Search

'हाई ग्रेड' मेटास्टैटिक कैंसर क्या है?

कैंसर तब होता है जब असामान्य कोशिकाएं अनियंत्रित तरीके से विभाजित होती हैं और शरीर में लगभग कहीं भी विकसित हो सकती हैं. आइए इस लेख के माध्यम से हाई ग्रेड मेटास्टैटिक कैंसर, इसके लक्षण, कहां-कहां यह शरीर में फैलता है, इसके होने के कारण इत्यादि के बारे में अध्ययन करते हैं.
Feb 4, 2019 19:25 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
What is High Grade Metastatic Cancer and its Symptoms?
What is High Grade Metastatic Cancer and its Symptoms?

हम जानते हैं कि कोशिकाएं जीवन की मूल इकाई हैं और हमारा शरीर कोशिकाओं से बना हुआ है. कोशिका नई कोशिकाओं में विभाजित होती हैं और इनसे ऊतक, ऊतकों से अंग, अंग से अंग प्रणाली और अंत में जीव का निर्माण होता है. आम तौर पर, जब कोशिकाएं बहुत पुरानी या क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो कोशिकाएं मर जाती हैं. फिर, नई कोशिकाएं अपना स्थान लेती हैं. इस तरह से हमारे शरीर में कोशिकाएं एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं.

इसलिए, कैंसर तब होता है जब असामान्य कोशिकाएं अनियंत्रित तरीके से विभाजित होती हैं. यह 100 से अधिक विभिन्न बीमारियों का एक समूह है. क्या आप जानते हैं कि कैंसर शरीर में लगभग कहीं भी विकसित हो सकता है.

असल में, कैंसर तब विकसित होता है जब अनुवांशिक परिवर्तन व्यवस्थित प्रक्रिया में हस्तक्षेप करते हैं और परिणामस्वरूप कोशिकाएं अनियंत्रित तरीके से बढ़ने लगती हैं और ट्यूमर नामक द्रव्यमान बन जाता हैं. यह निर्भर करता है कि ट्यूमर, कैंसर का रूप है या सौम्य है. अगर ट्यूमर कैंसर का र्रूप ले लेता है तो यह घातक होता है यानी यह शरीर में कहीं भी बढ़ सकता है और अन्य हिस्सों में फैल सकता है. जबकि सौम्य ट्यूमर शरीर में बढ़ सकता है लेकिन शरीर के अन्य हिस्सों में फैलता नहीं है.

अब हम 'हाई ग्रेड' मेटास्टैटिक कैंसर के बारे में अध्ययन करते हैं.

इसमें कोई संदेह नहीं है जब हम कैंसर के बारे में कुछ खबर सुनते या देखते हैं तो यह हमारे दिल में डर का कारण बनता है. आजकल, यह काफी फैल रहा है. इसलिए कैंसर क्या होता है, इसके चरण, लक्षण, उपचार इत्यादि के बारे में ज्ञान रखना महत्वपूर्ण है.

सबसे पहले हम मेटास्टैटिक या मेटास्टेसिस शब्द के बारे में अध्ययन करेंगे.

मेटास्टेसिस में शरीर के एक हिस्से से, रक्त या लिम्फैटिक प्रणाली के माध्यम से कैंसर का फैलाव होता है और शरीर के अन्य हिस्सों में मेटास्टैटिक ट्यूमर के रूप में एक नए ट्यूमर का निर्माण हो जाता है. इसका गंभीर होने का मुख्य कारण यह है कि यह शरीर में फैलने की क्षमता रखता है. यदि कैंसर मूल या प्राथमिक साइट के करीब लिम्फ नोड्स या ऊतकों तक फैलता है तो यह एक क्षेत्रीय या स्थानीय मेटास्टेसिस (regional or local metastasis) कहलाता है. लेकिन अगर कैंसर ऊतकों या अंगों से दूर फैलता है तो इसे दूरस्थ मेटास्टेसिस (distant metastasis) कहा जाता है. मेटास्टेसिस को 'मेटास्टैटिक कैंसर' या 'चरण 4 कैंसर' भी कहते है. उदाहरण के लिए, यदि स्तन कैंसर फेफड़ों में फैलता है तो इसे मेटास्टैटिक स्तन कैंसर कहते है ना कि फेफड़ों का कैंसर. इस मामले में, कैंसर को चरण IV स्तन कैंसर के रूप में माना जाता है.

अब, हम 'हाई ग्रेड' कैंसर का अध्ययन करेंगे?

कैंसर, चरणों में होता है और I से IV के रूप में लेबल किया जाता है, परन्तु IV चरण कैंसर का सबसे गंभीर रूप माना जाता है. प्रत्येक चरण परिभाषित करता है कि ट्यूमर कितना बड़ा है और यह कितना दूर शरीर में फैल गया है.

हाई ग्रेड कैंसर में, कोशिकाएं सामान्य कोशिकाओं की तुलना में बहुत अलग दिखती हैं, वे खराब दृष्टिकोण के साथ बहुत जल्दी बढ़ती हैं. निम्न ग्रेड कैंसर की तुलना में, हाई ग्रेड कैंसर में विभिन्न प्रकार के उपचारों की आवश्यकता होती है.

विश्व कैंसर दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

कैंसर के चरणों के प्रकार

चरण 0 का मतलब है कि कैंसर नहीं है लेकिन होने की संभावना के कारण कुछ असामान्य कोशिकाएं उत्पन्न होने लगी हैं.

चरण I का मतलब है कि कैंसर छोटा है और एक क्षेत्र में फैल गया है. इसे कैंसर के शुरुआती चरण के रूप में भी जाना जाता है.

चरण II और III का मतलब है कि कैंसर बड़ा है और पास के ऊतकों या लिम्फ नोड्स में बढ़ गया है.

चरण IV का मतलब है कि कैंसर शरीर के अन्य हिस्सों में फैल गया है और यह उन्नत या मेटास्टैटिक कैंसर के रूप में जाना जाता है.

इसलिए, हम कह सकते हैं कि ग्रेड एक ऐसा उपाय है जिसके माध्यम से कैंसर को माइक्रोस्कोप में देखने के बाद पता लगाया जा सकता है की वह कितना असामान्य है. यह विभेदीकरण (Differentiation) के रूप में भी जाना जाता है. ग्रेडिंग महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे कोशिकाओं की स्थिति, उनकी वृद्धि और वे कितनी तेजी से फैल रहे हैं, के बारे में पता चलता है.

मेटास्टैटिक कैंसर के लक्षण

मेटास्टैटिक कैंसर हमेशा लक्षण नहीं दिखाता है. यदि लक्षण होते हैं तो उनकी प्रकृति और आवृत्ति मेटास्टैटिक ट्यूमर के आकार और स्थान पर निर्भर करति है. कुछ आम संकेतों में शामिल हो सकते हैं:

- सिरदर्द, दौरा, या चक्कर आना (जब कैंसर मस्तिष्क में फैलता है)

- दृश्य समस्याएं

- दर्द और फ्रैक्चर

- सांस की तकलीफ (जब कैंसर फेफड़ों में फैल जाता है)

- पेट में जांडिस या सूजन (जब कैंसर यकृत में फैल जाता है)

- चलने में कठिनाई या भ्रम का होना

क्या आप जानते हैं कि मेटास्टैटिक कैंसर शरीर में कहाँ-कहाँ फैलता है?

मेटास्टैटिक कैंसर शरीर के किसी भी हिस्से में फैल सकता है. सबसे आम साइट जहां कैंसर फैल सकता है हड्डी, यकृत और फेफड़े हैं.

- स्तन कैंसर हड्डियों, यकृत, फेफड़ों, सीने और मस्तिष्क में फैलता है.

- मूत्राशय कैंसर हड्डी, यकृत और फेफड़ों में फैल जाता है.

- प्रोस्टेट कैंसर हड्डियों में फैलता है.

- अंडाशय का कैंसर यकृत, फेफड़े, और पेरिटोनियम में फैलता है.

- गर्भाशय का कैंसर, हड्डी, यकृत, फेफड़ों, पेरीटोनियम, और वेजाइना में फैलता है.

- कोलोन और रेक्टल कैंसर, यकृत और फेफड़ों में फैलता है.

- फेफड़ों का कैंसर मस्तिष्क, हड्डियों, यकृत, और एड्रेनल ग्रंथियों में फैलता है.

इसलिए, हम कह सकते हैं कि मेटास्टैटिक कैंसर शरीर के विभिन्न हिस्सों में फैलता है और यह आवश्यक नहीं है कि इसके होने के लक्षण हो.

AIDS बीमारी की शुरुआत कब और कहां से हुई?

न्यूरोपैथी रोग क्या है और यह कैसे होता है?