर प्रदेश के 31, मध्य प्रदेश के 24, राजस्थान के 22, झारखंड के 3 और ओडिशा के 4 जिले शामिल हैं.

पोर्टल में तीन आईटी आधारित इंटरफेस हैं -

1. नियोक्ता पोर्टल - नियोक्ता ऑनबोर्डिंग, डिमांड एग्रीगेशन, उम्मीदवार चयन

2. डैशबोर्ड - रिपोर्ट, ट्रेंड, विश्लेषण और रोजगार की डिमांड और सप्लाई के बीच अंतराल को उजागर करें

3. उम्मीदवार आवेदन - उम्मीदवार का प्रोफ़ाइल बनाएं और नौकरी ट्रैक करें, नौकरी का सुझाव साझा करें 

ASEEM-PORTAL-WEBSITE

असीम पोर्टल पर आवेदन प्रक्रिया -

असीम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए आपको पहले आसीम पोर्टल के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा वहां पर आपको अपना यूजर अकाउंट बनाना होगा. इस अकाउंट में आप अपनी शैक्षिक योग्यता, अनुभव और पूर्व जॉब के बारे में जानकारी भरेंगे. पूरी जानकारी भरने के बाद आपका डेटा यहाँ पर सेव हो जायेगा.

असीम पोर्टल पर नौकरी कैसे मिलेगी?

नौकरी देने वाले विभिन्न एम्प्लायर आपको अपनी जरुरत की नौकरी के हिसाब से कांटेक्ट करेंगे. आप जिस फील्ड में नौकरी कर चुके होंगे या कर सकने की काबिलियत रखेंगे उसी हिसाब से आपको नौकरी के ऑफर मिलेंगे.

इस पोर्टल पर फ्रेशेर्स को भी जॉब के ऑफर मिलेंगे अर्थात जिन लोगों ने पहले नौकरी नहीं की है उनको भी जॉब मिल सकेगी.

इस प्रकार स्पष्ट है कि सरकार कोरोना बीमारी के कारण बेरोजगार हुए लोगों को उनके हुनर और योग्यता के अनुसार ही नौकरी देने के लिए प्रयास कर रही है. अब यह तो समय ही बताएगा कि यह पोर्टल कितना सफल होगा?

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) के लिए कैसे करें आवेदन? और कैसे उठाएं लाभ?

'गूगल फॉर इंडिया डिजिटलीकरण कोष’ क्या है?