Search

एन 95 मास्क, फेस शील्ड, सर्जिकल या कपड़े का मास्क: कोरोनावयरस महामारी से बचने के लिए कौन-सा मास्क ज़्यादा प्रभावी है?

कोरोनावायरस महामारी के फैलने के बाद से ही चेहरे को ढकने की कवायद शुरू हो गई। सर्जिकल मास्क से लेकर एन 95 मास्क और फेस शील्ड सभी का उपयोग किया जाने लगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इनमें से कौन-सा मास्क ज़्यादा प्रभावी है और क्यों?
Sep 9, 2020 12:16 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
Types of Masks
Types of Masks

कोरोनावायरस महामारी के फैलने के बाद से ही चेहरे को ढकने की कवायद शुरू हो गई। सर्जिकल मास्क से लेकर एन 95 मास्क और फेस शील्ड सभी का उपयोग किया जाने लगा। लेकिन इनमें से कौन-सा मास्क ज़्यादा प्रभावी है, ये जानने के लिए एक अध्ययन किया गया। 

फिजिक्स ऑफ फ़्लूइड जर्नल में प्रकाशित इस नए अध्ययन में वायरल कणों को अवरुद्ध करने में फेस शील्ड, वाल्व्ड मास्क और कपड़े के मास्क की प्रभावशीलता की तुलना की गई। कोरोनावायरस महामारी के मद्देनजर, यह रोग के संचरण को समझने के लिए किए गए कई अध्ययनों में से एक है।

Ignaz Semmelweis: 19 वीं सदी का ऐसा व्यक्ति जिसने लोगों को हाथ धोना सिखाया

मास्क फिल्टर के रूप में कार्य करते हैं और उन बूंदों और कणों को पकड़ते हैं जिन्हें हम निष्कासित करते हैं। लेकिन आपको कौन-सा मास्क पहनना चाहिए-- कपड़े का मास्क, एन 95 मास्क या सर्जिकल मास्क? वाल्व वाला मास्क या फेस शील्ड-- दोनों में से कौन ज़्यादा प्रभावी है? इन सभी सवालों के जवाब अध्ययन में मौजूद हैं।

विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोनावायरस से बचने के लिए चेहरे को किसी भी तरह से ढकना ज़रूरी है। चेहरे को न ढकना, चेहरे को ढकने से बेहतर है। 

कपड़े का मास्क या एन 95 मास्क या फेस शील्ड: कौन ज़्यादा प्रभावी है?

फिजिक्स ऑफ फ़्लूइड जर्नल में प्रकाशित एक नए अध्ययन के अनुसार फेस शील्ड्स और  वाल्व्ड मास्क, कपडे के मास्क की तुलना में वायरल कणों को अवरुद्ध करने में कम प्रभावी होते हैं।

अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने ग्लिसरीन और आसुत जल के वाष्पीकृत मिश्रण को खांसी और छींकने के लिए इस्तेमाल किया गया और मुंह से निकलने वाले कणों और बंदों को लेज़र्स की मदद से ट्रेस किया गया।

अध्ययन के मुख्य बिन्दु इस प्रकार हैं:

1- फेस शील्ड (Face Shield)

खांसी से शुरुआती छींटों और कणों को रोकने में फेस शील्ड  काफी प्रभावशाली निकली, लेकिन एयरोसोल कणों के बड़े प्ल्यूम्स शील्ड के पीछे और नीचे से बाहर आ गए। ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि फेस शील्ड पहनने वाला इंसान अपने आसपास के लोगों को खतरे में डाल रहा है।

2- वाल्व्ड मास्क (Valved Masks)

अगर वाल्व में किसी भी प्रकार की ख़राबी है, तो वाल्व्ड मास्क चिंता का विषय हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि एन 95 मास्क पहनने वाले इंसान के भी कीटाणु छींकने या खासने के बाद बाहर आ जाते हैं। 

3- सर्जिकल या कपड़े के मास्क (Surgical or Regular Masks)

अध्ययन में पाया गया कि कपड़े के मास्क बाकी सभी मास्क्स से ज़्यादा प्रभावशाली हैं। एन 95 मास्क और सर्जिकल मास्क कणों की एक महत्वपूर्ण मात्रा को अवरुद्ध करते हैं, लेकिन ये तब प्रभावी हैं जब व्यक्ति सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करता हो जिससे उसके आसपास के लोग भी सुरक्षित रहें। 

किस मास्क का उपयोग करना चाहिए?

अध्ययन के अनुसार, कोविड-19 महामारी से बचने के लिए ऐसे कपड़े के मास्क का उपयोग करना चाहिए जिसमें कम से कम दो परते हों और मास्क नाक और चेहरे को ढकते हुए ठोड़ी के नीचे तक जाए। इसके अलावा फेस शील्ड तब कारगार है जब उसे एक मास्क के साथ पहना जाए, जिससे उसके आसपास के लोग सुरक्षित रहें।

बाकी सभी प्रकार के मास्क्स की तुलना में सर्जिकल या कपड़े के मास्क ज़्यादा प्रभावी हैं क्योंकि व्यक्ति के मुंह से निकलने वाली बूंद यदि 10 माइक्रोन या उससे कम हैं, तो फेस शील्ड और वाल्व्ड मास्क प्रभावी नहीं हैं।

जानिए जब अर्थव्यवस्था गिर रही है तो शेयर बाजार क्यों चढ़ रहा है?

Related Categories