राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) क्या है?

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR); भारतीय नागरिकों का डेटा बेस है. इसमें नागरिकों की जन्म तिथि, वैवाहिक स्थिति, जन्म स्थान और राष्ट्रीयता (घोषित) आदि से संबंधित जानकारी लिखी जाती है. देश में योजनाओं को बनाने के लिए इस रजिस्टर का अधिक काम पड़ता है इसलिए सभी नागरिकों के लिए NPR में पंजीकरण कराना अनिवार्य है.
Created On: Jan 14, 2020 15:55 IST
Modified On: Jan 14, 2020 15:55 IST
National Population Register
National Population Register

राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) और नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूरे देश में अफरा-तफरी मची हुई है. ऐसी माहौल में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) के लिए पहल शुरू होने से लोगों के मन में बहुत विभ्रान्ति उत्पन्न हो गयी है. 

बहुत से लोग नहीं जान पा रहे हैं कि आखिर ये राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) क्या है और इसे क्यों अपडेट किया जा रहा है? आइये इस लेख में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) के बारे में जानते हैं.

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) क्या है?(What is The National Population Register (NPR)

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR); जन्म तिथि, वैवाहिक स्थिति, जन्म स्थान और राष्ट्रीयता (घोषित) आदि से संबंधित भारतीय नागरिकों का एक डेटा बेस है अर्थात NPR देश के सभी नागरिकों के जनसांख्यिकी विवरणों का डेटा है. सभी नागरिकों के लिए एनपीआर में पंजीकरण और सरकार को सही विवरण बताना अनिवार्य है.

ज्ञातव्य है कि भारत में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार के तहत कारगिल समीक्षा समिति ने गैर-नागरिकों और नागरिकों के अनिवार्य पंजीकरण की सिफारिश की थी. इन सिफारिशों को 2001 में स्वीकार किया गया था. 

वर्तमान में जारी एनपीआर अपडेट की प्रक्रिया असम को छोड़कर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में की जाएगी जिसे अप्रैल से सितंबर के बीच पूरा किया जायेगा.

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के उद्देश्य (Objectives of The National Population Register-NPR)

दरअसल, केंद्र और राज्य सरकारें कई जन कल्याणकारी योजनायें बनातीं हैं. लेकिन सरकार को कोई योजना बनाने से पहले यह जानना जरूरी होता कि जिन लोगों के लिए कोई योजना बनायी जा रही है उन लोगों की संख्या कितनी है, उनकी आर्थिक स्थिति कैसी है, उनकी क्या आवश्यकताएं हैं और वे देश के किस राज्य में रहते हैं इत्यादि?

इस प्रकार, NPR का मूल उद्देश्य देश के नागरिकों का पूरा जनसांख्यिकीय डेटा एकत्र करना है. इस एनपीआर डेटा में न केवल जनसांख्यिकीय बल्कि बायोमेट्रिक डेटा भी होगा.
इस सम्बन्ध में और स्पष्टता लाते हुए जनगणना आयोग ने कहा है कि NPR का उद्देश्य देश के प्रत्येक "सामान्य निवासी" का एक व्यापक पहचान डेटाबेस तैयार करना है.

NPR में किस तरह का डेटा शामिल किया जाएगा?

NPR में मूल रूप से संबंधित देश के प्रत्येक व्यक्ति के जनसांख्यिकीय विवरण को कवर किया जायेगा. ये डेटा होगा;

1. राष्ट्रीयता (घोषित)

2. व्यक्ति का नाम

3. जन्म तिथि 

4. जन्म स्थान 

5. माँ का नाम

6. पिता का नाम

7. लिंग 

8. वैवाहिक स्थिति

9. पति का नाम (यदि विवाहित है)

10. स्थायी आवासीय पता

11. शैक्षिक योग्यता

12. व्यवसाय 

13. वर्तमान पते पर रहने की अवधि

14. सामान्य निवास का पता

15. घर के मुखिया से सम्बन्ध 

NPR की वर्तमान स्थिति क्या है? (What is the current status of the NPR)

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के लिए डेटा 2010 में भारत की जनगणना 2011 के साथ एकत्र किया गया था. जनगणना के दौरान एकत्र किए गए डेटा को 2015 में पहले ही अपडेट किया जा चुका है और इसे डिजिटल भी बनाया जा चुका है.

अब सरकार ने जनगणना 2021 के साथ-साथ राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को अपडेट करने का फैसला किया है. यही वजह है कि NPR चर्चा में है.

इसलिए एनपीआर के अपडेशन से सरकार को देश के लक्षित समूहों का आकलन करने में मदद मिलेगी, ताकि केंद्र पोषित योजनाओं के कार्यान्वयन से पहले उचित योजना बनाई जा सके.

राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) क्या है और इसके लिए कौन-कौन से डाक्यूमेंट्स मान्य हैं?

Get the latest General Knowledge and Current Affairs from all over India and world for all competitive exams.
Comment (0)

Post Comment

0 + 7 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.