Search

जैविक प्रच्छादन क्या होता है और ग्लोबल वार्मिंग के युग में इसकी महत्ता क्या है

01-JUN-2018 09:36

    What is Biological Sequestration and its importance in the era of Global warming? HN

    जैविक प्रच्छादन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा पौधों और सूक्ष्म जीवों द्वारा वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड का शुद्ध निष्कासन तथा वनस्पति बायोमास और मिट्टी में इसका भंडारण किया जाता है। जलवायु परिवर्तन नीति के हिस्से के रूप में ग्रीन हाउस गैस और कार्बन उत्सर्जन को संतुलित करने के लिए जैविक प्रच्छादन शब्द का इस्तेमाल किया जाता है।

    जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) का महत्व

    औद्योगिक क्रांति से लेकर आधुनिक युग तक, ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लगभग 136,000 मिलियन टन कृषि और पशुधन उत्पादन के लिए भूमि समाशोधन से आए हैं। यहां तक कि समकालीन विश्व में, 13% से अधिक उत्सर्जन मानव गतिविधियों जैसे जीवाश्म ईंधन के दहन से आता है। इसलिए, जैविक प्रच्छादन की अवधारणा स्पष्ट और अपर्याप्त भूमि के पुनर्वास के लिए राहत का संकेत है।

    1. यह तुलनात्मक रूप से कम लागत पर कार्बन को बड़ी मात्रा में प्रच्छादन कर सकता है।

    2. यह मिट्टी, जल संसाधन, आवास, और जैव विविधता की रक्षा या सुधार कर सकता है।

    3. यह ग्रामीण आय में वृद्धि कर सकता है।

    4. यह अधिक स्थायी कृषि और वानिकी प्रथाओं को बढ़ावा देता है।

    5. जैविक प्रच्छादन के कारण कम कार्बन वाला भूमि की तुलना में अधिक कार्बन वाला भूमि अधिक उत्पादक होता है क्युकी अधिक कार्बन वाली भूमि में जैविक क्रिया जयादा होती है और अधिक उत्पादन में सहायता करता है।

    क्या आप जानते हैं ग्लोबल डिमिंग या सार्वत्रिक दीप्तिमंदकता क्या है

    जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) और प्रकाश संश्लेषण

    Biosequestration and Photosynthesis

    वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड 1750 AD में लगभग 280 पीपीएम था जो 2007 में आते-आते 383 पीपीएम तक पहुच गया है और अब प्रति वर्ष 2 पीपीएम (प्रति मिलियन भाग) की औसत दर से बढ़ रहा है। इसलिए, जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) प्रक्रिया और रूबिस्को (रिबुलोज़ -1, 5-बिस्फोस्फेट कार्बोक्साइल / ऑक्सीजनेज) द्वारा पौधे जीन में संशोधन के माध्यम से प्रकाश संश्लेषण दक्षता को बढ़ाया जा सकता है। इस संशोधन के माध्यम से, संयंत्र में प्रकाश संश्लेषण की उत्प्रेरक और / या ऑक्सीजन गतिविधि में वृद्धि होगी और पौधे ज्यादा से ज्यादा कार्बन डाइऑक्साइड को संचित कर, ऑक्सीजन ज्यादा उत्सर्जन करेगा।

    सुपोषण क्या है और जलीय पारिस्थितिक तंत्र को कैसे प्रभावित करता है?

    जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) और जलवायु परिवर्तन नीति

    जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) जीवों के आवश्यक संसाधनों में अपने सामूहिक और व्यक्तिगत योगदान को बढ़ाने के लिए मनुष्यों की सहायता करता है। यह पारिस्थितिकी, स्थायित्व और सतत विकास के सिद्धांतों के साथ-साथ जैवमंडल, जैव विविधता और पारिस्थितिकी तंत्र संरक्षण, पर्यावरणीय नैतिकता, जलवायु नैतिकता और प्राकृतिक संरक्षण के सिद्धांतों के साथ जैव सुरक्षा के लिए नीतिगत मामला अतिछादन (overlap) करता है।

    औद्योगिकीकरण से अत्याधिक कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन ने विध्वंस का रूप ले लिया है जैसे जलवायु परिवर्तन, ग्लोबल वार्मिंग आदि। इसलिए, उद्योगपति और पर्यावरणविदो ने जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) के माध्यम से ग्रीनहाउस गैस उत्पादन को नियंत्रित करने का समर्थन किया है।

    क्षारीय मृदा क्या होता है और इसका उपचार जिप्सम के माध्यम से कैसे किया जाता है?

    ऑस्ट्रेलिया के एक विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओ ने जैव ईंधन (हाइड्रोजन और बायोडीजल तेल) का उत्पादन करने के लिए जैव प्रौद्योगिकी की मदद से शैवाल पर शोध किया हैं और अब इस प्रक्रिया का प्रयोग कार्बन प्रच्छादन पर भी किया जा रहा है।

    संयुक्त राष्ट्र ने एफएओ, यूएनडीपी और यूएनईपी के सहयोग से विकासशील देशों (वन-रेड कार्यक्रम) में वनों की कटाई की वजह से उत्सर्जन को कम करने के लिए कार्यक्रम शुरू किया गया है।  जिसके तहत जुलाई 2008 में स्थापित एक ट्रस्ट फंड दाताओं को आवश्यक हस्तांतरण उत्पन्न करने के लिए संसाधनों को पटल तक लाने की अनुमति देता है ताकि  वनों की कटाई की वजह से जो वैश्विक उत्सर्जन हो रहे हैं उनको कम किया जा सके।

    इसलिए कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन पर रोक केवल उत्सर्जन की  नीति और जैविक प्रच्छादन (Biosequestration) के माध्यम से ही किया जा सकता है। संशोधित प्रकाश संश्लेषण [जैविक प्रच्छादन (Biosequestration)] और वनस्पति का पुनरुत्थान वायुमंडल से ग्रीनहाउस गैसों को कम करने का एकमात्र तरीका है, अन्यथा हमें ग्लोबल वार्मिंग के गंभीर प्रभाव को रोकने के लिए कार्बन व्यापार नियम को और भी सख्त बनाना पड़ेगा।

    पर्यावरण और पारिस्थितिकीय: समग्र अध्ययन सामग्री

    Newsletter Signup

    Copyright 2018 Jagran Prakashan Limited.
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK